ग्राम रोजगार सहायकों ने जनपद सीईओ को सौंपा सामूहिक इस्तीफा - revanchal times new

revanchal times new

निष्पक्ष एवं सत्य का प्रवर्तक

Breaking

रेवांचल टाइम्स अखबार पाठकों से अनुरोध करता है कि आप अपने सुझाव हम तक जरूर भेजें.. ताकि आने वाले समय मे हम आपकी मदद से और भी बेहतर कार्य कर सकें... साथ ही यदि आपको लेख अच्छा लगे तो इसे ओरों तक भी पहुंचाए.. प्रकाशन हेतु ख़बरें, विज्ञप्ति मोबाइल- 9406771592 पर व्हाट्सएप्प करें

Sunday, September 27, 2020

ग्राम रोजगार सहायकों ने जनपद सीईओ को सौंपा सामूहिक इस्तीफा





मामला जनपद पंचायत लांजी का

रेवांचल टाइम्स बालाघाट :अपनी अनेक मांगों और मजबूरियों को प्रदर्षित करता हुआ ज्ञापन के माध्यम से इस्तीफे सौंपे जाने का उल्लेख करते हुए लांजी जनपद पंचायत सीईओ रंजित ताराम को ज्ञापन सौंपा गया, जिसमें कहा गया है कि यदि किसी कार्य में अनियमितता होती है तो उक्त कार्य के तहत सभी जिम्मेदारों पर कार्यवाही की जानी चाहिए।


- यह कहा गया ज्ञापन में

सौंपे गए ज्ञापन में कहा गया है कि ग्राम पंचायतों में सभी कार्य सरपंच, सचिव, ग्राम रोजगार सहायक, पंचायत समन्वयक अधिकारी एवं उपयंत्री द्वारा संयुक्त रूप से कार्य किया जाता है। कार्य में किसी भी प्रकार की गलती पाए जाने पर ग्राम रोजगार सहायकों पर एक तरफा कार्यवाही की जा रही है। ग्राम पंचायत सिरेगांव आवास चयन में गड़बड़ी के संबंध में केवल ग्राम रोजगार सहायक को ही 22 अगस्त को कारण बताओं नोटिस जारी किया गया जबकि आवास सत्यापन में सरपंच, सचिव ग्राम रोजगार सहायक एवं पंचायत समन्वयक अधिकारी द्वारा किया जाता है। ग्राम पंचायत ककोड़ी जीआरएस को मनरेगा में वसूली के साथ-साथ आवास चयन में लापरवाही के संबंध में सेवा समाप्त किया गया, जबकि इसमें भी सरपंच, सचिव एवं पंचायत समन्वयक अधिकारी की संयुक्त जिम्मेदारी है। ग्राम रोजगार सहायकों को न्यूनतम पारिश्रमिक पिछले 7-8 वर्ष हो गए परंतु कोई इंक्रीमेंट नहीं हो रहा है, इतने कम पारिश्रमिक में एक रोजगार सहायक परिवार का भरण-पोषण नहीं कर सकते। ग्राम रोजगार सहायकों को न्यूनतम पारिश्रमिक 9000 रूपये दिया जाता है। पंचायत के सभी कार्याे को जीआरएस के द्वारा किया जाता है और मनरेगा में प्रगति नहीं आने पर राषि कटौती की जाती है। पंचायत के नवीन कार्याे के लिए टीएस करवाने के लिए सिर्फ ग्राम रोजगार सहायकों पर ही दबाव बनाया जा रहा है। उपरोक्त सभी कारणों से परेषान होकर एवं हम सभी ग्राम रोजगार सहायक मानसिक रूप से प्रताड़ित है अतः हम आज सभी पंचायतों के ग्राम रोजगार सहायक सामूहिक त्यागपत्र दे रहे है।


- इनका कहना है


हम लोग मानसिक रूप से प्रताड़ित है, पंचायत का कार्य सामूहिक तौर पर आपसी समन्वय बनाकर किया जाता है लेकिन कार्य में प्रगति नहीं होने पर सारी जिम्मेदारी हम पर डाल दी जाती है, उसी प्रकार कम पारिश्रमिक दिया जाता है और कार्य में जवाबदेही बनाकर वेतन भी काट लिया जाता है। ऐसे मानसिक दबाव के चलते हमारे द्वारा सामूहिक रूप से इस्तीफा दिया जनपद पंचायत सीईओ को सौंपा गया है।

(भुवन फुल्लारे, सचिव ग्राम रोजगार सहायक संघ लांजी)


रोजगार सहायक अपनी कुछ मांगो को लेकर चर्चा करना चाहते थे, उन्होने सामूहिक रूप से अपना इस्तीफा सौंपा है। उनके द्वारा कहा गया है कि सभी कार्य सरपंच, सचिव, ग्राम रोजगार सहायक आदि सभी मिलकर कार्य करते है तो उनको ही सिर्फ जिम्मेदार ना बनाया जाए। किसी भी मामले में जिम्मेदारी तय की जाती है ऐसा नहीं है कि सिर्फ उन्हे ही जिम्मेदार बना दिया जाता हो, ऐसे मामले है जिनमे रोजगार सहायकों के अलावा सचिव व सरपंच को भी जिम्मेदार मानकर कार्यवाही की गई है।

(रंजित ताराम, सीईओ जनपद पंचायत लांजी)



रेवांचल टाइम्स बालाघाट से खेमराज बनाफरे की रिपोर्ट

No comments:

Post a Comment