सैकड़ों ग्रामीणों के खाद्यान्न पर्ची से नाम हुए गायब तहसील कार्यालय पहुंचे ग्रामीण - revanchal times new

revanchal times new

निष्पक्ष एवं सत्य का प्रवर्तक

Breaking

रेवांचल टाइम्स अखबार पाठकों से अनुरोध करता है कि आप अपने सुझाव हम तक जरूर भेजें.. ताकि आने वाले समय मे हम आपकी मदद से और भी बेहतर कार्य कर सकें... साथ ही यदि आपको लेख अच्छा लगे तो इसे ओरों तक भी पहुंचाए.. प्रकाशन हेतु ख़बरें, विज्ञप्ति मोबाइल- 9406771592 पर व्हाट्सएप्प करें

Tuesday, August 11, 2020

सैकड़ों ग्रामीणों के खाद्यान्न पर्ची से नाम हुए गायब तहसील कार्यालय पहुंचे ग्रामीण



रेवांचल टाइम्स सिवनी - जनपद पंचायत छपारा के अंतर्गत आने वाली ग्राम पंचायत डानावानी करीब 2000 परिवार निवास करते हैं जिनमें से करीब 500 परिवारों को खाद्यान्न सरकारी दुकान से मिला करता है। बताया जाता है कि इन 500 परिवार में कुल 45 लोगों का नाम ही खाद्यान्न मिलने वाली पर्ची में और राशन कार्ड में बचा है बाकी लोगों के नाम एकाएक गायब कर दिए गए इनमें सभी मजदूर और गरीब तबके के लोग हैं जिनका नाम खाद्यान्न पर्ची से काट दिया गया जिसको लेकर बड़ी संख्या में ग्रामीण छपारा तहसील कार्यालय पहुंचकर आवेदन देते हुए तहसीलदार हो अवगत कराया ।

ग्रामीणों ने बताया कि हम सब गरीबी रेखा के नीचे जीवन यापन कर रहे हैं वैसे ही हमें समय पर मजदूरी नहीं मिल रही है ऊपर से खाद्यान्न पर्ची से नाम काट दिया गया ऐसे में परिवार जल कैसे भरण पोषण कर पाएंगे बताया जाता है कि खाद्यान्न पर्ची में 5 किलो पर व्यक्ति के हिसाब से गेहूं और चावल दिया जाता है जिसमें से कई परिवार के कई सदस्यों के नाम काट दिए गए हैं जिसमें जिन लोगों के नाम बचे हैं उन्हें भी कम खाद्यान्न मिल पा रहा है जबकि बड़ी संख्या में लोगों के नाम खाद्यान्न पर्ची और राशन कार्ड से गायब कर दिए गए अब उन्हें राशन उपलब्ध नहीं हो पाएगा जिसको लेकर चिंता सता रही है ।
जब हमारी टीम की चर्चा  तहसीलदार नितिन गौड़ से हुई तो उन्होंने जानकारी दी कि खाद्यान्न पर्ची से नाम नहीं कटा है एक सर्वे दल बनाया गया था जिसमें खाद्यान्न पर्ची धारकों की दावा आपत्ति बुलाई गई है बहुत सारे लोग ऐसे हैं जो मृत हो गए हैं या अन्य जगह शिफ्ट हो गए हैं ऐसे लोगों सत्यापन को लेकर सर्वे कराया गया था जिसमें सत्यापन के बाद पात्र व्यक्तियों को नियमानुसार खाद्यान्न सभी को उपलब्ध कराया जाएगा।

No comments:

Post a Comment