दैनिक वेतन भोगी का अधिकारी सहित पूरी नगर परिषद में दबदबा बरकरार, कोई नही जो अंगद के पैर की डटे कर्मचारी पर कर सके कार्यवाही... - revanchal times new

revanchal times new

निष्पक्ष एवं सत्य का प्रवर्तक

Breaking

🙏जय माता दी🙏 शुभारंभ शुभारंभ माँ नर्मदा की कृपा और बुजुर्गों के आशीर्वाद से माँ रेवा पब्लिकेशन एन्ड प्रिंटर्स का हुआ शुभारंभ समाचार पत्रों की प्रिंटिग हेतु संपर्क करें मोबाईल न- 0761- 4112552/07415685293, 09340553112,/ 9425852299/08770497044 पता:- 68/1 लक्ष्मीपुर विवेकानंद वार्ड मुस्कान प्लाजा के पीछे एम आर 4 रोड़ उखरी जबलपुर (म.प्र.)

Wednesday, January 25, 2023

दैनिक वेतन भोगी का अधिकारी सहित पूरी नगर परिषद में दबदबा बरकरार, कोई नही जो अंगद के पैर की डटे कर्मचारी पर कर सके कार्यवाही...


रेवांचल टाईम्स - मंडला जिले के अंतर्गत आने वाली नगर परिषद में एक दैनिक वेतन भोगी ने अपना कब्जा जमा रखा हुआ जिसकी पूरे नगर सहित आसपास के ग्रामीण क्षेत्र में जनचर्चा का विषय बना है जहाँ राजनेताओं और जिम्मेदार अधिकारियों के संरक्षण परिषद को खुला चेलेंज कर रहा कि किसमे है दम जो मुझे मेरे मूल पद में भेज सकते और मुझ पर कोई कार्यवाही कर सके क्योंकि में सब को गांधी के दर्शन कराता हूं जो भी आयेगा या जो आदेश होगा वह केवल खाना पूर्ति के लिए होना जाना कुछ नही क्योंकि आज सबसे बड़ी ताकत है गांधी छाप नोट जो हर कोई इसके सामने गांधी जी के तीन बन्दर बन जाते है। ये दैनिक वेतन भोगी जो नगर परिषद के एक छोटे से पद में कार्य कर रहा है शायद इसने सरकारी योजनाएं में ग़बन और भ्रष्टाचार इतना कर लिया है जो आज हर किसी को खरीदने की हिम्मत कर रहा है और शायद ये सच भी हो सकता तभी तो आज मीडिया की सुर्खियों में होने के बाद भी आज तक कोई कार्यवाही न होना ये बड़ी बात है शायद ये सभी को इतना पैसा खिला दिया जिस कारण सब की बोलती बंद पड़ गई यही पूरे नगर में जनचर्चा का विषय बना हुआ कि आखिर कार्यवाही क्यो नही की जा रही कार्यवाही न करने के पीछे की वजय क्या ये तो जिम्मेदार ही बता सकते है, क्या पैसे की दम में जिले से लेकर संभाग के सभी है चुप बेठे है।

          वही जोइंड डारेक्टर केवल कागजो में ही कारण बताओ नोटिश , प्रतिवेदन मांग कर रहे खाना पूर्ति कार्यवाही सिफर 

        वही इन दिनों नगर परिषद निवास में पदस्थ दैनिक वेतन भोगी कर्मचारी मोहन मरूआ बड़ी ही सुर्खियों में चल रहे है और अधिकारी सहित पूरी नगर पंचायत को ऐसा दवाव बना रखा है कि कोई कार्यवाही करने को आगे आ ही नही रहे है, वही निवास नगर पंचायत में सत्ता पार्टी के 10 और 5 काग्रेश के पार्षद है उसके बाद भी इस दैनिक वेतन भोगी के ऊपर कोई कार्यवाही नही करा पा रहे है इससे यह पता लगता है कि अधिकारियों की जेब भरने के साथ साथ यह अध्यक्ष पार्षदों की जेब भी गर्म कर रहे है जिसके कारण इस कर्मचारी पर कोई कार्यवाही नही हो रही है फर्जी फाइल चलाने में महारत इस कर्मचारी के द्धारा   निकाय के पैसे का बंदरबाट कर रहे अगर देखा जाए तो इनके द्वारा पूर्व में जलप्रदाय , स्वच्छता, खरीदी ,सहित अब लोकनिर्माण विभाग, की फाइलों में इनकी ही हेड राइटिंग मिल जाएगी और जमीनी हकीकत और कुछ होगी और फाइल और कुछ बया करेगी इनके द्वारा फर्जी फाइल चला कर अधिकारियों के साथ साथ अपनी जेब भरा जा रहा है मगर सब इतना होने के बाद भीआँख में काली पट्टी बांध कर बैठे है जिसके कारण इनके हौसले बुलंद है और लगातार फर्जी फाइल चला रहे है अगर निकाय की सभी फाइल की जांच की जाए तो हर फाइल में फर्जीवाड़ा निकल कर सामने आएगा । एक तरफ आवारा मवेशियों से किसान परेशान है उसके बाद भी अध्यक्ष को किसी किसान की समस्या नही दिख रही है तो इससे यह लगता है कि अध्यक्ष के लिए भी ये काला पीला कर रहे है जिसके कारण अध्यक्ष के द्वारा इनसे कांजी हाउस खाली नही कराया जा रहा है सूत्रों के अनुसार इस दैनिक वेतन भोगी कर्मचारी मोहन मरुआ बाहर से आकर अधिकारी का इतना हितेषी कैसे बन गया यह सोचनीय सवाल है जबकि परिषद में आधा सैकड़ा से भी ज्यादा कमर्चारी है मगर सब अधिकारी इसे इसलिए महत्व देते है कि यह फर्जी फाइल चला चला कर अधिकारियों की जेब भर रहा है और अपनी जेब भर रहा है ।आज नगरीय और ग्रामीण क्षेत्र के किसान परेशान है और उनकी  समस्या से किसी को मतलब नही है आवारा मवेशियों को बंद करने पर इनके परिजनों को गोबर की बबदू आती है तो कभी मवेशियों के लिए चारा भूसा नही रहता यह कहकर छोड़ दिया जाता है ।विगत दिनों रेवांचल टीम के द्वारा प्रमाण सहित खबर लगाई गई थी कि दिसबर माह में केवल 3 मवेशी को रखा गया था और 5 को छोड़ दिया गया था उसके बाद भी कार्यवाही न होना इस बात को उजागर करता है कि सीएमओ कुम्हरे  की जेब गर्म की जा रही है और साथ साथ अध्यक्ष हेमलता परस्ते को भी इनसे लाभ हो रहा है ।वही सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार नगर पंचायत के कुछ पार्षद इस दैनिक वेतन भोगी कर्मचारी को कांजी हाउस से अलग करने के लिए 26 जनवरी के बाद पत्राचार करने वाले है ।और जल्द से जल्द इस कर्मचारी से कांजी हाउस खाली कराया जाएगा ऐसी चर्चा निवास सहित आसपास के किसानों में चल रही है ।

No comments:

Post a Comment