कांग्रेस के स्थापना दिवस में खुल के दिखा खुल के गुटबाजी आज सबक नही ले पा रहे है पार्टी के जिम्मेदार.... - revanchal times new

revanchal times new

निष्पक्ष एवं सत्य का प्रवर्तक

Breaking

🙏जय माता दी🙏 शुभारंभ शुभारंभ माँ नर्मदा की कृपा और बुजुर्गों के आशीर्वाद से माँ रेवा पब्लिकेशन एन्ड प्रिंटर्स का हुआ शुभारंभ समाचार पत्रों की प्रिंटिग हेतु संपर्क करें मोबाईल न- 0761- 4112552/07415685293, 09340553112,/ 9425852299/08770497044 पता:- 68/1 लक्ष्मीपुर विवेकानंद वार्ड मुस्कान प्लाजा के पीछे एम आर 4 रोड़ उखरी जबलपुर (म.प्र.)

Thursday, December 29, 2022

कांग्रेस के स्थापना दिवस में खुल के दिखा खुल के गुटबाजी आज सबक नही ले पा रहे है पार्टी के जिम्मेदार....



रेवांचल टाईम्स - कांग्रेस स्थापना दिवस के दिन खुलकर दिखी गुटबाजी। वही कांग्रेस  का 138 वा स्थापना दिवस मनाया गया जिसमें अनेक जगह संस्कारधानी में कार्यक्रम आयोजित किए गए वहीं दूसरी ओर मध्यप्रदेश के पूर्व कैबिनेट मंत्री माननीय सज्जन सिंह वर्मा के मुख्य आतिथ्य में जिला कांग्रेस कमेटी मंडला में आयोजित कांग्रेसी स्थापना दिवस वा कार्यकर्ता सम्मेलन संपन्न हुआ सरकार जाने के बाद पहली बार पूर्व केंद्रीय मंत्री सज्जन सिंह वर्मा वायु मार्ग से इंदौर से जबलपुर पहुंचे जहां वे जबलपुर जिले की बरगी विधानसभा के विधायक संजय यादव के निवास पहुंचे और उनसे मुलाकात की यह तो एक तयशुदा कार्यक्रम था किंतु आज महाकौशल में मध्य प्रदेश सरकार में रहे कैबिनेट मंत्री और मध्य प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष माननीय कमलनाथ जी के सबसे करीबी जो कि मध्य प्रदेश शासन के पूर्व कैबिनेट लोक निर्माण मंत्री रह चुके हैं  आज जिस तरह उन्हें एक ऑफलाइन नेता ने कांग्रेस कार्यकर्ताओं और पधाधिकारीयो से दूर रखा और तो और इनकी जबलपुर आने की सूचना नेता नगरी से जुड़े लोगों को नहीं थी और ना ही मीडिया के लोगो एक और जहां कांग्रेस में कार्यकर्ताओं का अभाव  देखने मिल रहा है वहीं दूसरी ओर ऐसी मानसिकता के लोग जो राजनीति में जुड़े हैं उनके लिए संगठन को गंभीर रूप से विचार करना होगा यदि थोड़ा सा प्रयास जबलपुर संस्कारधानी के नेता जो कांग्रेस संगठन से जुड़े हैं उनको समय पर इनके जबलपुर पहुंचने की सूचना मिल जाती तो शायद मंडला के कार्यकर्ता सम्मेलन में इनके साथ एक काफिला मंडला पहुंचता जहां संगठन की ताकत दिखाई पड़ती किंतु शायद कुछ लोग आज भी इतना सब होने के बाद भी गुप्त रूप से कांग्रेस पार्टी को घुन की तरह खा रहे हैं और जब अवसर मिलता है तो वह अपना मुख्यालय छोड़कर भोपाल में डेरा डाल दिया करते हैं तथा  अधिकारियों के तबादले से जुड़े मुद्दों को लेकर कमलनाथ जी के करीबी मंत्रियों से मन मुताबिक काम कराया करते हैं आज अत्यंत मायूस होकर कार्यकर्ता जो कि सौरभ भाटी शर्मा के कार्यालय में बिजली आंदोलन से जुड़े नव पदाधिकारियों की नियुक्ति के संदर्भ में एकत्रित हुए थे उन्हें महज एक झलक ही सज्जन सिंह वर्मा जी की  देखकर अपने मन को दिलासा देना पड़ा यही हाल रहा तो वे दिन दूर नहीं जब महाकौशल से विधानसभा सीटें कांग्रेस के पक्ष में कम हो जाएंगी सरकार बनने में यह स्पष्ट हो चुका था कि आदिवासी क्षेत्र से जुड़े विधायक ही सत्ता हासिल करवाने में अहम भूमिका अदा करते हैं किंतु शायद मुंह लगे कुछ नेता आदिवासी विधायकों से गैर व्यावहारिकता से बात किया करते हैं जैसे कि उन्होंने अनेक चुनाव में लाखो बोट से चुनाव  जीत कर काग्रेस में अपना   स्थान हासिल किए हे और उसका रूतवा दिखा रहे हो बेक डोर से दरबारी पद हासिल करना आसान होता है किंतु संघर्ष से पद मिलना दोनो में जमीन आसमान का अंतर होता है आज की इस हरकत से समूचे कांग्रेश संगठन से जुड़े वह कांग्रेसी मानसिकता रखने वाले लोगों में मायूसी छाई हुई है इतने बड़े राजनेता का जबलपुर जैसे राजनैतिक गढ़ में आना और उसे  गोपनीय   रखना यह बात लोगों को हजम नहीं हो रही है अब देखना यह है कि प्रदेश संगठन के मुखिया मध्य प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ जी ऐसे नेताओं को और कब तक तवज्जो दिया करेंगे जो कि अंदर ही अंदर पार्टी को खोखला कर रहे हैं  आज का दौरा की कमान यदि किसी कांग्रेस हिट सोचने वाले व्यक्ति के पास होती तो शायद सज्जन सिंह वर्मा जी का आगमन कार्यकर्ताओं में जोश डाल देता।

No comments:

Post a Comment