तीन दिवसीय सतबहिनी मेले में दूसरे दिन उमडा जन सैलाब... - revanchal times new

revanchal times new

निष्पक्ष एवं सत्य का प्रवर्तक

Breaking

🙏जय माता दी🙏 शुभारंभ शुभारंभ माँ नर्मदा की कृपा और बुजुर्गों के आशीर्वाद से माँ रेवा पब्लिकेशन एन्ड प्रिंटर्स का हुआ शुभारंभ समाचार पत्रों की प्रिंटिग हेतु संपर्क करें मोबाईल न- 0761- 4112552/07415685293, 09340553112,/ 9425852299/08770497044 पता:- 68/1 लक्ष्मीपुर विवेकानंद वार्ड मुस्कान प्लाजा के पीछे एम आर 4 रोड़ उखरी जबलपुर (म.प्र.)

Sunday, December 4, 2022

तीन दिवसीय सतबहिनी मेले में दूसरे दिन उमडा जन सैलाब...




रेवांचल टाईम्स - मंडला बम्हनी बंजर के समीपस्थ स्थित सतबहिनी मेले की कल शुरुआत ग्वालों के मढयी पहुकर पूजापाठ के साथ हो गई मढई मे पहले दिन ही लोगों की भीड से व्यापारियों के चेहरे खिल उठे मढई लगने के लगभग एक सप्ताह पहले से ही नगर परिषद बम्हनी बंजर के द्वारा यहां साफ सफाई प्रकाश व्यवस्था और व्यापारियों के दुकान लगाने के स्थान पर लाईन इत्यादि का कार्य पूरा कर लिया गया था और निर्धारित तिथि में यह मेला प्रारंभ हुआ।

मंदिर में होती हैं पूजा-सतबहनी के नाम से प्रसिद्ध इस मेले का नाम माता रानी के मंदिर के कारण पडा है और इस मंदिर में सातबहनो की पूर्ति विराजमान है आसपास के ग्रामीण क्षेत्रों और बम्हनी नगर के लोगों की आस्था का केंद्र इस मंदिर में लोग इस समय दूर-दूर से आते हैं माता की पूजा अर्चना कर माता से आशीर्वाद प्राप्त करते हैं और मनंत मागते है माता रानी सभी की मांग पूरी करती हैं और कष्टों का निवारण भी करती हैं।

उमडा जनसैलाब-मढई के पहले दिन बम्हनी नगर और आसपास के गाँव के अहीरों के द्वारा परम्परागत वेशभूषा में यहां पहुंच कर पूजन कर मढई ब्याही गयीं और दूसरे दिन यहां लोगों का जनसैलाब उमडा लोगों ने माता की पूजा कर मेले का आनंद लिया और महिलाओं और बच्चों ने झूलो का लुप्त ऊठाया और खरीदारी भी की।

पुलिस ने भी मोर्चा संभाला-मंडला सिवनी मार्ग के ठीक किनारे लगने वाली इस मढई मे बाहर से आऐ व्यापारियों और मेले में घूमने आये लोगों की सुरक्षा को लेकर बम्हनी पुलिस की सतर्क नजर आयी थाना प्रभारी नीलेश दोहरे के नेतृत्व और वरिष्ठ अधिकारियों के मार्ग दर्शन मे पूरे मेला स्थल में पुलिस कर्मियों की मौजूदगी रही साथ ही सडक़ से वाहनो के आवागमन से किसी प्रकार की घटना घटित न इसके लिए पुलिस के द्वारा वन वे व्यवस्था बनाई गई हैं जिसमे वाहनों का आवागमन भी सुचारू रुप में होता है और मेला घूमने वाले लोगों को भी परेशानी नहीं होती हैं।

मंदिर का हो जिर्णोद्धार-मेला स्थल में बने माता का मंदिर काफी पुराना हो चुका है और मंदिर जीर्णशीर्ण अवस्था में है इसलिए यहाँ आने वाले लोगों के मुंह से इस मंदिर के जीर्णोद्धार की बात सुनाई देती हैं मंदिर के रखरखाव के लिए यहाँ एक समिति भी है लोगों की भावनाओं को समझते हुए इस मंदिर के जीर्णोद्धार की रूप रेखा समिति को शीघ्र बना कर इसे और भव्य रुप देना चाहिए।

No comments:

Post a Comment