चंद्र ग्रहण के कारण बदल जाएगी देव दिपावली की तारीख, जानिए सही डेट और इसका महत्व - revanchal times new

revanchal times new

निष्पक्ष एवं सत्य का प्रवर्तक

Breaking

🙏जय माता दी🙏 शुभारंभ शुभारंभ माँ नर्मदा की कृपा और बुजुर्गों के आशीर्वाद से माँ रेवा पब्लिकेशन एन्ड प्रिंटर्स का हुआ शुभारंभ समाचार पत्रों की प्रिंटिग हेतु संपर्क करें मोबाईल न- 0761- 4112552/07415685293, 09340553112,/ 9425852299/08770497044 पता:- 68/1 लक्ष्मीपुर विवेकानंद वार्ड मुस्कान प्लाजा के पीछे एम आर 4 रोड़ उखरी जबलपुर (म.प्र.)

Tuesday, November 1, 2022

चंद्र ग्रहण के कारण बदल जाएगी देव दिपावली की तारीख, जानिए सही डेट और इसका महत्व



हिंदू धर्म में कार्तिक पूर्णिमा का विशेष म​हत्व है और इस दिन पवित्र नदियों में स्नान कर उगते सूर्य को अर्घ्य देने की परंपरा है. कहते हैं कि ऐसा करने से मनुष्य को कई प्रकार के पापों से मुक्ति मिलती है. (Kab hai Dev Deepawali 2022) क्योंकि देव दिपावली के दिन देव धरती पर पधारते हैं. कार्तिक पूर्णिमा के दिन दीपदान और तुलसी पूजा का भी विशेष विधान है. इस दिन धन की देवी मां लक्ष्मी का पूजन किया जाता है और इससे घर में सुख-समृद्धि का वास होता है. आइए जानते हैं इस साल कब मनाई जाएगी देव दीपावली और इसका महत्व?
कब है देव दीपावली 2022

हिंदू धर्म में देव दीपावली का विशेष महत्व है और इसे देव दिवाली भी कहा जाता है. जो कि दिवाली के 15 दिन बाद आती है. पंचांग के अनुसार हर साल दिवाली के 15 दिन बाद कार्तिक शुक्ल पूर्णिमा के दिन देव दीपावली का त्योहार मनाया जाता है. इस साल पूर्णिमा तिथि 8 नवंबर को है लेकिन देव दीपावली 7 नवंबर 2022 को मनाई जाएगी. जानिए आखिर क्या है वजह?
आखिर क्यों देव दीपावली की तारीख

हिंदू पंचांग के अनुसार इस साल कार्तिक पूर्णिमा तिथि 8 नवंबर 2022 को है. लेकिन इसी दिन साल का आखिरी चंद्र ग्रहण भी लगने जा रहा है और ग्रहण के दौरान कोई भी पूजा या शुभ कार्य करना वर्जित होता है. यही वजह है कि इस साल देव दीपावली 7 नवंबर 2022 को मनाई जाएगी.
देव दीपावली का महत्व

देव दीपावली का हिंदू धर्म में विशेष महत्व है और इसे लेकिन कुछ पौराणिक कथाएं भी प्रचलित है. लोकप्रिय पौराणिक कथा के अनुसार कार्तिक पूर्णिमा तिथि के दिन भगवान शिव ने त्रिपुरासुर नामक राक्षक का वध किया था. त्रिपुरासुर ने धरती व स्वर्ग लोक में आतंक मचा रखा था और उसके वध के बाद सभी देवी-देवताओं ने खुशी मनाई थी. तभी से सभी देवता कार्तिक पूणिमा के दिन धरती पर आते हैं और दीप जलाकर अपनी खुशियां मनाते हैं. इसलिए देव दीपावली का दिन बेहद ही खास माना गया है.

No comments:

Post a Comment