शिकायतों को अटेंड नहीं करने वाले 22 अधिकारियों के कटेंगे वेतन सीएम हेल्पलाईन में लापरवाही पर कलेक्टर ने बरती सख्ती - revanchal times new

revanchal times new

निष्पक्ष एवं सत्य का प्रवर्तक

Breaking

🙏जय माता दी🙏 शुभारंभ शुभारंभ माँ नर्मदा की कृपा और बुजुर्गों के आशीर्वाद से माँ रेवा पब्लिकेशन एन्ड प्रिंटर्स का हुआ शुभारंभ समाचार पत्रों की प्रिंटिग हेतु संपर्क करें मोबाईल न- 0761- 4112552/07415685293, 09340553112,/ 9425852299/08770497044 पता:- 68/1 लक्ष्मीपुर विवेकानंद वार्ड मुस्कान प्लाजा के पीछे एम आर 4 रोड़ उखरी जबलपुर (म.प्र.)

Wednesday, November 23, 2022

शिकायतों को अटेंड नहीं करने वाले 22 अधिकारियों के कटेंगे वेतन सीएम हेल्पलाईन में लापरवाही पर कलेक्टर ने बरती सख्ती

 


 

मण्डला 23 नवम्बर 2022

                कलेक्टर हर्षिका सिंह ने नियमित समय-सीमा बैठक ली। बैठक में उन्होंने सीएम हेल्पलाईन, आयुष्मान पंजीयन, जल जीवन मिशन एवं विभागीय समन्वय के विषयों की विस्तृत समीक्षा की। श्रीमती सिंह ने सीएम हेल्पलाईन में जिले की प्रगति से नाराजगी जाहिर करते हुए संबंधित विभागों को फटकार लगाई। उन्होंने कहा कि सभी विभाग प्रमुख सर्वोच्च प्राथमिकता के साथ सीएम हेल्पलाईन प्रकरणों का संतुष्टिपूर्वक निराकरण करें। 50 दिवस से अधिक की शिकायतों को प्राथमिकता से निराकृत करें। कोई भी शिकायत अनअटेंड न रखें। श्रीमती सिंह ने शिकायतों को अटैंड नहीं करने वाले 22 अधिकारियों के वेतन काटने के निर्देश दिए। उन्होंने जिला कोषालय अधिकारी को निर्देशित किया कि जिस भी अधिकारी द्वारा जितने दिन शिकायतों को अटेंड नहीं किया गया है, उन अधिकारियों के उतने ही दिनों का वेतन काटें। कलेक्टर ने स्वास्थ्य विभाग के मैदानी अधिकारियों द्वारा शिकायतों को अटेंड नहीं किए जाने वाले दिनों के अनुपात में तत्काल वेतन काटने के निर्देश दिए। बैठक में जिला पंचायत सीईओ रानी बाटड, एडीएम मीना मसराम सहित संबंधित विभागों के अधिकारी उपस्थित थे।

 

इन अधिकारियों का कटेगा वेतन

 

                कलेक्टर ने जिन अधिकारियों के वेतन काटने के निर्देश दिए हैं उनमें परिक्षेत्र अधिकारी सुरेन्द्र सिंह जाटव, जूनियर इंजी. अनिल पनाड़िया, कनिष्ठ अभियंता अशोक कुमार धुर्वे, जिला आपूर्ति अधिकारी चेतराम कौशल, बीएमओ डॉ. दिलीप अहिरवार, डॉ. नैनू इंडोलिया, डॉ. विजय पैगवार, डॉ. कमलेश मोहन झिगराम एवं डॉ. एसके वरकड़े, सीएमएचओ डॉ. श्रीनाथ सिंह, सीईओ जनपद दीप्ति यादव, जूनियर इंजी. नरेन्द्र मर्सकोले, सहायक यंत्री एके साहू, कार्यपालन यंत्री एसके जैन, सहायक यंत्री कंचन चौधरी, निरीक्षक जनकसिंह रावत, कनिष्ठ अभियंता द्वारिका प्रसाद प्रजापति, जिला प्रौढ़शिक्षा अधिकारी वीपी ठाकुर, कनिष्ठ अभियंता संतोष मर्सकोले, निरीक्षक संतोष सिसोदिया, जिला शिक्षा अधिकारी सुनीता बर्वे तथा सहायक श्रम आयुक्त सूर्यकांत सिरवैया शामिल हैं।

 

राजस्व अधिकारियों को फटकार

 

                कलेक्टर ने सीएम हेल्पलाईन में पुलिस, राजस्व, वन विभाग, स्वास्थ्य तथा अन्य विभागों की रैंकिंगवार समीक्षा की। उन्होंने सभी राजस्व अधिकारियों को कड़ी फटकार लगाते हुए सीएम हेल्पलाईन में निराशाजनक प्रदर्शन पर नाराजगी जाहिर की। उन्होंने कहा कि राजस्व अधिकारी सीएम हेल्पलाईन के निराकरण के लिए कैम्प लगाएं। इन कैम्प का स्थानीय स्तर पर व्यापक प्रचार-प्रसार करें। इन कैम्प के आयोजन की जानकारी स्थानीय लोगों को प्रदान करें। साथ ही आगामी एक सप्ताह तक तहसील स्तर पर लगातार कैम्प लगाएं।

 

टॉप-5 में आने का लक्ष्य रखें

 

                श्रीमती सिंह ने सीएम हेल्पलाईन प्रकरणों की विभागवार एवं श्रेणीवार समीक्षा की। उन्होंने डी श्रेणीमें आने वाले विभाग प्रमुखों को नोटिस जारी करने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि शिकायत निवारण के लिए विभाग कंट्रोल रूम बनाते हुए प्रतिदिन निराकरण करें, शिकायतों की मॉनीटरिंग करें तथा शिकायतकर्ता से बात करते हुए संतुष्टि दर्ज कराएं। उन्होंने कहा कि सभी जिलाधिकारी आगामी माह की रैकिंग में टॉप-5 में आने के लिए सतत रूप से शिकायतों का निराकरण करें।

 

घर-घर जाकर कराएं आयुष्मान पंजीयन

 

                कलेक्टर हर्षिका सिंह ने महिला बाल विकास विभाग, स्वास्थ्य विभाग, शिक्षा विभाग सहित सभी संबंधित विभागों को निर्देशित किया कि आयुष्मान पंजीयन के कार्य में तेजी लाएं। उन्होंने ब्लॉकवार तथा निकायवार पंजीयन के लिए शेष बचे पात्र हितग्राहियों की समीक्षा करते हुए संबंधित अधिकारियों को सभी के जल्द आयुष्मान पंजीयन कराने के निर्देश दिए। श्रीमती सिंह ने कहा कि प्रतिदिन आयुष्मान पंजीयन का कार्य करें। हितग्राहियों को पंजीयन स्थल के लिए ज्यादा से ज्यादा मोबीलाईज करें। उन्होंने घर-घर जाकर आयुष्मान पंजीयन कराने के निर्देश दिए। कलेक्टर ने पशुपालन सहित हितग्राहीमूलक योजनाओं से जुड़े विभागों को भी अपने विभाग के हितग्राहियों के आयुष्मान पंजीयन अनिवार्यतः कराने के निर्देश दिए।

 

सघन रूप से जाति प्रमाण पत्र बनाएं

 

                श्रीमती सिंह ने सहायक आयुक्त आदिवासी विकास तथा शिक्षा विभाग के अधिकारियों को निर्देशित किया कि जाति प्रमाण पत्र बनाए जाने का कार्य जिलेभर में सघन रूप से जारी रखें। उन्होंने कहा कि आगामी 15 दिनों तक जिले के सभी स्कूलों के ऐसे विद्यार्थी जिनके अब तक जाति प्रमाण पत्र नहीं बनाए गए हैं, सभी बीआरसी उनके प्रमाण पत्र के आवेदनों को एकत्र कर लोकसेवा केन्द्र भेजना सुनिश्चित करेंगे। कलेक्टर ने निर्देशित किया कि प्रति शनिवार को स्कूलों में आयोजित की जाने वाली बालसभाओं में स्थानीय जनप्रतिनिधियों के माध्यम से जाति प्रमाण पत्र वितरण का कार्य भी करें।

 

ग्रामसभाओं में पेसा एक्ट की जानकारी देंगे जिलाधिकारी

 

                कलेक्टर ने सभी संबंधित अधिकारियों को निर्देशित किया कि पेसा एक्ट के सभी प्रावधानों को गंभीरता से पढ़ें। उन्होंने कहा कि सभी संबंधित अधिकारियों को एक्ट के सभी प्रावधानों की गहनता से जानकारी होना चाहिए। उन्होंने निर्देशित किया कि एक्ट की बारीकियों को समझते हुए सकारात्मक मानसिकता के साथ मैदानी स्तर पर क्रियान्वयन भी कराएं। श्रीमती सिंह ने निर्देशित किया कि सभी जिलाधिकारी आगामी दिनों में आयोजित हो रही ग्रामसभा में अनिवार्यतः उपस्थित होंगें तथा ग्रामसभाओं में पेसा एक्ट की जानकारी देते हुए शंकाओं का समाधान करेंगे। उन्होंने पेसा एक्ट के व्यापक प्रचार-प्रसार करने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि मुनादी, फ्लैक्स, बैनर, नुक्कड़-नाटक, वीडियो आदि के माध्यम से सघन रूप से अधिनियम का प्रचार-प्रसार करें।

 

कोई भी युवा मतदाता वंचित न रहे

 

                बैठक में कलेक्टर ने सभी प्राचार्यों एवं संबंधित विभागों को निर्देशित किया कि नए मतदाताओं का नाम जोड़ने के लिए प्रभावी कार्यवाही करें। उन्होंने कहा कि जिले के सभी डिग्री कॉलेज, पॉलीटेक्निक, आईटीआई, पैरा मेडीकल कॉलेज के प्राचार्य नए मतदाताओं का नाम जोड़ने के लिए जिम्मेदार होंगे। कलेक्टर ने जिलेवासियों से भी अपील की है कि युवा मतदाता अपना नाम मतदाता सूची में जोड़ने के लिए आगे आएं तथा फॉर्म-6 भरकर मतदाता सूची में नाम जोड़ने की कार्यवाही में सहयोग करें। श्रीमती सिंह ने समय-सीमा बैठक में सीएम किसान के द्वितीय किस्त के भुगतान, नक्श शुद्धिकरण, वनग्राम को राजस्व ग्राम में परिवर्तन, धारणाधिकार, स्वामित्व योजना, जल-जीवन मिशन एवं विभागीय समन्वय से जुड़े विषयों की विस्तृत समीक्षा करते हुए जरूरी निर्देश दिए।

No comments:

Post a Comment