शुक्रवार के उपाय: धन प्राप्ति के लिए आज रात करें ये खास उपाय, आर्थिक संकट से मिलेगा छुटकारा - revanchal times new

revanchal times new

निष्पक्ष एवं सत्य का प्रवर्तक

Breaking

🙏जय माता दी🙏 शुभारंभ शुभारंभ माँ नर्मदा की कृपा और बुजुर्गों के आशीर्वाद से माँ रेवा पब्लिकेशन एन्ड प्रिंटर्स का हुआ शुभारंभ समाचार पत्रों की प्रिंटिग हेतु संपर्क करें मोबाईल न- 0761- 4112552/07415685293, 09340553112,/ 9425852299/08770497044 पता:- 68/1 लक्ष्मीपुर विवेकानंद वार्ड मुस्कान प्लाजा के पीछे एम आर 4 रोड़ उखरी जबलपुर (म.प्र.)

Friday, September 30, 2022

शुक्रवार के उपाय: धन प्राप्ति के लिए आज रात करें ये खास उपाय, आर्थिक संकट से मिलेगा छुटकारा



हिंदू धर्म में प्रत्येक वार का अपना विशेष महत्व होता है और हर दिन किसी न किसी देवी-देवता को समर्पित होता है. पंचांग के अनुसार आज यानि 30 सितंबर को शुक्रवार है और यह दिन धन की देवी मां लक्ष्मी को समर्पित है. इसके अलावा शुक्रवार का दिन (Shukrawar ke din kare ye kam) शुक्र ग्रह का भी होता है. बता दें कि शुक्र ग्रह को सौंदर्य, ऐश्वर्य, वैभव, कला, संगीत, काम वासना एवं सभी प्रकार के सांसारिक सुखों का कारक माना जाता है. ऐसी मान्यता है कि शुक्रवार की रात को कुछ (Shukrawar puja vidhi) विशेष उपाय करने से मां लक्ष्मी प्रसन्न होती है और आपके घर में कभी पैसो की कमी नहीं होगी. आइए जानते हैं शुक्रवार की रात को किए जाने वाले उपायों के बारे में.
लक्ष्मी माता की अराधना

ज्योतिष शास्त्र के अनुसार प्रत्येक शुक्रवार की रात माता लक्ष्मी की 9 से 10 बजे के बीच पूरे विधि-विधान के साथ पूजा करने से आर्थिक समस्याएं दूर होती हैं. साथ ही घर में कभी भी पैसों की कमी नहीं होती. अगर आप आर्थिक संकट का सामना कर रहे हैं या धन-सम्पत्ति का आशीर्वाद पाना चाहते हैं तो यह उपाय जरूर अपनाएं.
श्रीयंत्र

शुक्रवार की रात में मां लक्ष्मी की प्रतिमा को गुलाबी रंग की रंगोली बनाकर उस पर रखना चाहिए. साथ ही मां की प्रतिमा के साथ श्रीयंत्र भी जरूर रखें. पूजा की थाली में गाय के घी के 8 दीपक भी जलाएं और गुलाब के सुगंध वाली धूपबत्ती जलाकर मां को मावे की बर्फी का भोग लागएं. कहते हैं कि इस उपाय को करने से मां लक्ष्मी प्रसन्न होती हैं और अपने भक्तों की सभी मनोकामनाएं पूर्ण करती हैं.
मां लक्ष्मी की पूजा विधि

शुक्रवार की रात को मां लक्ष्मी की पूजा करने के लिए श्रीयंत्र और अष्टलक्ष्मी की प्रतिमा पर अष्ट गंध से ही तिलक करना चाहिए. इसके बाद कमल गट्टे की माला से ‘ऐं ह्रीं श्रीं अष्टलक्ष्मीयै ह्रीं सिद्धये मम गृहे आगच्छागच्छ नमः स्वाहा’ मंत्र को पूरी श्रद्धा और विश्वास के साथ 108 बार जपना चाहिए.
इन दिशाओं पर रखें दीपक

पूजा के बाद इन 8 दीपकों को घर की आठ दिशाओं में रख दें. वहीं कमल गट्टे की माला को तिजोरी में रख दें. पूजा में भूल की क्षमा मांगे और माता से विनती करें.

No comments:

Post a Comment