नागपंचमी के दिन यह शख्‍स बना भैंसासुर, खाने लगा पशुओं के लिए रखा भूसा - revanchal times new

revanchal times new

निष्पक्ष एवं सत्य का प्रवर्तक

Breaking

🙏जय माता दी🙏 शुभारंभ शुभारंभ माँ नर्मदा की कृपा और बुजुर्गों के आशीर्वाद से माँ रेवा पब्लिकेशन एन्ड प्रिंटर्स का हुआ शुभारंभ समाचार पत्रों की प्रिंटिग हेतु संपर्क करें मोबाईल न- 0761- 4112552/07415685293, 09340553112,/ 9425852299/08770497044 पता:- 68/1 लक्ष्मीपुर विवेकानंद वार्ड मुस्कान प्लाजा के पीछे एम आर 4 रोड़ उखरी जबलपुर (म.प्र.)

Friday, August 5, 2022

नागपंचमी के दिन यह शख्‍स बना भैंसासुर, खाने लगा पशुओं के लिए रखा भूसा




रेवांचल टाइम्स:इसे आस्था कहें या अंधविश्वास (blind faith)? नागपंचमी (nagpanchami) के दिन एक सामान्य शख्स भैंसासुर बन जाता है। पशु के नाद में भरे भूसा (straw) को खाने लगता है। गुरुवार को इस नागपंचमी को भूसा खाने का एक वीडियो वायरल (video viral) हुआ है। महराजगंज के कोल्हुई क्षेत्र का एक शख्स नागपंचमी के दिन पशुओं की तरह नाद में भूसा खाता है। यह वीडियो जिले में तेजी से वायरल हो रहा है। कोल्हुई के रुद्रपुर शिवनाथ गांव का रहने वाला बुधिराम पिछले कई वर्षों से इस तरह भूसा चारा खाता है।


कोल्हुई के रुद्रपुर शिवनाथ गांव का रहने वाला बुधिराम रोडवेज का सेवानिवृत्त कर्मचारी है। इसको देखने के लिए लोगों की भीड़ जुट गई थी। वह कई सालों से नागपंचमी पर्व के हर तीसरे साल गांव में ही स्थित माता के मंदिर में स्थापित भैंसासुर की प्रतिमा के सामने पशुओं के खाने के नाद में पशुओं की तरह ही भूसा और चारा खाता है। इस बार नागपंचमी पर वीडियो वायरल हुआ। इसमें भूसा व पानी भरी नाद में मुंह डालकर चारा खा रहा है।

बताया जा रहा है कि बुधीराम नागपंचमी के मौके पर इंसान से पशु बन जाता है। नागपंचमी के दिन वह घर के बाहर बने समया माता के मंदिर पर बैठता है। लोग फूल-मालाओं से स्वागत करते हैं। बताया जाता है कि वह नाद में पशु की तरह भूसा-चारा खाना लगता है। उसकी यह अद्भुत आस्था देखकर लोग हैरान जाते हैं।

बुधीराम का दावा है कि पिछले 40-45 साल से उनपर भैंसासुर की सवारी आती है। ऐसा हर तीन साल के अंतराल में नागपंचमी के दिन होता है। बाकी दिन वह सामान्य जीवन जीते हैं। नागपंचमी पर भी कुछ समय के लिए ऐसा होता है और फिर पूजा-पाठ के कुछ घंटों बाद ही वह सामान्य हो जाते हैं।


No comments:

Post a Comment