वास्तु शास्त्र: रोटियां परोसते समय कभी ना करें ये गलतियां, मां लक्ष्मी हो जाती हैं नाराज...परिवार में होगा कलह - revanchal times new

revanchal times new

निष्पक्ष एवं सत्य का प्रवर्तक

Breaking

रेवांचल टाइम्स अखबार पाठकों से अनुरोध करता है कि आप अपने सुझाव हम तक जरूर भेजें.. ताकि आने वाले समय मे हम आपकी मदद से और भी बेहतर कार्य कर सकें... साथ ही यदि आपको लेख अच्छा लगे तो इसे ओरों तक भी पहुंचाए.. प्रकाशन हेतु ख़बरें, विज्ञप्ति मोबाइल- 9406771592 पर व्हाट्सएप्प करें

Monday, August 1, 2022

वास्तु शास्त्र: रोटियां परोसते समय कभी ना करें ये गलतियां, मां लक्ष्मी हो जाती हैं नाराज...परिवार में होगा कलह



 रेवांचल टाईम्स:वास्तु शास्त्र के अनुसार कई बार जीवन में गृह-क्लेश और आर्थिक समस्याओं का कारण आपके ग्रह दोष और अनजाने में की जाने वाली छोटी-छोटी गलतियां भी हो सकती हैं। वहीं आपने देखा होगा कि घर के बड़े-बुजुर्ग खाना परोसते समय कुछ बातों का ध्यान रखने की सलाह देते हैं। ज्योतिष अनुसार माना जाता है कि रोटी परोसते समय की जाने वाली गलतियां परिवार वालों की सेहत और आपसी रिश्तों पर नकारात्मक प्रभाव डाल सकती हैं। तो आइए जानते हैं रोटी परोसते समय कौन-कौन सी बातों का ध्यान रखना जरूरी माना गया है.

रोटी परोसते समय इन बातों का रखें खास ख्याल 

1. यदि घर के किसी सदस्य की प्लेट में पहली रोटी खत्म हो जाए तो दूसरी रोटी कभी हाथ में लेकर नहीं जानी चाहिए. रोटी को हमेशा किसी प्लेट में रखकर लेकर जाएं और फिर थाली में सर्व करें. वास्तु शास्त्र के अनुसार माना जाता है कि हाथ में लेकर रोटी परोसने से परिवार के लोगों में आपसी मनमुटाव पैदा हो सकता है. 

2. अक्सर आपने घर के बड़े-बुजुर्गों को यह कहते सुना होगा कि थाली में कभी भी एक साथ तीन रोटियां नहीं परोसनी चाहिएं. मान्यता है कि थाली में एक साथ तीन रोटी रखकर खाने से कुंडली में ग्रहों की स्थिति कमजोर होती है और इसका प्रभाव घर की सुख-शांति पर भी पड़ता है.

3. आपने बहुत से लोगों को देखा होगा कि वह रात को रोटी बनाने के बाद आटा बच जाता है तो उसे फ्रिज में उठाकर रख देते हैं,  लेकिन वास्तु की दृष्टि से इसे गलत माना जाता है. मान्यता है कि बासे आटे की रोटियां बनाने से उसे खाने वाले के जीवन में नकारात्मकता बढ़ती है.

(डिस्क्लेमर: इस लेख में दी गई सूचनाएं सिर्फ मान्यताओं और जानकारियों पर आधारित है.  रेवांचल टाईम्स इनकी पुष्टि नहीं करता है.)

No comments:

Post a Comment