सुबह उठते ही मोबाइल चलाना हो सकता है खतरनाक, आ सकते हैं इन गंभीर बीमारियों की चपेट में! - revanchal times new

revanchal times new

निष्पक्ष एवं सत्य का प्रवर्तक

Breaking

🙏जय माता दी🙏 शुभारंभ शुभारंभ माँ नर्मदा की कृपा और बुजुर्गों के आशीर्वाद से माँ रेवा पब्लिकेशन एन्ड प्रिंटर्स का हुआ शुभारंभ समाचार पत्रों की प्रिंटिग हेतु संपर्क करें मोबाईल न- 0761- 4112552/07415685293, 09340553112,/ 9425852299/08770497044 पता:- 68/1 लक्ष्मीपुर विवेकानंद वार्ड मुस्कान प्लाजा के पीछे एम आर 4 रोड़ उखरी जबलपुर (म.प्र.)

Tuesday, July 19, 2022

सुबह उठते ही मोबाइल चलाना हो सकता है खतरनाक, आ सकते हैं इन गंभीर बीमारियों की चपेट में!



इंटरनेट के इस जमाने में हमें स्मार्टफोन की इतनी ज्यादा आदत हो गई है कि इसके बिना एक दिन भी रहना बहुत मुश्किल हो गया है। स्मार्टफोन में व्यक्ति के बहुत से राज भी छिपे होते हैं क्योंकि उसमें पर्सनल डाटा रहता है। ऐसे में कोई भी व्यक्ति अपने मोबाइल को पलभर के लिए भी खुद से दूर नहीं करता। यहां तक की रात को सोते वक्त भी उसे अपने पास ही रखकर सोते हैं। कई लोग तो सुबह नींद खुलते ही सबसे पहले अपना मोबाइल देखते हैं और उसमें आए हुए मैसेज वगैरहा चेक करने लगते हैं। हालांकि सुबह उठते ही मोबाइल चलाने की आदत नुकसानदायक हो सकती है। कई रिसर्च में भी इस बात का खुलासा हो चुका है।

कैंसर और आंखों की रोशनी खराब
एक रिसर्च में पता चला है कि सुबह उठते ही फोन चलाने से आंखों पर बुरा प्रभाव पड़ता है। मोबाइल से निकलने वाली रोशनी सीधे आंखों में पड़ने से सिर भारी हो सकता है। एकाग्रता कम होती है। स्मार्टफोन का इस तरह से लंबे समय तक इस्तेमाल करने से गर्दन में जकड़न, दर्द, मोटापे की समस्या, कैंसर, इलेक्ट्रोमैग्नेटिक रेडिएशन, नींद की कमी और दिमाग में बदलाव जैसी समस्याएं हो सकती हैं।

तनाव
जब हम सुबह उठते हैं तो वह मैसेजेस, ई-मेल्स, रिमांडर, इंस्टाग्राम पोस्ट्स आदि से भरा होता है। ऐसे में जो लोग सुबह उठते ही सबसे पहले मोबाइल में इन चीजों को चेक करने लगते हैं, उनके लिए मोबाइल चिंता और तनाव की वजह बन सकता है। नींद से उठते ही अगर सोशल मीडिया चेक करते हैं तो दिमाग उसी में बंध जाता है। ऐसे में दिन की शुरुआत तनाव और चिंता से करना सेहत के लिए ठीक नहीं है।

चिड़चिड़ापन
सुबह उठते ही मोबाइल चलाने की आदत से चिड़चिड़ापन भी आ सकता है। सुबह उठकर मोबाइल में अगर कोई ऐसी बात देख ली जो नकारात्मक है तो इसका सीधा असर दिमाग पर पड़ता है। इससे गुस्सा आना और चिड़चिड़ापन की शिकायत हो सकती है।

डिप्रेशन
रात को सोते वक्त और सुबह उठते ही मोबाइन देखने की आदत से यूजर में डिप्रेशन भी आ सकता है। नियमित रूप से इस तरह के रूटीन को फॉलो करने से दिमाग पर असर पड़ता है। इसकी वजह तुलना भी हो सकती है। सुबह उठते ही फेसबुक, इंस्टाग्राम, व्हाट्सऐप स्टेटस आदि देख लेने से कई बार लोग तुलना में फंस जाते हैं। वह दूसरों की जीवनशैली देखकर परेशान हो जाते हैं और खुद से उनकी तुलना करने लगते हैं, जिसकी वजह से डिप्रेशन की स्थिति तक आ सकती है।

No comments:

Post a Comment