कोरोना के मामले बढ़ने के बाद इन शहरों में मास्क फिर हुआ जरूरी, जानें क्या है नई गाइडलाइंस - revanchal times new

revanchal times new

निष्पक्ष एवं सत्य का प्रवर्तक

Breaking

🙏जय माता दी🙏 शुभारंभ शुभारंभ माँ नर्मदा की कृपा और बुजुर्गों के आशीर्वाद से माँ रेवा पब्लिकेशन एन्ड प्रिंटर्स का हुआ शुभारंभ समाचार पत्रों की प्रिंटिग हेतु संपर्क करें मोबाईल न- 0761- 4112552/07415685293, 09340553112,/ 9425852299/08770497044 पता:- 68/1 लक्ष्मीपुर विवेकानंद वार्ड मुस्कान प्लाजा के पीछे एम आर 4 रोड़ उखरी जबलपुर (म.प्र.)

Wednesday, July 20, 2022

कोरोना के मामले बढ़ने के बाद इन शहरों में मास्क फिर हुआ जरूरी, जानें क्या है नई गाइडलाइंस




रेवांचल टाईम्स :चौथी लहर की आशंकाओं के बीच देश में एक बार फिर कोरोना के मामलों में तेजी आई है. कोरोना के मामलों में बढ़ोतरी के बाद कई जम्मू में एक बार फिर मास्क अनिवार्य किया गया है. कोरोनो वायरस के प्रसार को रोकने के लिए श्रीनगर, गांदरबल, बांदीपोरा और रामबन जिलों में मास्क पहनना अनिवार्य कर दिया गया है. रामबन के जिलाधिकारी मसर्रत आलम ने एक आदेश में कहा कि जिले में सरकारी कार्यालयों, स्वास्थ्य संस्थानों, बैंकों और वित्तीय संस्थानों में आने वालों के लिए फेस मास्क (Face Mask) अनिवार्य है.

उधर, देश में बुधवार को कोरोना संक्रमण के 20,557 नए मामले सामने आने के बाद संक्रमितों की संख्या बढ़कर 4,38,03,619 हो गई. वहीं, एक्टिव मरीजों की संख्या बढ़कर 1,45,654 पर पहुंच गई. स्वास्थ्य मंत्रालय की तरफ से जारी आंकड़ों के अनुसार, भारत में संक्रमण से 40 और लोगों की मौत के बाद मृतक संख्या बढ़कर 5,25,825 हो गई.

बीते 24 घंटे के दौरान एक्टिव मरीजों की संख्या में 2000 की बढ़ोतरी हुई है. मरीजों के ठीक होने की राष्ट्रीय दर 98.47 प्रतिशत है. गौरतलब है कि देश में सात अगस्त 2020 को संक्रमितों की संख्या 20 लाख, 23 अगस्त 2020 को 30 लाख और पांच सितंबर 2020 को 40 लाख से अधिक हो गई थी. संक्रमण के कुल मामले 16 सितंबर 2020 को 50 लाख, 28 सितंबर 2020 को 60 लाख, 11 अक्टूबर 2020 को 70 लाख, 29 अक्टूबर 2020 को 80 लाख और 20 नवंबर को 90 लाख के पार चले गए थे. देश में 19 दिसंबर 2020 को ये मामले एक करोड़ से अधिक हो गए थे. पिछले साल चार मई को संक्रमितों की संख्या दो करोड़ और 23 जून 2021 को तीन करोड़ के पार पहुंच गई थी. इस साल 26 जनवरी को मामले चार करोड़ के पार हो गए थे.

No comments:

Post a Comment