निर्दलीय प्रत्याशी ने निकाला जुलूस मतदाताओं ने किया भव्य स्वागत, प्रशांत तिवारी को फलों से तौला तो, जनता ने बाँटा पुलाव और मिठाईयां... - revanchal times new

revanchal times new

निष्पक्ष एवं सत्य का प्रवर्तक

Breaking

रेवांचल टाइम्स अखबार पाठकों से अनुरोध करता है कि आप अपने सुझाव हम तक जरूर भेजें.. ताकि आने वाले समय मे हम आपकी मदद से और भी बेहतर कार्य कर सकें... साथ ही यदि आपको लेख अच्छा लगे तो इसे ओरों तक भी पहुंचाए.. प्रकाशन हेतु ख़बरें, विज्ञप्ति मोबाइल- 9406771592 पर व्हाट्सएप्प करें

Friday, July 22, 2022

निर्दलीय प्रत्याशी ने निकाला जुलूस मतदाताओं ने किया भव्य स्वागत, प्रशांत तिवारी को फलों से तौला तो, जनता ने बाँटा पुलाव और मिठाईयां...



रेवांचल टाईम्स - केवलारी ऐसा बहुत कम देखा जाता है कि विजय प्रत्याशी आभार प्रदर्शन करने जनता के बीच जाए और उस प्रत्याशी से ज्यादा जनता और मतदाताओं में उत्साह दिखे,केवलारी नगर परिषद के हाल में हुए चुनाव में वार्ड नम्बर दस से प्रशांत तिवारी मोनू एक मात्र निर्दलीय प्रत्याशी भारी मतों से चुनाव जीतने में सफल हुए जिसके बाद मतदाताओं के आभार प्रदर्शन और धन्यवाद ज्ञापित करने वे जब अपने वार्ड के मतदाताओं के बीच पहुँचे तो एक अलग ही नजारा था, जनता तो जैसे अपने नवनिर्वाचित पार्षद का इंतजार कर रही थी और जगह जगह ऐसा स्वागत हुआ कि प्रशान्त तिवारी भाव विभोर हो गए।


आतिशबाजी के बीच फलों से तौला,दीवाली सा जश्न--बड़े अंतर से चुनाव जीतने वाले मोनू तिवारी जब टिग्गा मोहल्ले में पहुँचे तो सबसे पहले जनता ने उन्हें हाथों हाथ लेते हुए पूरे उत्साह के साथ फलों से तौला इसके बाद मतदाताओं के द्वारा बनवाया गया पुलाव और मिठाईयां कुछ इस कदर बाँटी गयीं जैसे यह चुनाव जीतने वाले प्रत्याशी का नहीं दीवाली का जश्न हो इसके अलावा तकरीबन हर एक घर में प्रशांत तिवारी और उनके भाई डॉ अविनाश तिवारी जो कि जानेमाने चिकित्सक और समाजसेवी हैं का थाल सजा कर तिलक बन्दन किया गया और हर घर में फूल मालाओं के साथ ही आरती उतारने के बाद मुँह मीठा करा साल श्रीफल भेंट की गई जो यह बताता है कि जनता के बीच यह परिवार कितना लोकप्रीय है और यही वजह रही कि दर्जनों निर्दलीय प्रत्याशी में से सिर्फ प्रशान्त तिवारी ही चुनाव जीत पाने में सफल हुए।


पूर्व पंच को हरा पहली बार में ही जीता चुनाव-- वैसे तो प्रदेश की राजनीति में तिवारी परिवार का खाशा दखल रहा है,स्व डॉ बसंत तिवारी की राजनीति में इतनी पैठ थी कि वे किंग मेकर माने जाते थे,लेकिन प्रशांत तिवारी का यह पहला चुनाव था ऐसे में जनता की ज़रूरतों को समझते हुए वार्ड के विकास की पूरी रणनीतियों के साथ मोनू तिवारी चुनावी समर जिसे डॉ अविनाश तिवारी ने सभी भाइयों ,मित्रों, शुभचिंतकों कार्यकर्ताओं और सहयोगियों की मदद से अमली जामा पहनाते हुए जनता के बीच पहुँच कर सालों से चली आ रही समस्याओं को हल करने का भरोसा दिया जिसके बाद जनता ने पहली बार में ही मोनू तिवारी को चुनाव जीतने का गौरव दिलाया।


सीधा मुकाबला सीधी जीत--वार्ड नम्बर 10 में प्रशांत तिवारी निर्दलीय उम्मीदवार थे जिन्हें 403 कॉंग्रेस के अशोक कनासिया को 291 भाजपा के बागी निर्दलीय उम्मीदवार रवि जंघेला को 145 ,निर्दलीय आशीष तिवारी को 55  जबकि भाजपा के पवन यादव को महज 33 और ,आम आदमी पार्टी के राजा पठान को  18 वोट मिले।


पाँचवे स्थान पर भाजपा,बागी निर्दलीय को बढ़त--भाजपा ने वार्ड नम्बर 10 से टिकिट के प्रमुख दाबेदार रवि जंघेला को पूरी तरह से नजर अंदाज करते हुए पूर्व में पूर्व जनपद सदस्य पवन यादव को टिकिट दिया था जिसे जनता ने पूरी तरह से नकार दिया और पवन यादव सिर्फ 33 वोट ही भाजपा की झोली में डाल पाए।


पिता के सम्मान को कायम रख जनता का बनूँगा सच्चा सेवक--वार्ड नम्बर 10 में विकास काफी पीछे है और यहाँ मार्ग से लेकर नालियों और गंदगी की समस्याओं का अभाव है,इस वार्ड की गरीब जनता जो नदी के किनारे निवास करती है और इनके पास सर छुपाने के लिए जो मकान हैं उन्हें झोपड़ी कहना ही उचित होगा इस तबके को आवास योजना के तहत मकान दिलाना और राशन की व्यवस्था प्रशांत तिवारी की पहली प्रथमिकता होगी,नवनिर्वाचित पार्षद ने बताया कि चुनाव प्रचार के दौरान मतदाताओं और जो जनता के द्वारा समस्याएं बताई गयीं हैं उन्हें नोट किया गया है और हर एक समस्याओं को दूर करने का प्रयास मेरे द्वारा किया जाएगा,जिस तरह से उनके पिताजी स्व डॉक्टर बसंत तिवारी पूरी उम्र जनता की सेवा राजनीति के साथ ही चिकित्सक के रूप में करते रहे ठीक उनके द्वारा प्रषस्त किये गए मार्ग पर चल कर जनता का भरोसा कायम रख सकूँ यह मेरी सबसे बड़ी उपलब्धि होगी।

                      मयंक तिवारी की रिपोर्ट

No comments:

Post a Comment