रसोईयों की मासिक बैठक में स्कूलों को बंद करने वाली नीतियों का विरोध - revanchal times new

revanchal times new

निष्पक्ष एवं सत्य का प्रवर्तक

Breaking

🙏जय माता दी🙏 शुभारंभ शुभारंभ माँ नर्मदा की कृपा और बुजुर्गों के आशीर्वाद से माँ रेवा पब्लिकेशन एन्ड प्रिंटर्स का हुआ शुभारंभ समाचार पत्रों की प्रिंटिग हेतु संपर्क करें मोबाईल न- 0761- 4112552/07415685293, 09340553112,/ 9425852299/08770497044 पता:- 68/1 लक्ष्मीपुर विवेकानंद वार्ड मुस्कान प्लाजा के पीछे एम आर 4 रोड़ उखरी जबलपुर (म.प्र.)

Tuesday, July 19, 2022

रसोईयों की मासिक बैठक में स्कूलों को बंद करने वाली नीतियों का विरोध



रेवांचल टाईम्स - मंडला मध्यान्ह भोजन योजनान्तर्गत प्राथमिक और माध्यमिक विद्यालयों में भोजन पकाने का काम करते आ रहे रसोईयों की रविवार को मंडला मुख्यालय में हुई मासिक बैठक में कई महत्वपूर्ण विषयों पर निर्णय लिए गये हैं।

     मध्यप्रदेश रसोईया संघ के संस्थापक पी.डी.खैरवार ने सरकार पर नाराजगी जताते हुए बताया  है,कि रसोईयों के नियमित रोजगार और परवरिश योग्य मेहनताना पाने मात्र के लिए दशकों से चली आ रही मांगों पर ध्यान देने की बजाय सरकार उनको रोजगार संकट में डालने पर तुली हुई है।

सभी विकासखंडों से  बैठक में सामिल होने पहुंचीं रसोईयों ने अपनी-अपनी व्यथा साझा करते हुए बताया,कि जिले के दर्जनों सरकारी स्कूलों को एक शाला एक परिसर और आवश्यकता से कम दर्ज संख्या होने के कारण स्कूलों को बंद करने की नीति लाकर उनको अन्य स्कूलों में मर्ज किया जा रहा है। स्कूलों को बंद किये जाने की सरकारी नीतियों के चलते पच्चीसों साल से लगे रसोईयों को काम से एक करके अलग किया  जा रहा है। जिससे उनकी समस्याओं का समाधान करना तो दूर रहा,रोजगार बचाने की समस्या गहराते जा रही है।यहां पर बता देना जरूरी है,कि मध्यान्ह भोजन योजनान्तर्गत रसोईया का काम 95 फीसदी महिलाओं के द्वारा किया जाता है।जिनके लिए सरकार  एक ओर महिला सशक्तिकरण परियोजना का प्रचार-प्रसार कर रही है,वहीं दूसरी ओर उनको परिवार पालने रोजगार पर बनाए  रखने की बजाय रोजगार से निकालने की चाल चल रही है।

          संगठन के  कोषाध्यक्ष जयंती अहिरवार ने प्रस्ताव लाया कि रसोईयों की सुनवाई करने सरकार उदासीन बनती जा रही है। परिणामस्वरूप अब हमको अक्टूबर 2022 में व्यापक जन आन्दोलन पर जाने के लिए मजबूर होना पड़ेगा।जिसको सर्वसम्मति से पास कर लिया गया। प्रांत व्यापी आंदोलन को सफल बनाने की तैयारियां करने जिला प्रभारी गनपत छांटा को जिले के सभी विकासखंडों का दौरा कर सदस्यता  अभियान को पूरा करने की जिम्मेदारी सौंपी गई।प्रदेश अध्यक्ष तीरथ लाल साहू ने भी प्रदेश के सभी जिलों का दौरा कार्य कर रिपोर्ट बैठक में प्रस्तुत करने की जिम्मेदारी ली।मंडला जिले के प्रभारी का साथ देने  सभी विकासखंडों का भ्रमण कर कमेटियां बनाने के लिए एक कोरकमेटी का गठन किया गया है। जिसमें सुरेश बघेल,गनपत छांटा, कुंवर मरकाम, जयंती अहिरवार, रम्मू साहू, धनीराम उलाड़ी,गंगोत्री विश्वकर्मा,सकुनलता मसराम एवं बृहस्पति धुर्वे मुख्य रूप से नेतृत्व करेंगे।जो अलग-अलग समूह बनाकर काम को गति देंगे। संगठन के संचालक पी.डी.खैरवार ने अपील की है,कि रसोईयों के पक्ष में  सरकार जल्द ही कोई फैसला नहीं लेती है तो प्रदेश के सभी जिलों के लाखों की संख्या बल के साथ रसोईया एक स्वर में एकत्र होकर सरकार की नीतियों का विरोध करने तैयार रहें।

                             पी.डी.खैरवार

No comments:

Post a Comment