पी एच ई विभाग में चल रहा है जमके भ्रष्टाचार, मंडला में फर्जी क्रिऐटर आई से हुआ लाखों का भुगतान...जिम्मेदार मौन... - revanchal times new

revanchal times new

निष्पक्ष एवं सत्य का प्रवर्तक

Breaking

रेवांचल टाइम्स अखबार पाठकों से अनुरोध करता है कि आप अपने सुझाव हम तक जरूर भेजें.. ताकि आने वाले समय मे हम आपकी मदद से और भी बेहतर कार्य कर सकें... साथ ही यदि आपको लेख अच्छा लगे तो इसे ओरों तक भी पहुंचाए.. प्रकाशन हेतु ख़बरें, विज्ञप्ति मोबाइल- 9406771592 पर व्हाट्सएप्प करें

Thursday, July 28, 2022

पी एच ई विभाग में चल रहा है जमके भ्रष्टाचार, मंडला में फर्जी क्रिऐटर आई से हुआ लाखों का भुगतान...जिम्मेदार मौन...


रेवांचल टाईम्स डेस्क - प्रदेश मुख्यमंत्री कुछ भी कहते रहें मगर पी एच ई विभाग मंडला के अधिकारियों ने ऐसा कारनामा कर दिया कि जिसके कारनामे की जोकि छुपाये नही छुप सकता है मगर मध्यप्रदेश टेक्नीशियन समिति के पूर्व संभागीय अध्यक्ष ने अपनी प्रेस विज्ञप्ति मैं बताया कि लोक  स्वास्थ्य यात्रिकी विभाग के कार्यपालन यंत्री एवं संभागीय मंडला लेखापाल के द्वारा फजी किऐटर लाविग पासवर्ड फर्जी कर्मचारी  सैयाम के नाम से बनाकर किया जल जीवन मिशन एवं अन्य मदों में लाखो का खेल वरिष्ठ लेखापाल के द्वारा किया गया मगर माह अप्रैल मै अस्वस्थ हो गये जिसके कारण प्रभार किसी अन्य वरिष्ठ को नहीं दिया गया और सभागीय लेखापाल अपने पास रखकर गुपचुप बुलाकर गोपनीय तरीके से आर के सैयाम  सहाग्रेड 3 के नाम से जिला कोषालय मंडला  से क्रियेटर लॉगइन पासवर्ड बेनडर आई.डी.आई.एफ.आई.एस.एस बनाकर  लाखों का भुगतान कार्यपालन यंत्री से साठ गांठ कर किया गया जबकि सबधित सहायक ग्रेड 3 श्री सैयाम को इस प्रकार का कोई आदेश जारी नहीं किया गया और भुगतान की कार्यवाही नोट शीट आदि किसी अन्य कर्मचारी से करायी गयी है जिसका अवलोकन भुगतान की नस्ती से किया जा सकता है यहाँ तक की वरिष्ठ कार्यालय के बिना स्वीैकृति के कुछ कर्मचारी को देनिक वेतन में रखकर फोटो कापी कम्प्यूटर रिपेयरिंग आदि के फर्जी भुगतान केबिल कोटेशन कराकर इनका भुगतान किया जा रहा है इनही कर्मचारी से गोपनीय कार्य कराया जाता है जब इस सबध में सूचना का अधिकार जानकारी माँगी गई तो सबधित को समयावधि में जानकारी उपलब्ध नहीं करायी गयी है इस भारी अनियमितता की शिकायत माननीय कलेक्टर महोदय मंडल एवं वरिष्ठ अधिकारियों को भी की गई है तो आन फान में सबधित सहायक गेड 3 वरिष्ठ लेखा लिपिक की उपस्थिति करा कर दिनांक 11/7/2022 की किऐटर लाविग पासवर्ड वेंडर आई डी को जिला कोषालय से परिवर्तन कराया गया है जबकि वरिष्ठ लेखा लिपिक कार्य करने की क्षमता में नहीं है संबंधित का मेडिकल फिटनेस प्रमाण पत्र बोर्ड से जारी होना चाहिए जो व्यक्ति कार्य करने की क्षमता नहीं है  जबकि संबंधित का इलाज जबलपुर, नागपुर में चल रहा है ऐसी स्थिति में मण्डला के एक डॉक्टर से फिटनेस प्रमाण पत्र देकर उपस्थिति कराया गए है इसे फिटनेस प्रमाण पत्र फर्जी  प्रतीत होता है जब लिपिक दिनॉंक 08/04/22 से अवकाश अवधि के भुगतान की जाँच की जायेगी तो स्पष्ट हो जावेगा कि सैयाम का कार्यलीन आदेश जारी नहीं किया गया और सैयाम लिपिक की फर्जी आई डी लाविग पासवर्ड वेंडर आई डी बनाकर कार्यपालन यंत्री एवं  संभगीय लेखापाल श्री गोविन्द कुमार के द्वारा संचालित कर भुगतान किया गया है उक्त  बिन्दु की जाच में अनेको प्रकरणों में कार्य पालन यंत्री द्वारा वरिष्ठ कार्यालय के स्पष्ट आदेशों के बावजूद कोटेशन में कार्य कराया गया है जब लिपिक अवकाश अवधि के भुगतान की जाँच की जायेगी तो स्पष्ट हो जावेगा कि सैयाम का  कार्यलीन आदेश जारी नहीं किया गया और सैयाम लिपिक की फर्जी आई डी लागिन पासवर्ड वेंडर आई डी बनाकर कार्यपालन यंत्री एवं सभागीय लेखापाल श्री गोविन्द कुमार के द्वारा संचालित कर भुगतान किया गया है उक्त बिन्दु के संबंध मे जब सूचना के अधिकार के तहत जानकारी मागी गयी जिसमें कार्यपालन यंत्री द्वारा अपने आदेश क्रमांक 1277/ लेखा/लो.स्वा.या मण्डला दिनाँक 21/4/22/ को श्री गोविन्द कुमार सभागीय लेखा अधिकारी के नाम से वरिष्ठ लेखा लिपिक के कार्यों के निषपादन के संबद्ध  में आदेश प्रसारित किया गया अगर उक्त आदेश 21/4/22/ को जारी किया गया होता फिर सैयाम सहा गेड 2 के नाम जिला कोषालय एवं विभाग से जो कियेटर लागिन पासवर्ड वेंडर आई डी बनाईं गयी वह फर्जी नहीं थी यह कूट रचनाकर लाखों के भुगतान किये गए हैं इस समबध माननीय कलेक्टर महोदय एवं वरिष्ठ अधिकारियों को पत्र लिखकर जाँच की मांग की गई है जाँच में अनेको प्रकरणों के तथाकथित हैड पम्प साधारण कार्य ग्राम पचायत खैरी समूह नल जल योजनाएव समूह नल जल योजना सालीवाडा में कार्य पालन यंत्री के द्वारा वरिष्ठ कार्यालय के स्पष्ट आदेशों के बावजूद कोटेशन मै कार्य कराया जा रहा है कार्यपालन यंत्री द्वारा वरिष्ठ अधिकारियों को गुमराह कर जानकारी प्रेषित कर कुछ कर्मचारियों को शासन के स्पष्ठ निर्देश के बावजूद भी सलग्नकरण कराकर  भ्रष्ट्राचार किया जा रहा है जिसकी पूर्व में शिकायत की गई थी लेकिन जाँच किसी  प्रशासनिक अधिकारियों से कराई जाती तो निश्चित बड़ा भ्रष्टाचार सामने आएगा और जिले में सबसे बड़ा घोटाला निकल आयेगा और किंतने कर्मचारियों पर गाज गिरेंगी मगर कही एक बार कही नोटों के आगे मामला दब ना जाये

No comments:

Post a Comment