बैंकों में जमा 48 हजार करोड़ का कोई दावेदार नहीं, जानिए RBI की नई पहल - revanchal times new

revanchal times new

निष्पक्ष एवं सत्य का प्रवर्तक

Breaking

रेवांचल टाइम्स अखबार पाठकों से अनुरोध करता है कि आप अपने सुझाव हम तक जरूर भेजें.. ताकि आने वाले समय मे हम आपकी मदद से और भी बेहतर कार्य कर सकें... साथ ही यदि आपको लेख अच्छा लगे तो इसे ओरों तक भी पहुंचाए.. प्रकाशन हेतु ख़बरें, विज्ञप्ति मोबाइल- 9406771592 पर व्हाट्सएप्प करें

Wednesday, July 27, 2022

बैंकों में जमा 48 हजार करोड़ का कोई दावेदार नहीं, जानिए RBI की नई पहल



महंगाई (Dearness) के इस दौर में लोग पैसा बचाने में जद्दोजहद कर रहे हैं, तो वहीं देश के बैंको में अरबों रुपए की धनराशि ऐसी पड़ी है, जिसका कोई मालिक ही नहीं है। अब रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया (RBI) ने ऐसी ‘Unclaimed Money’ को उनके सही वारिसों तक पहुंचाने के लिए अभियान (Rbi Campaign) शुरू करने की घोषणा की है। बैंक के मुताबिक देश के 8 ऐसे राज्य हैं, जहां पर इस तरह की रकम सबसे ज्यादा बैंकों में भरी पड़ी है।

आपको बता दें कि रिजर्व बैंक की सालाना रिपोर्ट के मुताबिक वर्ष 2020-21 में बैंकों में मौजूद ‘Unclaimed Money’ यह राशि 39,264 करोड़ रुपये थी। वहीं वित्त वर्ष 2021-22 में बैंकों में बिना दावे वाली राशि बढ़कर 48,262 करोड़ रुपये पर पहुंच गई. ऐसे में बिना दावे वाली जमा राशि के असली दावेदारों की तलाश के लिए एक राष्ट्रीय अभियान शुरू किया गया है।
RBI के मुताबिक देश के 8 राज्य ऐसे हैं, जहां पर इस तरह की बिना दावे वाली धनराशि (Unclaimed Money) सबसे ज्यादा जमा है। इनमें तमिलनाडु, पंजाब, गुजरात, महाराष्ट्र, बंगाल, कर्नाटक, बिहार और तेलंगाना/आंध्र प्रदेश शामिल हैं।


वहीं केंद्रीय बैंक के नियमों के मुताबिक ऐसे बचत/चालू खाते जिनमें 10 साल तक लगातार किसी प्रकार का लेनदेन नहीं हुआ है या ऐसा फिक्स डिपॉजिट, जिसके मैच्योर होने के 10 साल बाद भी कोई कोई दावा नहीं किया गया है, उसे ‘Unclaimed Money’माना जाता है।

RBI के अनुसार, भले ही इस धनराशि का कोई दावेदार (Unclaimed Money) न हो, लेकिन इसके बावजूद उस पर ब्याज बनता रहता है। ऐसे में कोई व्यक्ति चाहे तो संबंध बैंक में जाकर उस खाते को दोबारा से ओपन करवाकर ब्याज समेत वह धनराशि निकाल सकता है। बैंक प्रशासन का कहना है कि लगातार कई जागरूकता अभियानों के बावजूद बिना दावे वाले इस धनराशि के असली मालिक सामने नहीं आ रहे हैं, जिससे इसकी मात्रा हर साल बढ़ती जा रही है।

No comments:

Post a Comment