20 राज्यों में आफत बनकर आई बारिश,अब तक 148 की मौत - revanchal times new

revanchal times new

निष्पक्ष एवं सत्य का प्रवर्तक

Breaking

🙏जय माता दी🙏 शुभारंभ शुभारंभ माँ नर्मदा की कृपा और बुजुर्गों के आशीर्वाद से माँ रेवा पब्लिकेशन एन्ड प्रिंटर्स का हुआ शुभारंभ समाचार पत्रों की प्रिंटिग हेतु संपर्क करें मोबाईल न- 0761- 4112552/07415685293, 09340553112,/ 9425852299/08770497044 पता:- 68/1 लक्ष्मीपुर विवेकानंद वार्ड मुस्कान प्लाजा के पीछे एम आर 4 रोड़ उखरी जबलपुर (म.प्र.)

Tuesday, July 12, 2022

20 राज्यों में आफत बनकर आई बारिश,अब तक 148 की मौत



देश के अधिकांश राज्यों में मानसून सक्रिय हो गया है। भारी बारिश की वजह से तबाही मची हुई है। लगातार हो रही बारिश के कारण 20 से ज्यादा राज्यों में बाढ़ जैसे हालात बन गए है। पश्चिम और मध्य भारत के कुछ हिस्सों में सोमवार को हुई भारी बारिश के कारण हजारों लोगों को सुरक्षित स्थानों पर ले जाया गया।

लगातार बारिश के कारण कई नदियों के जल स्तर में वृद्धि हुई है। महाराष्ट्र, गुजरात और मध्य प्रदेश में बारिश और बिजली गिरने की अलग अलग घटनाओं में 148 लोगों की मौत हो चुकी है। भारतीय मौसम विज्ञान विभाग (आईएमडी) ने पूर्वोत्तर राज्य असम, मेघालय के बाद अब मध्यप्रदेश, गुजरात, महाराष्ट्र में भी भारी बारिश की चेतावनी जारी की गई है।

तेलंगाना में भारी वर्षा की चेतावनी के बीच तीन दिन तक शिक्षण संस्थानों को बंद करने का निर्देश दिया गया है। सरकारी तंत्र को किसी भी चुनौती से निपटने के लिए तैयार रहने को कहा गया है। कर्नाटक के तटीय जिलों में रविवार को भी भारी वर्षा जारी रही। इससे दक्षिण कन्नड़ के निचले क्षेत्रों में पानी भर गया है। कई स्थानों पर बाढ़ के कारण यातायात बाधित हो गया है।

असम में बाढ़ की स्थिति में सुधार हो रहा है, लेकिन लोगों की मौत का सिलसिला नहीं थम रहा। राज्य में दो लोगों की और मौत हो गई। इस तरह से बाढ़ और भूस्खलन से मरने वालों की संख्या बढ़कर 192 हो गई है। 12 जिलों में 5,39,334 लोग बाढ़ से अभी भी प्रभावित हैं। कुल 390 गांव पानी में डूबे हुए हैं। कछार सबसे ज्यादा प्रभावित जिला है, जहां 3,55,960 लोग प्रभावित हैं।

गुजरात में 9000 लोग सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया
गुजरात में बीते दिनों से लगातार हो रही बारिश होने की वजह से बाढ़ के हालात बन गए है। भारी बारिश के कारण 6 जिलों में बाढ़ से जनजीवन अस्त-व्यस्त है। दक्षिण और मध्य गुजरात के जिलों में भारी बारिश के कारण कम से कम सात लोगों की मौत हो गई। 9,000 से अधिक लोगों को स्थानांतरित कर दिया गया और 468 को बचाया गया। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मुख्यमंत्री भूपेंद्र पटेल से फोन पर बात की और हालात की जानकारी ली। उन्होंने केंद्र की ओर हर संभव मदद का आश्वासन दिया।

महाराष्ट्र में बारिश का कहर
महाराष्ट्र में भारी बारिश से हाहाकार मचा हुआ है। रत्नगिरि समेत 4 जिलों में ऑरेंज और 8 जिलों में बारिश का यलो अलर्ट जारी किया है। प्रशासन की ओर से संबंधित विभागों को अलर्ट पर रखा गया है। महाराष्ट्र के रत्नगिरि समेत 4 जिलों में ऑरेंज और 8 जिलों में बारिश का यलो अलर्ट जारी किया है। प्रशासन की ओर से संबंधित विभागों को अलर्ट पर रखा गया है।

पुणे जिले में प्रसिद्ध भीमाशंकर मंदिर मार्ग पर भारी बारिश के बाद सोमवार को तड़के भूस्खलन हो गया। बीते तीन दिन में महाराष्ट्र के गढ़चिरौली में तीन लोग नाले में बह गए। कड़ी मशक्कत के बाद उनके शव को निकाला गया। हालांकि नाले में बह जाने के कारण तीन और लोग अब भी लापता हैं।

एमपी में बिजली ने ली 7 की जान
मौसम विभाग ने मध्य प्रदेश के 52 में से 33 जिलों में भारी भारी बारिश के लिए ‘ऑरेंज अलर्ट’ जारी किया। बारिश के दौरान आकाशीय बिजली गिरने से 24 घंटे में सात लोगों की मौत हो गई। एक जून से अब तक राज्य भर में ऐसी घटनाओं से मरने वालों की संख्या 60 हो गई।

No comments:

Post a Comment