कमीशन खोरी के लिए कुख्यात जिला पंचायत के पूर्व उपाध्यक्ष शैलेष मिश्रा ने दी जान से मारने की धमकी, आदिवासी अभ्यर्थी ने की चुनाव आयोग को शिकायत....पढ़ें पूरी खबर - revanchal times new

revanchal times new

निष्पक्ष एवं सत्य का प्रवर्तक

Breaking

रेवांचल टाइम्स अखबार पाठकों से अनुरोध करता है कि आप अपने सुझाव हम तक जरूर भेजें.. ताकि आने वाले समय मे हम आपकी मदद से और भी बेहतर कार्य कर सकें... साथ ही यदि आपको लेख अच्छा लगे तो इसे ओरों तक भी पहुंचाए.. प्रकाशन हेतु ख़बरें, विज्ञप्ति मोबाइल- 9406771592 पर व्हाट्सएप्प करें

Wednesday, June 29, 2022

कमीशन खोरी के लिए कुख्यात जिला पंचायत के पूर्व उपाध्यक्ष शैलेष मिश्रा ने दी जान से मारने की धमकी, आदिवासी अभ्यर्थी ने की चुनाव आयोग को शिकायत....पढ़ें पूरी खबर

 शैलेष मिश्रा ने दी आदिवासी अभ्यर्थी को जान से मारने की धमकी, थाना और जिला निर्वाचन अधिकारी को अभ्यर्थी ने की लिखित शिकायत...

आरोपी शैलेष मिश्रा 






रेवांचल टाईम्स - मंडला जिले में चल रहे त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव में है जारी कश्ममश वही आरोप प्रत्यारोप का दौर चल रहा जहाँ एक और प्रदेश के यशस्वी मुख्यमंत्री निष्पक्ष चुनाव निर्विरोध चुनाव कराने पर जोर दे रहे है तथा देश के प्रधानमंत्री आदिवासियों को राष्ट्रपति जैसे सर्वोच्च पद पर पहुँचा रहे है वही दूसरी ओर आदिवासी बाहुल्य मंडला जिले में आदिवासी सुरक्षित नजर नही आ रहे है। जिसका जीता जागता उदाहरण आज देखने को मिला है जिसमे जिला पंचायत चुनाव क्षेत्र क्रमांक 1 के अभ्यर्थी देवेंद्र मरावी और कृष्ण कुमार चौकसे ने वर्तमान में चुनाव लड़ रहे जिला पंचायत क्षेत्र क्रमांक 1 में शैलेश मिश्रा से अपनी जान माल का खतरा बताते हुए पुलिस प्रशासन और जिला प्रशासन से सुरक्षा की माग की गई है साथ ही आदिवासी समाज के निवास विधानसभा के विधायक ने घटना की घोर निंदा की है साथ ही चुनाव प्रतिद्वता एक अलग विषय है लेकिन जान से मारना पूर्णतः गलत है।

जिला पंचायत सदस्य चुनाव क्रमांक 1 में आमने सामने लड़ रहे प्रत्याशियों को अपनी हार का डर सता रहा है वही दूसरी ओर चुनाव लड़ रहे जिला पंचायत के उपाध्यक्ष शैलेष मिश्रा अपने पैसों के दम पर खरीद फरोज की राजनीति की जन चर्चा जोरो पर बनी हुई साथ ही उपाध्यक्ष के ऊपर चुनाव लड़ रहे प्रत्याशियों को दी जा रही है जान से मारने की धमकी प्रत्याशी ने की जिला निर्वाचन ओर पुलिस थाने में लिखित शिकायत की है लिखित शिकायत में कहा गया है कि...

मैं देवेंद्र मरावी निवासी बक्छैरा गोंदी जिला पंचायत क्षेत्र क्रमांक 1 से प्रत्याशी हूं। महोदय जी से निवेदन है कि मेरे प्रति द्वंदी शैलेश मिश्रा पूर्व में मुझे क्षेत्र क्रमांक 1 से चुनाव ना लड़ने के लिए रोक रहा था। बाद में मेरे निर्वाचन फॉर्म को रद्द कराने के लिए निर्वाचन अधिकारी से झूठी आपत्ति दर्ज कराया। लेकिन वर्तमान जिला पंचायत क्षेत्र क्रमांक 1 में शैलेश मिश्रा के द्वारा बाहरी प्रांत, जिला के संदिग्ध व्यक्तियों को प्रचार में बुलवाया हैं, जिससे किसी अप्रिय घटनाओं या चुनाव प्रभावित का अंदेशा है।




महोदय जी से आग्रह है कि क्षेत्र क्रमांक 1 से सभी सभी पोलिंग बूथों पर सीसीटीवी कैमरे की निगरानी में मतदान डाले जाने और गिनती की जाए एवं मुझे सुरक्षा प्रदान की जाए मेरे ऊपर किसी भी प्रकार की हमला यह घटना होता है उसकी जिम्मेदारी शैलेश मिश्रा होंगे। वही क्षेत्र क्रमांक एक के ही प्रत्याशी कृष्ण कुमार चौकसे ने भी शैलेश मिश्रा से भयभीत होकर आरोप लगाया है कि मेरे विपक्षी जो है धन बल से मजबूत है जिस कारण से मुझे जान का खतरा बना हुआ है यह कहते हुए जान की सुरक्षा की माँग करते हुए जिला प्रशासन लिखित में आवेदन दिया है।

वही लोगो मे जनचर्चा है कि सालो से जिला पंचायत उपाध्यक्ष के पद पर आसीन रहे शैलेश मिश्रा पर पहले भी गंभीर आरोप लग चुके है पर सत्ता और धन बल से मजबूत होने कारण आज तक बचते नजर आए है पर क्या धन बल से चुनाव लड़ रहे पूर्व जिला पंचायत उपाध्यक्ष शैलेश मिश्रा को मतदाताओं का आशीर्वाद प्राप्त होगा या फिर हार का सामना करना पड़ेगा ये देखना बाकी है और ये आगामी 1 तारीख़ को चुनाव नतीजे साफ़ कर देंगे। वही अपने निस्वार्थ के चलते शैलेश मिश्रा के द्वारा ग्राम बिनेका में एक हाई स्कूल स्वीकृत हुआ था जिसे ये अपनी वाहवाही लूटने के चक्कर मे अपने गृह ग्राम के पास सागर ग्राम में निर्माण करा दिया गया जिस कारण से क्षेत्रीय जनता में आक्रोश पनप रहा है। वही इस चुनाव में जनचर्चा बनी हुई है जिला पंचायत के शिक्षा समिति के अध्यक्ष स्वयं ही अशिक्षित है। लोगो का यह कहना है कि शैलेश मिश्रा जिला पंचायत उपाध्यक्ष के 13 वर्ष के कार्यकाल में केवल शिक्षा विभाग के साथ अन्य निर्माण कार्यों में ठेकेदारी कमीशन खोरी और पद का दुरूपयोग करते हुए जिले की नदियों नालों का सीना छलनी करते हुए 24 घण्टे रेत का अबैध उत्तखन्न अबैध परिवहन करते रहे है चर्चा यह भी बनी हुई है कि पूर्व में सहायक आयुक्त कार्यालय में पदस्त डॉ सन्तोष शुक्ला के बहुत ही क़रीबी सबंध होने के कारण जिले के आदिवासी छात्रावासों में खुल के ठेकेदारी और सप्लाई की गई है और उसके एवज में करोड़ो के फर्जी बिल का भुगतान लिया गया साथ इनके ऊपर पहले ग्राम वासियो ने सरकारी भूमि में अतिक्रमण करने का आरोप भी लगाए है और आय से अधिक संपत्ति की शिकायत भी हुई थी पर धन बल के कारण आज तक बचते रहे है

                    इनका कहना है 

     चुनाव में प्रतिद्वता होनी चाहिए लेकिन यदि कोई भी प्रत्याशी अपने से लड़ने वाले प्रत्याशी को जान से मारने की धमकी अगर दे रहा है तो वह गलत है वह भी खास कर आदिवासी को जिला प्रशासन और पुलिस प्रशासन को सबन्धित शिकायत कर्ताओ को  सुरक्षा मुहैया कराना चाहिए जिससे चुनाव शांति पूर्वक सम्पन्न हो सके।

                               डॉ अशोक मर्सकोले

                   विधायक विधानसभा निवास मंडला

No comments:

Post a Comment