EOW Raid:तहसीलदार का रीडर 35 हजार की रिश्वत लेते गिरफ्तार, खसरे से नाम हटाने के लिए मांगी थी घूस - revanchal times new

revanchal times new

निष्पक्ष एवं सत्य का प्रवर्तक

Breaking

रेवांचल टाइम्स अखबार पाठकों से अनुरोध करता है कि आप अपने सुझाव हम तक जरूर भेजें.. ताकि आने वाले समय मे हम आपकी मदद से और भी बेहतर कार्य कर सकें... साथ ही यदि आपको लेख अच्छा लगे तो इसे ओरों तक भी पहुंचाए.. प्रकाशन हेतु ख़बरें, विज्ञप्ति मोबाइल- 9406771592 पर व्हाट्सएप्प करें

Monday, June 20, 2022

EOW Raid:तहसीलदार का रीडर 35 हजार की रिश्वत लेते गिरफ्तार, खसरे से नाम हटाने के लिए मांगी थी घूस

 



रेवांचल टाईम्स  जबलपुर आर्थिक अन्वेषण ब्यूरो की टीम ने बालाघाट जिले के लालबर्रा में कार्रवाई करते हुए तहसीलदार के रीडर को 35 हजार रूपए की रिश्वत लेते हुए रंगे हाथों गिरफ्तार किया है।आरोपी रीडर का नाम पेमेंद्र हरिनखेड़े है। जो सहायक ग्रेड-3 के पद पर पदस्थ है। ईओडब्ल्यू ने रिश्वत लेते हुए तहसीलदार के रीडर को उसके घर से ही रंगे हाथों गिरफ्तार किया है।

                         देवेन्द्र प्रताप सिंह ईओडब्ल्यू एसपी ने बताया कि बालाघाट विवेकानंद कॉलोनी निवासी अरुण जेठवा की लालबर्रा में फैक्ट्री की जमीन है। जिसमें और भागीदार थे। जो अब अलग हो चुके है। अरुण जेठवा ने तहसील कार्यालय में फैक्ट्री की जमीन के खसरे से सभी भागीदारों के नाम अलग करने हेतु आवेदन दिया था। जिस पर से तहसीलदार राम बाबू देवांगन के रीडर ने उनसे 50 हजार रुपए रिश्वत की मांग की। बाद में सौदा 40 हजार रूपए में तय हुआ।जिसकी पहली किस्त पाँच हजार रु की 15 जून को अरुण जेठवा ने तहसीलदार के रीडर को दे दी। रिश्वत मांगे जाने की शिकायत अरुण जेटवा ने  की।

 फैक्ट्री मालिक को घर में बुलाया था

40 हजार रुपए में सौदा तय होने के बाद रिश्वत की अंतिम क़िस्त जो कि 35 हजार रुपए की थी। उसे पाने के लिए तहसीलदार के रीडर पेमेंद्र हरिनखेड़े ने अरुण जेठवा को अपने घर बुलाया। जैसे ही रिश्वत के 35 हजार रुपए आरोपी रीडर नें लिए तभी आर्थिक अन्वेषण ब्यूरो की टीम ने उन्हें रँगे हाथों गिरफ्तार कर लिया।

No comments:

Post a Comment