आज इन 3 सुंदरकांड के श्लोकों से करें बजरंगबली की आराधना, होंगे सारे संकट दूर - revanchal times new

revanchal times new

निष्पक्ष एवं सत्य का प्रवर्तक

Breaking

रेवांचल टाइम्स अखबार पाठकों से अनुरोध करता है कि आप अपने सुझाव हम तक जरूर भेजें.. ताकि आने वाले समय मे हम आपकी मदद से और भी बेहतर कार्य कर सकें... साथ ही यदि आपको लेख अच्छा लगे तो इसे ओरों तक भी पहुंचाए.. प्रकाशन हेतु ख़बरें, विज्ञप्ति मोबाइल- 9406771592 पर व्हाट्सएप्प करें

Tuesday, June 14, 2022

आज इन 3 सुंदरकांड के श्लोकों से करें बजरंगबली की आराधना, होंगे सारे संकट दूर



मंगलवार का दिन भक्तों के लिए काफी अहम होता है। आज का दिन रामभक्त हनुमान (Hanuman) जी की पूजा के लिए है। आज आप सुंदरकांड (Sunderkand) के श्लोकों का पाठ करते हैं, तो हनुमान जी आप पर प्रसन्न होंगे। उनकी कृपा से आपके सब काम पूर्ण होंगे। मंगलवार को जन्मे पवनपुत्र हनुमान जी संकटमोचन हैं। वे आपके सभी संकटों को दूर करते हैं और मनोकामनाएं पूरी करते हैं।
आज इन 3 सुंदरकांड के श्लोकों से करें बजरंगबली की आराधना


श्रीरामचरितमानस में तुलसीदास जी ने सुंदरकांड (Tuesday Sunderkand) में वीर बजरंगबली के पराक्रम और साहस का वर्णन किया है। आज ज्येष्ठ माह के शुक्ल पक्ष की सप्तमी तिथि है। आज मंगलवार का दिन हनुमान जी की भक्ति में स्वयं को समाहित कर लेने का अवसर है। आज स्नान के बाद बजरंगबली को बूंदी, बेसन के लड्डू, गेंदे के फूलों की माला, सिंदूर, लाल कपड़ा, फल, फूल, मिठाई आदि चढ़ाकर पूजा करनी चाहिए। आप सच्चे मन से भगवान राम और उनके भक्त हनुमान की पूजा करेंगे तो बजरंगी बहुत प्रसन्न होंगे।
सुंदरकांड के 3 श्लोक

1. शान्तं शाश्वतम प्रमेयमनघं निर्वाणशान्तिप्रदं, ब्रह्माशम्भुफणीन्द्रसेव्यमनिशं वेदान्तवेद्यं विभुम्‌।

रामाख्यं जगदीश्वरं सुरगुरुं मायामनुष्यं हरिं, वन्देऽहं करुणाकरं रघुवरं भूपालचूडामणिम्‌॥1॥

2. नान्या स्पृहा रघुपते हृदयेऽस्मदीये, सत्यं वदामि च भवानखिलान्तरात्मा।

भक्तिं प्रयच्छ रघुपुंगव निर्भरां मे, कामादिदोषरहितं कुरु मानसं च॥2॥


3. अतुलितबलधामं हेमशैलाभदेहं, दनुजवनकृशानुं ज्ञानिनामग्रगण्यम्‌।


सकलगुणनिधानं वानराणामधीशं, रघुपतिप्रियभक्तं वातजातंनमामि॥3॥
होंगे सारे संकट दूर

सुंदरकांड (Tuesday Sunderkand) के प्रारंभ में लिखे गए 3 श्लोकों में से पहले में प्रभु श्रीराम की महिमा और महात्म का वर्णन किया गया है। दूसरे श्लोक में प्रभु श्रीराम से अपनी भक्ति प्रदान करने का निवेदन किया है और तीसरे श्लोक में वीर हनुमान जी का गुणगान है। प्रभु राम का नाम लेने से हनुमान जी प्रसन्न होते हैं, इसलिए हनुमान जी की कृपा प्राप्त करने के लिए प्रभु श्रीराम के नाम का जप भी आवश्यक है।

No comments:

Post a Comment