Vat Savitri Vrat 2022 Date: 29 या 30 मई कब रखा जाएगा वट सावित्री व्रत, जानें इस दिन क्या खाना चाहिए - revanchal times new

revanchal times new

निष्पक्ष एवं सत्य का प्रवर्तक

Breaking

रेवांचल टाइम्स अखबार पाठकों से अनुरोध करता है कि आप अपने सुझाव हम तक जरूर भेजें.. ताकि आने वाले समय मे हम आपकी मदद से और भी बेहतर कार्य कर सकें... साथ ही यदि आपको लेख अच्छा लगे तो इसे ओरों तक भी पहुंचाए.. प्रकाशन हेतु ख़बरें, विज्ञप्ति मोबाइल- 9406771592 पर व्हाट्सएप्प करें

Thursday, May 26, 2022

Vat Savitri Vrat 2022 Date: 29 या 30 मई कब रखा जाएगा वट सावित्री व्रत, जानें इस दिन क्या खाना चाहिए




रेवांचल टाईम्स:वट सावित्री व्रत हर साल ज्येष्ठ मास की अमावस्या तिथि को रखा जाता है। इस साल व्रत सावित्री व्रत की तिथि को लेकर असमंजस की स्थिति बनी हुई है। व्रती महिलाएं समझ नहीं पा रही हैं कि वट सावित्री व्रत किस दिन रखें। वट सावित्री व्रत को सुहागिन महिलाएं रखती हैं। इस दिन मां लक्ष्मी व भगवान विष्णु की पूजा की पूजा का विधान है। मान्यता है कि इस दिन वट वृक्ष यानी बरगद के पेड़ की पूजा करने से अखंड सौभाग्य की प्राप्ति होती है। इसके साथ ही वट सावित्री व्रत कथा सुनने की भी परंपरा है।

वट सावित्री व्रत 2022 कब है?

हिंदू पंचांग के अनुसार, ज्येष्ठ मास की अमावस्या तिथि की शुरुआत 29 मई, दिन रविवार को दोपहर 02 बजकर 54 मिनट से हो रही है। इस तिथि का समापन 30 मई, सोमवार को शाम 04 बजकर 59 मिनट पर होगा। वट सावित्री व्रत के लिए अमावस्या की उदयातिथि देखी जाती है। सूर्योदय के समय अमावस्या तिथि 30 मई को पड़ रही है। इस तिथि का समापन 30 मई को शाम 04 बजकर 59 मिनट पर हो रहा है। ऐसे में वट सावित्री व्रत 30 मई 2022 को रखा जाएगा।

वट सावित्री व्रत पर बन रहे शुभ योग-

वट सावित्री व्रत के दिन सर्वार्थ सिद्धि योग बन रहा है। यह योग सुबह 07 बजकर 12 मिनट से प्रारंभ होगा, जो कि पूरे दिन रहेगा। इस दिन व्रत करना अति पुण्य फलदायी माना गया है। इस दिन सुकर्मा योग सुबह से लेकर रात 11 बजकर 39 मिनट तक रहेगा।

वट सावित्री व्रत में क्या खाना चाहिए

वैसे तो वट सावित्री व्रत पूरे दिन नहीं रखा जाता है, लेकिन कुछ महिलाएं पूरे दिन भी व्रत रखती हैं। वट सावित्री व्रत में जो पूजा में चढ़ाया जाता है, उन्हीं चीजों को खाया जाता है। वट सावित्री व्रत में आम, चना, पूरी, खरबूजा, पुआ आदि इन सभी चीजों से वट वृक्ष की पूजा की जाती है। जब व्रत पूरा हो जाता है, तब इन्हीं चीजों को खाया जाता है।

No comments:

Post a Comment