कोरोना में माता-पिता खोने वाले बच्चों को मोदी ने जारी की पीएम केयर्स के तहत सहायता - revanchal times new

revanchal times new

निष्पक्ष एवं सत्य का प्रवर्तक

Breaking

रेवांचल टाइम्स अखबार पाठकों से अनुरोध करता है कि आप अपने सुझाव हम तक जरूर भेजें.. ताकि आने वाले समय मे हम आपकी मदद से और भी बेहतर कार्य कर सकें... साथ ही यदि आपको लेख अच्छा लगे तो इसे ओरों तक भी पहुंचाए.. प्रकाशन हेतु ख़बरें, विज्ञप्ति मोबाइल- 9406771592 पर व्हाट्सएप्प करें

Monday, May 30, 2022

कोरोना में माता-पिता खोने वाले बच्चों को मोदी ने जारी की पीएम केयर्स के तहत सहायता



नई दिल्ली: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सोमवार को पीएम केयर्स फॉर चिल्ड्रन योजना के तहत कोविड-19 महामारी के दौरान अपने माता-पिता को खोने वाले बच्चों के लिए पैकेज जारी किया। इस अवसर पर, मोदी ने स्कूली बच्चों को छात्रवृत्ति ट्रांसफर की और पीएम केयर्स फॉर चिल्ड्रन की पासबुक और आयुष्मान भारत-प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना के तहत एक स्वास्थ्य कार्ड सौंपा।

पीएम केयर्स फॉर चिल्ड्रन योजना 29 मई, 2021 को उन बच्चों के लिए शुरू की गई थी, जिन्होंने 11 मार्च, 2020 से 28 फरवरी, 2022 की अवधि के दौरान अपने माता-पिता या कानूनी अभिभावक या दत्तक माता-पिता या जीवित माता-पिता दोनों को महामारी से खो दिया है।


मोदी ने वीडियो कॉन्फ्रेंस में कहा, ''मुझे पता है कि कोविड-19 महामारी के दौरान अपने परिवार के सदस्यों को खोने वाले लोगों के लिए स्थिति कितनी कठिन है। यह कार्यक्रम उन बच्चों के लिए है, जिन्होंने महामारी के दौरान अपने माता-पिता को खो दिया है। पीएम केयर्स फॉर चिल्ड्रन स्कीम ऐसे बच्चों के लिए एक प्रयास है।''


मोदी ने कहा कि अगर किसी को व्यावसायिक पाठ्यक्रमों के लिए, उच्च शिक्षा के लिए शिक्षा ऋण की जरूरत है, तो उसमें भी पीएम-केयर्स मदद करेगा। अन्य दैनिक जरूरतों के लिए अन्य योजनाओं के माध्यम से उनके लिए हर महीने ₹4,000 की व्यवस्था भी की गई है।




प्रधानमंत्री कार्यालय (पीएमओ) के अनुसार, इस योजना का उद्देश्य बच्चों को बोर्डिंग और लॉजिंग प्रदान करके व्यापक देखभाल और सुरक्षा सुनिश्चित करना, शिक्षा और छात्रवृत्ति के माध्यम से उन्हें सशक्त बनाना, उन्हें 23 वर्ष की आयु प्राप्त करने पर ₹10 लाख की वित्तीय सहायता के साथ आत्मनिर्भर अस्तित्व के लिए सुसज्जित करना और स्वास्थ्य बीमा के माध्यम से उनकी भलाई सुनिश्चित करना है।

बच्चों के पंजीकरण के लिए सरकार द्वारा एक ऑनलाइन पोर्टल शुरू किया गया था। पोर्टल एक एकल विंडो प्रणाली है, जो बच्चों के लिए अनुमोदन प्रक्रिया और अन्य सभी सहायता की सुविधा प्रदान करती है।




उन्होंने कहा, ''जब ऐसे बच्चे अपनी स्कूली शिक्षा पूरी कर लेंगे, तो भविष्य के सपनों के लिए अधिक धन की आवश्यकता होगी। इसके लिए 18-23 साल की उम्र के युवाओं को हर महीने वजीफा मिलेगा और जब वे 23 साल के होंगे तो उन्हें 10 लाख रुपये मिलेंगे।''




उन्होंने आगे कहा कि पीएम केयर्स फंड ने महामारी के दौरान अस्पतालों को तैयार करने, वेंटिलेटर खरीदने और ऑक्सीजन प्लांट स्थापित करने में बहुत मदद की। इससे कई लोगों की जान बचाई जा सकती थी। जो लोग हमें असमय छोड़कर चले गए, आज इस फंड का इस्तेमाल उनके बच्चों के लिए, आप सभी के भविष्य के लिए किया जा रहा है।




समग्र कोविड-19 स्थिति पर बोलते हुए पीएम मोदी ने कहा कि भारत एक समस्या नहीं बना, बल्कि समाधान-दाता है। मोदी ने कहा, "हमने दुनिया भर के देशों को दवाएं और टीके भेजे हैं। हमने अपने नागरिकों के लिए टीके लगाए। देश में लगभग 200 करोड़ वैक्सीन की खुराक दी जा चुकी है।''

No comments:

Post a Comment