ग्राम पंचायत गोराछापर में चल रहा सरपंच पति सीता राम की दबंगई, मनरेगा के निर्माण कार्य मे रातों रात खड़े हो चलवा जेसीबी जिले के अधिकारियों का खुला संरक्षण... - revanchal times new

revanchal times new

निष्पक्ष एवं सत्य का प्रवर्तक

Breaking

रेवांचल टाइम्स अखबार पाठकों से अनुरोध करता है कि आप अपने सुझाव हम तक जरूर भेजें.. ताकि आने वाले समय मे हम आपकी मदद से और भी बेहतर कार्य कर सकें... साथ ही यदि आपको लेख अच्छा लगे तो इसे ओरों तक भी पहुंचाए.. प्रकाशन हेतु ख़बरें, विज्ञप्ति मोबाइल- 9406771592 पर व्हाट्सएप्प करें

Thursday, May 26, 2022

ग्राम पंचायत गोराछापर में चल रहा सरपंच पति सीता राम की दबंगई, मनरेगा के निर्माण कार्य मे रातों रात खड़े हो चलवा जेसीबी जिले के अधिकारियों का खुला संरक्षण...




रेवांचल टाईम्स - प्रदेश के मुखिया लाख कहते रह गये कि माफिया राज खत्म करना है मगर पंचायत स्तर पर जमकर गोलमाल कर  सरपंच पतियों ने करोड़ों की संम्पति अर्जित कर ली है  मगर ग्राम गोराछापर के सरपंच पति ग्राम पंचायत होने वाले निर्माण कार्य मे सरपंच पति सामने खड़ा होकर निर्माण कार्य करवाता है और जिसने शिकायत की तो उसकी ऐसी झूठी शिकायत करता है ग्रामीण जनता को सामने खड़ा होने में डर लगता है क्योंकि स्वयं अपने से कहता है उसके राजनीतिक पकड़ मजबूत और मंत्रियों से गहरे सबद्ध है जिसके कारण उसके द्वारा पंचायत में जमकर  भ्रष्टाचार किया गया है और परिवार के नाम पर संपत्ति बनाई है!


क्या है मामला 


       ग्राम मुरली टोला में नवीन तालाब निर्माण दो वर्ष पहले मनरेगा योजना के अंतर्गत किया गया था तालाब की स्वीकृति राशि 24 लाख अठ्ठासी हजार है तालाब में बहुत से काम अधुरा है और सरपंच सचिव और उपयंत्री के साथ मिलकर राशि आहरण कर ली गई थी और माप पुस्तिका भी जारी कर दी गई जब तालाब निर्माण कार्य शिकायत ग्रामवासियों के द्वारा सी एम हेल्पलाइन में कि गई  सरपंच भागीरथी गोंड सरपंच पति सीता राम गोंड के द्वारा रातों-रात जे सी पी मशीन और टैक्टर ट्राली से काम चालू कर दिया गया जानकारी मिलते ही ग्रामवासी मोके में पहुंचे तों सरपंच पति सीताराम गोंड शासकीय कर्मचारी होने के बाद भी 12 बजे सामने से मनरेगा जेसीबी मशीन और टैक्टर ट्राली से तालाब में काम स्वयं  करा रहा था वही रातों-रात ग्रामवासियों ने जब इसका विरोध किया तो उसके द्वारा देख लेने की खुली धमकी दी गई और जहाँ शिकायत करना है वहाँ शिकायत कर दो जैसे शब्द का प्रयोग किया गया जिससे साफ पता चलता है जनपद पंचायत के अधिकारियों का खुला संरक्षण है जिसको जानकारी होने के बाद भी मनरेगा में मशीन से कार्य  क्यों कराव्या जा रहा हैं मनरेगा योजना के अंतर्गत जो भी काम होता है मजदूरों से कराया जाता है ताकि ग्रामीण को रोजगार मिलेगा सरपंच पति सीताराम गोंड ने ग्रामवासियों को खुलकर बोलाता है मेरी पहुंच जिले के कलेक्टर से लगाकर मंत्री तक हे मेरा कुछ नहीं कर सकता है 

जिससे साफ होता है कि सरपंच पति कितना दबंग है जिससे जिला प्रशासन और जिले के अधिकारी भी डरते है जिसके सरपंच पति के हौसले बुलंद है!


पूर्व में सरपंच पति ने ग्रमीणों की कर चुका है झूठी शिकायत...


        वही सर सरपंच पति को मंडला जिले के कोई कार्यालय ऐसा नही है जहाँ इसका प्रभाव ना हो उसकी जब भी उसकी शिकायत होती है तो अधिकारी सिर्फ खाना पूर्ति कर शिकायत को बंद कर देते है वही सरपंच पति की दबंगई से ग्रामवासियों में डर का माहौल बन गया है जिसके कारण सामना करने डरते है ग्रामीण पूर्व में  सरपंच भागीरथी गोंड और सरपंच पति सीता राम गोंड ने ग्राम के द्वारा ग्राम जुनवानी के  व्यक्ति संजय कुम्हरे उमेश धुर्वे अनिल धुर्वे और उपसरपंच पुरन उईके इन चारों के खिलाफ पुलिस थाना नैनपुर में झूठा शिकायत आवेदन दिया गया था है क्योंकि ये चारों व्यक्ति नवीन तालाब निर्माण कार्य की जांच करने की शिकायत सी एम हेल्पलाइन में शिकायत दर्ज करवाई गई थी वही सवाल खड़ा होता है कि शासन क्या एक सरपंच पति से इतना डरता है कि शिकायत होने पर भी कोई कार्यवाही नही की जाती है।

No comments:

Post a Comment