नेशनल हाइवे तीस में बिछिया वाईपास को लेकर बिछिया विधायक बैठे धरने पर...सौपा ज्ञापन.. - revanchal times new

revanchal times new

निष्पक्ष एवं सत्य का प्रवर्तक

Breaking

रेवांचल टाइम्स अखबार पाठकों से अनुरोध करता है कि आप अपने सुझाव हम तक जरूर भेजें.. ताकि आने वाले समय मे हम आपकी मदद से और भी बेहतर कार्य कर सकें... साथ ही यदि आपको लेख अच्छा लगे तो इसे ओरों तक भी पहुंचाए.. प्रकाशन हेतु ख़बरें, विज्ञप्ति मोबाइल- 9406771592 पर व्हाट्सएप्प करें

 आवश्कता है  आवश्कता है ....

रेवांचल टाईम्स समाचार पत्र एव वेव पोर्टल में मध्यप्रदेश के सभी संभाग, जिला, तहसील, विकास खंडों, में संवाददाताओं की एंव विज्ञापनों व खबरों से सबंधित व्यक्ति संपर्क करें इन नम्बरों में 👉 9406771592/ 9425117297/ 8770297430/9165745947

Sunday, May 1, 2022

नेशनल हाइवे तीस में बिछिया वाईपास को लेकर बिछिया विधायक बैठे धरने पर...सौपा ज्ञापन..




रेवांचन टाईम्स - आज विधानसभा मुख्यालय बिछिया में धरने पर बैठकर क्षेत्र की जनता जनार्दन की समस्याओं व मांगो को लेकर जनांदोलन की शुरुआत की है। 2017 में प्रदेश के मुख्यमंत्री द्वारा बिछिया बायपास के निर्माण के लिए मंच से घोषणा की गई थी आज 5 साल हो गए उनकी घोषणा पूरी नहीं हुई। हमने सड़क से लेकर सदन तक अनेक बार मुख्यमंत्री, मंत्री, प्रमुख सचिव, प्रभारी मंत्री से लेकर ईएनसी सभी से मांग की, जिले से विभागीय प्रस्ताव भी भिजवाया लेकिन शायद प्रदेश के मुख्यमंत्री बिछिया बायपास का निर्माण होने देना नहीं चाहते। इसके बाद भी हम लगे रहेंगे, डटे रहेंगे, बायपास निर्माण करवाके रहेंगे। इसी तरह नगरपरिषद भुआबिछिया द्वारा नागरिकों पर थोपी गई दो गुना से अधिक की कर वृद्धि एक तानाशाही भरा निर्णय है जिसे तत्काल वापस लिया जाना चाहिए। वहीं बिछिया नगर में पेयजल सफाई बिजली से लेकर सिर्फ समस्या ही समस्या है जिनका निराकरण किया जाना आवश्यक है। बिछिया जनपद क्षेत्र के ग्रामों में बिजली और पानी का विकराल संकट खड़ा हो गया है। अघोषित बिजली कटौती एक गंभीर समस्या बन गई है। अरबों रुपये खर्च होने के बाद भी जलजीवन मिशन के कार्य पूरे नहीं हो पाए हैं चारो तरफ भ्रष्टाचार अराजकता मची हुई है। केंद्र और प्रदेश की सरकार लगातार आम जनता का आर्थिक शोषण कर रही हैं इसलिए अब सड़क पर उतरना ही एकमात्र विकल्प रह गया है। अब लोकतांत्रिक तरीके से जनता की लड़ाई लड़ेंगे और लड़ते रहेंगे।




No comments:

Post a Comment