एक माह बीत जाने के बाद भी, नहीं मिली किसानों को गेहूं उपार्जन राशि, राशि प्राप्त करने बैंकों के काट रहे चक्कर... - revanchal times new

revanchal times new

निष्पक्ष एवं सत्य का प्रवर्तक

Breaking

रेवांचल टाइम्स अखबार पाठकों से अनुरोध करता है कि आप अपने सुझाव हम तक जरूर भेजें.. ताकि आने वाले समय मे हम आपकी मदद से और भी बेहतर कार्य कर सकें... साथ ही यदि आपको लेख अच्छा लगे तो इसे ओरों तक भी पहुंचाए.. प्रकाशन हेतु ख़बरें, विज्ञप्ति मोबाइल- 9406771592 पर व्हाट्सएप्प करें

Tuesday, May 17, 2022

एक माह बीत जाने के बाद भी, नहीं मिली किसानों को गेहूं उपार्जन राशि, राशि प्राप्त करने बैंकों के काट रहे चक्कर...



रेवांचल टाईम्स : - मध्य प्रदेश सरकार के द्वारा समर्थन मूल्य पर किसानों से गेहूं खरीदी किए करीब 1 माह हो गए हैं।

परंतु आधे किसानों को गेहूं की राशि आज दिनांक तक प्राप्त नहीं हो पाई है। किसान प्रतिदिन बैंकों के चक्कर काटते नजर आ रहे हैं।किसानों को मोबाइल पर मैसेज आ रहे हैं कि, आपका आधार नंबर खाते से लिंक नहीं है। 

इस कारण आप के खाते में रुपए ट्रांसफर नहीं हो पा रहे हैं। तो कभी मैसेज आता है, आपके खाते की लिमिट कम है, इस कारण आप के खाते में रुपए ट्रांसफर नहीं किया जा सकता है। 


जबकि किसानों के बैंक खाते से आधार नंबर भी लिंक है, और लिमिट भी है। 

किसानों का कहना है कि, पूर्व वर्षो में हमारे उसी खाते में धान व गेहूं की राशि प्राप्त हुई थी, और इस वर्ष किसानों को अनावश्यक गुमराह किया जा रहा है।

पूर्व के वर्षों में किसानों को भुगतान संबंधी कोई परेशानी इस प्रकार नहीं हुई थी। 

किंतु इस वर्ष 22-23 में किसान इतना परेशान हो गया है कि, आत्महत्या तक करने की मंशा बना रहा है। 


किसानों का कहना है


            धान, सोयाबीन, मक्का की आगामी फसल के लिए खाद बीज शादी विवाह अन्य कार्यों के लिए रुपए की जरूरत है। 

पूर्व में गेहूं की फसल के लिए उधारी कर्ज लिया था उसे भी चुकाना है। 

सांथ ही किराना, कपड़ा, सहिंत अन्य लेनदेन एवं अन्य कार्यों के लिए रुपए की जरूरत पड़ती है और सरकार व बैंक के द्वारा नित नए नियम कानून बताकर किसानों को मैसेज भेज कर परेशान कर गुमराह किया जा रहा है। 

किसानों के द्वारा सीएम हेल्पलाइन 181 पर भी शिकायत की गई है, परंतु कोई हल आज तक नहीं निकल पाता नजर आ रहा है। आखिर कब तक बैंक के चक्कर काटते रहेंगे किसान।

No comments:

Post a Comment