माता का चमत्कार! दीये में कोई नहीं भरता घी फिर भी 21 साल से जल रही है अखंड ज्योति, वैज्ञानिक भी हैरान - revanchal times new

revanchal times new

निष्पक्ष एवं सत्य का प्रवर्तक

Breaking

रेवांचल टाइम्स अखबार पाठकों से अनुरोध करता है कि आप अपने सुझाव हम तक जरूर भेजें.. ताकि आने वाले समय मे हम आपकी मदद से और भी बेहतर कार्य कर सकें... साथ ही यदि आपको लेख अच्छा लगे तो इसे ओरों तक भी पहुंचाए.. प्रकाशन हेतु ख़बरें, विज्ञप्ति मोबाइल- 9406771592 पर व्हाट्सएप्प करें

Monday, April 4, 2022

माता का चमत्कार! दीये में कोई नहीं भरता घी फिर भी 21 साल से जल रही है अखंड ज्योति, वैज्ञानिक भी हैरान



रेवांचल टाइम्स:भारत में ऐसे कई मंदिर हैं जो रहस्यों से भरे हुए हैं। इन रहस्यों और चमत्कारों ने वैज्ञानिकों को भी हैरान कर दिया। वैज्ञानिक भी इन रहस्यों को आजतक नहीं सुलझा पाए। फिलहाल चैत्र नवरात्रा चल रहे हैं और देश भर के माता के मंदिरों में भक्तों की भारी भीड़ लगी हुई है। 2 साल बाद कोरोना पाबंदियों के हटने सये फिर से माता के मंदिरों में भक्त दर्शन करने के लिए उमड़ रहे हैं। आज हम आपको माता के एक ऐसे ही मंदिर के बारे में बताने जा रहे हैं, जिसका रहस्य वैज्ञानिक भी नहीं सुलझा पाए। वहीं स्थानीय लोग इसे माता का चमत्कार मानते हैं।

21 साल से जल रही अखंड ज्योत
गुना जिले में माता का एक ऐसा मंइिर है, जहां पिछले 21 साल से अखंड ज्योत जल रही है। माता का यह अनोखा मंदिर जिले के झंझोन गांव में स्थित है। दूर—दूर से बड़ी संख्या में श्रद्धालु माता के दर्शन करने पहुंचते हैं। गांव के लोगों का कहना है कि, भगवान शिव और मां शक्ति की कृपा से ऐसा हो रहा है। नवरात्रों में यहां भक्तों की भारी भीड़ जमा होती है। इस अखंड ज्योत को देखने के लिए दूर—दूर से श्रद्धालु यहां आते हैं।

माता का चमत्कार!
रिपोर्ट के अनुसार, 21 सालों से यहां जल रही अखंड ज्योत को लोग माता का चमत्कार मानते हैं। यहां कटोरे में जल रही अखंड ज्योत में कोई भी घी नहीं डालता फिर भी सालों से यह ज्योत ऐसे ही जल रही है। ग्रामीण भी अचरज में पड़ गए कि यह ज्योति अपने आप कैसे जल रही है। इसमें घी कहां से आता है। रिपोर्ट के अनुसार, इस मंदिर में 21 वर्ष पहले नवरात्रि के समय गांव के बच्चों ने पैसे जुटाकर मां दुर्गा की झांकी सजाई और 9 दिन तक ज्योति जलाई। इसके बाद से ही यह ज्योत लगातार जल रही है।

No comments:

Post a Comment