जनजातीय क्षेत्र में कृषि एवं वानिकी को बढ़ावा देने मेलों का आयोजन महत्वपूर्ण - श्री कुलस्ते कृषि विज्ञान केन्द्र में आयोजित हुआ एक दिवसीय किसान मेला - revanchal times new

revanchal times new

निष्पक्ष एवं सत्य का प्रवर्तक

Breaking

रेवांचल टाइम्स अखबार पाठकों से अनुरोध करता है कि आप अपने सुझाव हम तक जरूर भेजें.. ताकि आने वाले समय मे हम आपकी मदद से और भी बेहतर कार्य कर सकें... साथ ही यदि आपको लेख अच्छा लगे तो इसे ओरों तक भी पहुंचाए.. प्रकाशन हेतु ख़बरें, विज्ञप्ति मोबाइल- 9406771592 पर व्हाट्सएप्प करें

 आवश्कता है  आवश्कता है ....

रेवांचल टाईम्स समाचार पत्र एव वेव पोर्टल में मध्यप्रदेश के सभी संभाग, जिला, तहसील, विकास खंडों, में संवाददाताओं की एंव विज्ञापनों व खबरों से सबंधित व्यक्ति संपर्क करें इन नम्बरों में 👉 9406771592/ 9425117297/ 8770297430/9165745947

Friday, March 11, 2022

जनजातीय क्षेत्र में कृषि एवं वानिकी को बढ़ावा देने मेलों का आयोजन महत्वपूर्ण - श्री कुलस्ते कृषि विज्ञान केन्द्र में आयोजित हुआ एक दिवसीय किसान मेला

मण्डला 11 मार्च 2022



कृषि विज्ञान मंडला में भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद, वानिकी अनुसंधान संस्थान, कृषि विज्ञान केन्द्र मंडला तथा नाबार्ड के संयुक्त तत्वाधान में एक दिवसीय किसान मेला आयोजित हुआ। मेले में मुख्य अतिथि के रूप में केन्द्रीय इस्पात एवं ग्रामीण विकास राज्यमंत्री श्री फग्गन सिंह कुलस्ते शामिल हुए। इस अवसर पर राज्यसभा सांसद संपतिया उईके, जिला पंचायत अध्यक्ष सरस्वती मरावी, कुलपति जवाहर लाल नेहरू कृषि विश्वविद्यालय जबलपुर पी.के. बिसेन, ऊष्ण कटीबंधीय अनुसंधान संस्थान जबलपुर के निदेशक डॉ. राव, निदेशक अटारी एसआरके सिंह, निदेशक राज्य वन अनुसंधान संस्थान अमिताभ अग्निहोत्री, निदेशक खरपतवार अनुसंधान संस्थान, कलेक्टर हर्षिका सिंह, पुलिस अधीक्षक यशपाल सिंह राजपूत, जिला पंचायत उपाध्यक्ष शैलेष मिश्रा, वरिष्ठ कृषि वैज्ञानिक कृषि विज्ञान केन्द्र मंडला डॉ. विशाल मेश्राम, कृषि वैज्ञानिक, कृषि अधिकारी, जिला नाबार्ड प्रमुख श्री अखिलेश एवं मंडला एवं आसपास के जिलों के किसान उपस्थित थे।

एक दिवसीय किसान मेले को संबोधित करते हुए केन्द्रीय मंत्री श्री कुलस्ते ने कहा कि मंडला एवं आसपास के क्षेत्र में उन्नत कृषि एवं वानिकी के विकास के लिए इस प्रकार के मेलों का आयोजन महत्वपूर्ण है। केन्द्र एवं राज्य सरकार किसानों की आय को दुगुनी करने के लिए कृत संकल्प है। इस प्रकार के किसान मेलों के आयोजन से किसान नई तकनीक एवं नवाचार के संबंध में विशेषज्ञों से मार्गदर्शन प्राप्त करते हैं जिनका उनकी खेती में सकारात्मक प्रभाव भी पड़ता है। केन्द्रीय मंत्री ने बताया कि कृषि को लाभ का धंधा बनाने अनुसंधान संस्थानों द्वारा रिसर्च कार्य किए जा रहे हैं। उन्होंने उपस्थित किसानों से कहा कि बांस की खेती भी आर्थिक रूप से फायदेमंद है। उन्होंने मंडला जिले के विभिन्न क्षेत्रों को वर्षा एवं भौगोलिक परिस्थितियों के अनुरूप वर्गीकृत करते हुए उन क्षेत्रों के किसानों को फसलों, वानिकी तथा अन्य उत्पादन के लिए जागरूक करने के निर्देश दिए। श्री कुलस्ते ने कहा कि मंडला जिले में कृषि को बढ़ावा देने के लिए कार्य हो रहे हैं। आगामी दिनों में जमीन का अधिकतम एवं बहुउद्देशीय उपयोग करना होगा।

श्री कुलस्ते ने कहा कि समय-समय पर कृषि एवं वानिकी से संबंधित एक्सीविशन एवं स्टॉल लगाएं। उन्होंने स्व-सहायता समूहों को भी इस क्षेत्र की ओर आकर्षित करने की बात कही। राज्यमंत्री ने जिले में शहतूत, रेशम, कोदो-कुटकी के उत्पादन की पर्याप्त संभावना पर विस्तार से चर्चा भी की। एक दिवसीय किसान मेले को संबोधित करते हुए राज्यसभा सांसद संपतिया उईके ने इस प्रकार के आयोजन को सराहनीय एवं किसान हित में बताया। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री श्री मोदी एवं मुख्यमंत्री श्री चौहान के नेतृत्व में किसानों के लिए अनेक कल्याणकारी योजनाएं संचालित हैं। खेती को लाभ धंधा बनाने के लिए किसानों को लगातार प्रशिक्षण एवं जागरूक करने की आवश्यकता है। जिला पंचायत अध्यक्ष सरस्वती मरावी ने मंडला जिले की भौगोलिक परिस्थितियों के अनुरूप किसानों को फसल एवं वानिकी कार्य करने के लिए प्रोत्साहित करने की बात कही। जिला पंचायत उपाध्यक्ष शैलेष मिश्रा ने वन बचाओ, जल संरक्षण, कोदो-कुटकी के उत्पादों को प्रोत्साहन तथा किसान मेले के आयोजन से होने वाले फायदों की जानकारी दी।

किसान मेले को संबोधित करते हुए कुलपति जेएनकेव्ही श्री बिसेन ने कहा कि जल-जंगल-जमीन प्रतिदिन कम हो रहे हैं तथा जनसंख्या प्रतिदिन बढ़ रही है, ऐसे में हम सभी को वनों के उत्पादन को विशेष महत्व देते हुए आने वाली पीढ़ी के लिए एक स्वस्थ पर्यावरण तैयार करना होगा। निदेशक ऊष्ण कटिबंधीय अनुसंधान संस्थान डॉ. राव ने अपने स्वागत भाषण में संस्थान द्वारा वनों के सुधार, अनुसंधान तथा आर्थिक रूप से फायदेमंद गतिविधियों के बारे में बताया। निदेशक अटारी एसआरके सिंह ने मध्यप्रदेश एवं छत्तीसगढ़ में केवीके के माध्यम से किसान हित में किए जा रहे प्रयासों की जानकारी दी। निदेशक राज्य वन अनुसंधान संस्थान अमिताभ अग्निहोत्री ने किसानों की आय दुगुनी करने के लिए 4 बिन्दु लागत में कमी, उपज का उचित मूल्य, उत्पादन में वृद्धि तथा कृषि के साथ आय के वैकल्पिक स्त्रोत पर विस्तार से चर्चा की। निदेशक खरपतवार अनुसंधान संस्थान ने फसलों एवं वानिकी को खरपतवार से होने वाले नुकसान के बारे में बताते हुए इनके नियंत्रण एवं चिन्हित खरपतवारों की उपयोगिता को बढ़ाने के संबंध में विचार साझा किए।

एक दिवसीय किसान मेले का प्रारंभ मुख्य अतिथियों द्वारा दीप प्रज्ज्वलन के साथ हुआ। किसान मेले के दौरान राज्यसभा सांसद संपतिया उईके सहित जनप्रतिनिधियों एवं अतिथियों ने मशरूम बीज उत्पादन केन्द्र का शुभारंभ भी किया। मंच से बांस शिल्प के कलाकार सुरेश नामदेव, बैगा विकास संस्थान के केहर सिंह बर्वे, लाख उत्पादक सलीम खान तथा नीलगिरी, सागौन एवं खमेर के उत्पादक किसान बीपी सिंह को मंच से सम्मानित किया गया। इसी प्रकार अन्य किसानों का भी मंच से अतिथियों द्वारा सम्मान किया गया। जनजातीय प्रतिनिधियों ने केन्द्रीय इस्पात एवं ग्रामीण विकास राज्यमंत्री श्री कुलस्ते का परंपरागत मुकुट पहनाकर सत्कार किया। अतिथियों द्वारा कृषि विज्ञान केन्द्र एवं अनुसंधान संस्थान द्वारा तैयार की गई यूजलेटर और वृत्तचित्र पुस्तिका का विमोचन भी किया गया।











No comments:

Post a Comment