प्राकृतिक खेती से स्वास्थ्य एवं मुनाफा दोनों कमा रहे राजेन्द्र...एकीकृत खेती के साथ स्वयं कर रहे जैविक खाद निर्माण एवं बीज तैयार - revanchal times new

revanchal times new

निष्पक्ष एवं सत्य का प्रवर्तक

Breaking

रेवांचल टाइम्स अखबार पाठकों से अनुरोध करता है कि आप अपने सुझाव हम तक जरूर भेजें.. ताकि आने वाले समय मे हम आपकी मदद से और भी बेहतर कार्य कर सकें... साथ ही यदि आपको लेख अच्छा लगे तो इसे ओरों तक भी पहुंचाए.. प्रकाशन हेतु ख़बरें, विज्ञप्ति मोबाइल- 9406771592 पर व्हाट्सएप्प करें

 आवश्कता है  आवश्कता है ....

रेवांचल टाईम्स समाचार पत्र एव वेव पोर्टल में मध्यप्रदेश के सभी संभाग, जिला, तहसील, विकास खंडों, में संवाददाताओं की एंव विज्ञापनों व खबरों से सबंधित व्यक्ति संपर्क करें इन नम्बरों में 👉 9406771592/ 9425117297/ 8770297430/9165745947

Wednesday, March 9, 2022

प्राकृतिक खेती से स्वास्थ्य एवं मुनाफा दोनों कमा रहे राजेन्द्र...एकीकृत खेती के साथ स्वयं कर रहे जैविक खाद निर्माण एवं बीज तैयार

मण्डला 9 मार्च 2022

बिछिया अनुविभाग के अंतर्गत ग्राम गुबरी के किसान राजेन्द्र सिंह पन्द्रे अपने क्षेत्र के प्रगतिशील किसान माने जाते हैं। राजेन्द्र अपने घर के आस-पास के कम जगह में एकीकृत एवं व्यवस्थित प्राकृतिक खेती कर रहे हैं। कलेक्टर हर्षिका सिंह ने भी अपने भ्रमण के दौरान प्रगतिशील किसान राजेन्द्र की एकीकृत प्राकृतिक खेती, जैविक खाद निर्माण की प्रक्रिया, पशुपालन, पोल्ट्री की सराहना की है। राजेन्द्र बताते हैं कि मैं बाजार से किसी भी प्रकार का रासायनिक या अन्य खाद नहीं खरीदता हूँ। मैं पूरी तरह स्वयं द्वारा बनाई हुई जैविक खाद का उपयोग करके ही सब्जी सहित अन्य फसल उगाता हूँ। राजेन्द्र बताते हैं कि जैविक खाद का उपयोग करने से उनकी फसल एवं सब्जियाँ पूरी तरह केमीकल रहित है। ऐसे में वह जैविक खेती करतेे हुए स्वास्थ्य एवं मुनाफा दोनों कमा रहे हैं।

राजेन्द्र को कृषि अधिकारियों ने समय-समय पर उन्नत कृषि के संबंध में प्रशिक्षण एवं मार्गदर्शन दिया है। राजेन्द्र बताते हैं कि उन्होंने अपने खेत एवं बाड़ी की मिट्टी का परीक्षण कराया। उसी के अनुसार अब मैं खेती करता हूँ। राजेन्द्र पशुपालन, पोल्ट्री, सब्जी एवं फसलों का उत्पादन स्वयं ही करते हैं। साथ ही राजेन्द्र गोबर, गौमूत्र एवं अन्य उत्पादों की सहायता से मटका विधि से जैविक खाद भी तैयार करते हैं। राजेन्द्र फसल उत्पादन के साथ-साथ बीजों के उपचार की विधि भी बखूबी जानते हैं और वह बीजों को प्राकृतिक रूप से उपचारित कर उनका उपयोग अपनी खेती में करते हैं।











No comments:

Post a Comment