सुसाइड नोट सीने से चिपकाकर लगा ली फांसी, जानिए मौत का कारण - revanchal times new

revanchal times new

निष्पक्ष एवं सत्य का प्रवर्तक

Breaking

रेवांचल टाइम्स अखबार पाठकों से अनुरोध करता है कि आप अपने सुझाव हम तक जरूर भेजें.. ताकि आने वाले समय मे हम आपकी मदद से और भी बेहतर कार्य कर सकें... साथ ही यदि आपको लेख अच्छा लगे तो इसे ओरों तक भी पहुंचाए.. प्रकाशन हेतु ख़बरें, विज्ञप्ति मोबाइल- 9406771592 पर व्हाट्सएप्प करें

 आवश्कता है  आवश्कता है ....

रेवांचल टाईम्स समाचार पत्र एव वेव पोर्टल में मध्यप्रदेश के सभी संभाग, जिला, तहसील, विकास खंडों, में संवाददाताओं की एंव विज्ञापनों व खबरों से सबंधित व्यक्ति संपर्क करें इन नम्बरों में 👉 9406771592/ 9425117297/ 8770297430/9165745947

Saturday, March 19, 2022

सुसाइड नोट सीने से चिपकाकर लगा ली फांसी, जानिए मौत का कारण

 





रेवांचल टाईम्स, निवाड़ी : जिले के तरिचर कलां क्षेत्र के बड़ी माता मंदिर के पास एक व्‍यापारी ने बरगद के पेड़ पर फांसी लगाकर आत्‍महत्‍या कर ली। मृतक ने सुसाइड नोट सीने पर चिपकाकर मौत को गले लगा लिया। सुसाइड नोट में उसने विद्युत विभाग द्वारा की गई कुर्की और आबकारी ठेकेदार दिनेश राय से परेशान होकर फांसी लगाने का जिक्र किया है। शव को फंदे पर देख मौके पर पहुंचे लोगों ने पुलिस को सूचना दी। खबर मिलते ही चौकी प्रभारी गौरव राजोरिया व पुलिस बल मौके पर पहुंचा।

जानकारी के मुताबिक तरीचर कलां निवासी व्यापारी बृजेंद्र राय ने सीने पर सुसाइड नोट चिपका कर बरगद के पेड़ पर फांसी लगाकर मौत को गले लगा लिया है। व्यापारी ने आबकारी ठेकेदार और विधुत विभाग को खुदखुशी के लिए जिम्मेदार ठहराया है। बताया जा रहा है कि मृतक ब्रजेन्द्र ट्रैक्टर पार्ट्स की दुकान चलाता था। व्यापारी ने सुसाइड नोट में यही भी लिखा कि ईश्वर मेरे बच्चों की रक्षा करें। मामला थाना सेंदरी अन्तर्गत तरिचर कलां चौकी इलाके का है, फिलहाल पुलिस ने सुसाइड नोट और शव को कब्जे में लेकर जांच शुरू कर दी है।

थाना प्रभारी सुरेंद्र यादव ने बताया कि सुसाइड नोट मिला है, किसकी हैंडराइटिंग है जांच कराएंगे, मृतक ने जिन लोगों का जिक्र किया है उनसे पूछताछ की जाएगी। जो भी दोषी होगा कानूनी कार्रवाई होगी।

सुसाइड नोट में लिखा...
मृतक बृजेंद्र ने सुसाइड नोट में लिखा है कि आबकारी ठेकेदार दिनेश राय 1 वर्ष से मुझे परेशान कर रहा है, जिससे उसका जीना मुश्किल हो गया है। इस कारण मैं अपनी जान दे रहा हूं। आगे लिखा कि मेरा कुआं 16 वर्षों से सूखा पड़ा है, मैंने उसी समय सारे कागज तरीचरकलां ऑफिस में जमा कर दिए थे। मेरे कुआं पर कभी कोई खम्बा, तार या मीटर नहीं लगाया गया। पिछले वर्ष बिजली विभाग वाले मेरी अनुपस्थिति में एक लाख का बिल लेकर आए और मेरी मोटरसाइकिल ले गए और बिल की मांग कर रहे हैं। टीकमगढ़ उपभोक्ता फोरम में वकील के पास मेरा केस दर्ज है। सबसे ऊपर लिखा इस लेख के बाद हिम्मत बांधने के लिए मैं शराब पियूँगा, ईश्वर मेरे पांचों बच्चों की रक्षा करें।

No comments:

Post a Comment