बच्चों के मानसिक स्वास्थ्य को प्रभावित कर रहे हैं स्मार्टफोन्स, जानें कैसे निपटें इस समस्या से - revanchal times new

revanchal times new

निष्पक्ष एवं सत्य का प्रवर्तक

Breaking

रेवांचल टाइम्स अखबार पाठकों से अनुरोध करता है कि आप अपने सुझाव हम तक जरूर भेजें.. ताकि आने वाले समय मे हम आपकी मदद से और भी बेहतर कार्य कर सकें... साथ ही यदि आपको लेख अच्छा लगे तो इसे ओरों तक भी पहुंचाए.. प्रकाशन हेतु ख़बरें, विज्ञप्ति मोबाइल- 9406771592 पर व्हाट्सएप्प करें

Thursday, March 31, 2022

बच्चों के मानसिक स्वास्थ्य को प्रभावित कर रहे हैं स्मार्टफोन्स, जानें कैसे निपटें इस समस्या से



रेवांचल टाईम्स:राष्ट्रीय बाल अधिकार संरक्षण आयोग जो कि बाल अधिकारों के सार्वभौमिकता पर जोर देता है, के मुताबिक, जिन बच्चों की उम्र 8 से 18 आयु वर्ग के बीच है, उनमें 20 प्रतिशत से अधिक बच्चे सोने से पहले लेटे हुए स्मार्टफोन्स का उपयोग करते हैं. 20 फीसदी संख्या ज्यादा है और इस पर विचार करना जरूरी है. बता दें कि ज्यादा मात्रा में फोन का इस्तेमाल करने से एंग्जायटी (Anxiety), नींद में कमी (sleeplessness), थकान (tiredness) आदि की समस्या हो सकती है.

इससे पिछली साल राष्ट्रीय बाल अधिकार संरक्षण आयोग ने एक और शोध जारी किया था, जिसके मुताबिक, 59.2 फीसदी बच्चे अपना फोन मैसेज करने के लिए इस्तेमाल करते हैं और 10.1 फीसदी बच्चे अपना फोन ऑनलाइन लर्निंग के लिए इस्तेमाल करते हैं. इस स्टडी का टाइटल (फिजिकल, बिहेवियर एंड साइको-सोशल) था.
बच्चों के मानसिक स्वास्थ्य को बेहतर बनाने के तरीके
बच्चों के लिए सबसे जरूरी उनके माता-पिता और दोस्त होते हैं. ऐसे में बच्चों को बिना शर्त प्यार दें. उन्हें इस बात का एहसास करवाएं कि आपका प्यार उनकी उपलब्धियों पर निर्भर नहीं करता है.
अपने बच्चें की तारीफ करें और आगे बढ़ने के लिए प्रेरित करें.
कोविड के दौरान बाहर जाने से पहले सुरक्षा बरतनी जरूरी है. लेकिन बच्चों को कोविड गाइडलाइंस का पालन करना सिखाएं और बाहर खेलने के लिए जरूर भेजें.
बच्चों के स्किल्स को डिवेलप करने के लिए संबंधित क्लासेस ज्वॉइन करवाएं.
यदि बच्चों को हार का सामना करना भी पड़ा है तो उसका आत्मविश्वास बढ़ाएं.
बच्चों को घर के कामों में भी भागीदार बनाएं.
बच्चों को अपने साथ बाहर घुमाने के लिए लेकर जाएं.
बच्चों के साथ क्वालिटी टाइट व्यतीत करें.

No comments:

Post a Comment