देवी मां का अनोखा मंदिर है जहां फूल-प्रसाद नहीं बल्कि ,चढ़ते हैं जूते, चप्पल और चश्मे....जाने इसके पीछे की वजह कर देगी हैरान - revanchal times new

revanchal times new

निष्पक्ष एवं सत्य का प्रवर्तक

Breaking

रेवांचल टाइम्स अखबार पाठकों से अनुरोध करता है कि आप अपने सुझाव हम तक जरूर भेजें.. ताकि आने वाले समय मे हम आपकी मदद से और भी बेहतर कार्य कर सकें... साथ ही यदि आपको लेख अच्छा लगे तो इसे ओरों तक भी पहुंचाए.. प्रकाशन हेतु ख़बरें, विज्ञप्ति मोबाइल- 9406771592 पर व्हाट्सएप्प करें

Thursday, March 31, 2022

देवी मां का अनोखा मंदिर है जहां फूल-प्रसाद नहीं बल्कि ,चढ़ते हैं जूते, चप्पल और चश्मे....जाने इसके पीछे की वजह कर देगी हैरान



 रेवांचल टाइम्स ,भोपाल। आमतौर पर माता रानी को प्रसन्न करने के लिए लोग फूल, तरह-तरह के प्रसाद और चुनरी आदि कई चीजें अर्पित करते हैं. लेकिन भोपाल के कोलार में माता रानी का एक ऐसा मंदिर भी है, जहां मुराद लेकर पहुंचने वाले भक्त मैया को प्रसाद के साथ चप्पल, सैंडल और चश्मा तक अर्पित करते हैं. अपनी इस अनोखी परंपरा के लिए कोलार का सिद्धिदात्री पहाड़ा वाली मंदिर प्रसिद्ध है. यहां कई लोग विदेश से भी मैया के दर्शन करने हर साल आते हैं.

बेटी रूप में होती है मैया की पूजा: भोपाल के कोलार में एक पहाड़ी पर मां सिद्धिदात्री पहाड़ा वाली मैया विराजमान हैं. मंदिर की स्थापना करीब 30 साल पहले ओम प्रकाश महाराज ने की थी. उस वक्त यह क्षेत्र शहर से बाहर हुआ करता था, लेकिन अब मंदिर के आसपास के इलाकों में घनी आबादी हो गई है. मंदिर तक पहुंचने के लिए श्रद्धालुओं को करीब 300 सीढ़ियां चढ़कर पहाड़ी पर पहुंचना होता है, जहां माता विराजमान हैं. लोग पहाड़ा वाली मंदिर को जीजी बाई मंदिर भी कहते हैं. मंदिर की स्थापना करने वाले पंडित ओम प्रकाश महाराज कहते हैं कि उन्होंने मंदिर की स्थापना के बाद शिव पार्वती का विवाह कराया था. विवाह में उन्होंने पार्वती जी का खुद कन्यादान किया था.

मां सिद्धिदात्री को अपनी बेटी मानकर पूजा करते हैं पुजारी: पंडित ओम प्रकाश महाराज मां सिद्धिदात्री को अपनी बेटी मानकर पूजा करते हैं और जिस तरह बेटी के हर शौक पूरे किए जाते हैं, मां सिद्धिदात्री के शौक का भी पूरा ख्याल रखा जाता है. यही वजह है कि वह खुश करने के लिए नई चप्पल, सैंडल, चश्मा, गर्मियों में कैप और घड़ी तक अर्पित करते हैं. नवदुर्गा में यहां भक्तों का तांता लगा रहता है. लोग माता को नई चप्पल, सैंडल, चश्मा भेंट करते हैं. कई भक्त विदेश से भी हर साल मैया के दर्शन करने यहां आते हैं. कई भक्त विदेश से मैया को चप्पल चढ़ाने के लिए भी भेजते हैं.
नोट: इस लेख में दी गई सूचनाएं सामान्य जानकारी और मान्यताओं पर आधारित हैं.  रेवांचल टाइम्स  इनकी पुष्टि नहीं करता है.

No comments:

Post a Comment