दुखद: महाभारत में भीम का किरदार निभाने वाले प्रवीण कुमार का निधन ... - revanchal times new

revanchal times new

निष्पक्ष एवं सत्य का प्रवर्तक

Breaking

रेवांचल टाइम्स अखबार पाठकों से अनुरोध करता है कि आप अपने सुझाव हम तक जरूर भेजें.. ताकि आने वाले समय मे हम आपकी मदद से और भी बेहतर कार्य कर सकें... साथ ही यदि आपको लेख अच्छा लगे तो इसे ओरों तक भी पहुंचाए.. प्रकाशन हेतु ख़बरें, विज्ञप्ति मोबाइल- 9406771592 पर व्हाट्सएप्प करें

 आवश्कता है  आवश्कता है ....

रेवांचल टाईम्स समाचार पत्र एव वेव पोर्टल में मध्यप्रदेश के सभी संभाग, जिला, तहसील, विकास खंडों, में संवाददाताओं की एंव विज्ञापनों व खबरों से सबंधित व्यक्ति संपर्क करें इन नम्बरों में 👉 9406771592/ 9425117297/ 8770297430/9165745947

Tuesday, February 8, 2022

दुखद: महाभारत में भीम का किरदार निभाने वाले प्रवीण कुमार का निधन ...




रेवांचल टाइम्स:डायरेक्टर-प्रोड्यूसर बीआर चोपड़ा के ऐत‍िहास‍िक सीर‍ियल महाभारत के भीम उर्फ एक्टर प्रवीण कुमार सोबती अब नहीं रहे. बीमारी और आर्थ‍िंक तंगी से जूझ रहे प्रवीण ने 74 साल की उम्र में दुन‍िया को अलव‍िदा कह दिया है. भीम जैसे बलशाली किरदार को निभाकर मशहूर हुए प्रवीण, जिंदगी के आख‍िरी दिनों में पैसों और पहचान के लिए संघर्ष करते रहे. लेक‍िन उनकी जिंदगी में एक दौर ऐसा भी था जब प्रवीण अपने एक्ट‍िंग कर‍ियर और स्पोर्ट्स के लिए जाने जाते थे.

प्रवीण कुमार सोबती का जन्म 6 दिसंबर 1947 को पंजाब के अमृतसर में हुआ था. 6 फुट 7 इंच लंबे प्रवीण की कद-काठी पंजाबी खान-पान का सही उदाहरण पेश करती थी. 18 साल की उम्र में इतना शानदार फ‍िज‍िकल अपीयरेंस, देखने वाले भी दंग रह‍ जाते थे. प्रवीण महाभारत सीरियल में आने से पहले एक शानदार एथलीट हुआ करते थे. वे हैमर और डिस्कस थ्रो यान‍ि गोला फेंक और चक्का फेंक गेम में एश‍िया के नंबर वन ख‍िलाड़ी थे. इस खेल में उनकी टक्कर का ख‍िलाड़ी होना बहुत मुश्क‍िल था. एश‍ियन गेम्स में गोल्ड व‍िनर रहे प्रवीण ने ओलंप‍िक में भी भाग लिया था. गोल्ड मेडल जीत चुके प्रवीण की किस्मत में कुछ और ही था. मैदान में बेहतरीन ख‍िलाड़ी होने का पर‍िचय देने के बावजूद सीर‍ियल महाभारत ने उन्हें घर-घर में पहचान दिलाई. लोग महाभारत के इस गदाधारी भीम को देख उन्हें ही असली भीम मानने लगे थे.

एक इंटरव्यू में प्रवीण ने एक्ट‍िंग में आने से पहले अपने शेड्यूल के बारे में बताया था. प्रवीण ने कहा- 'एक भी दिन ऐसा नहीं जब मैं 3 बजे ना उठा हूं. गांव में जिम जैसी कोई चीज नहीं थी और ना ही तब तक मैंने ऐसी चीज देखी थी. मां घर में जो चक्की अनाज पीसने के लिए इस्तेमाल करती थी, उसी की सिल्ल‍ियों का वजन उठाकर मैं ट्रेनिंग करता था. भोर के 3 बजे से सूरज निकलने तक मैं ट्रेनिंग करता था. तीन साल लगे शरीर बनाने में और जब जानने वालों ने मुझे देखा तो वो पहचान नहीं पाए. मेरा शरीर एकदम देसी खुराक से बना था.'




No comments:

Post a Comment