यूरिया खाद और अघोषित बिजली कटौती से किसान परेशान सुंदर लाल केवट - revanchal times new

revanchal times new

निष्पक्ष एवं सत्य का प्रवर्तक

Breaking

रेवांचल टाइम्स अखबार पाठकों से अनुरोध करता है कि आप अपने सुझाव हम तक जरूर भेजें.. ताकि आने वाले समय मे हम आपकी मदद से और भी बेहतर कार्य कर सकें... साथ ही यदि आपको लेख अच्छा लगे तो इसे ओरों तक भी पहुंचाए.. प्रकाशन हेतु ख़बरें, विज्ञप्ति मोबाइल- 9406771592 पर व्हाट्सएप्प करें

 आवश्कता है  आवश्कता है ....

रेवांचल टाईम्स समाचार पत्र एव वेव पोर्टल में मध्यप्रदेश के सभी संभाग, जिला, तहसील, विकास खंडों, में संवाददाताओं की एंव विज्ञापनों व खबरों से सबंधित व्यक्ति संपर्क करें इन नम्बरों में 👉 9406771592/ 9425117297/ 8770297430/9165745947

Thursday, January 13, 2022

यूरिया खाद और अघोषित बिजली कटौती से किसान परेशान सुंदर लाल केवट





रेवांचल टाईम्स - किसानों की जमीनी हकीकत जानना है तो बैरसिया से लेकर पूरे प्रदेश के विभिन्न गांवों का दौरा करें और देखो कि क्षेत्र में किसानों के क्या हाल हैं

       बैरसिया क्षेत्र के किसान यूरिया खाद और अघोषित बिजली कटौती से काफी परेशान दिखाई दे रहा है इधर बुधवार को किसान कांग्रेस के प्रदेश सचिव सुंदर लाल केवट ने प्रदेश की भाजपा सरकार को किसान विरोधी बताया। मंत्री और विधायक रोज कर रहे नई-नई घोषणाएं कांग्रेसी नेता सुंदर लाल केवट ने कहा कि शासन सत्ता में बैठे सफेदपोशो का ध्यान किसानों को खाद बीज और बिजली जैसी महत्वपूर्ण समस्याओं की ओर नहीं है बस सरकार के नुमाइंदे मंत्री और विधायक रोज नई-नई झूठी घोषणाएं कर गांव की भोली-भाली जनता को छल रहे हैं कांग्रेस नेता ने प्रदेश के मुख्यमंत्री और कृषि मंत्री को खबर के माध्यम से चेताया है कि यदि किसानों की जमीनी हकीकत जानना है तो बैरसिया तहसील मुख्यालय से दुरुस्त गांवो का दौरा करें और देखें कि क्षेत्र में किसानों को समय पर खाद बीज और बिजली नहीं मिल पा रही है और गांव के गरीब निशुल्क राशन वितरण प्रणाली के लाभ से वंचित हैं इसी प्रकार सरकार की योजनाओं में भ्रष्टाचार चरम पर है लोगों को आवश्यक सेवाओं के लिए बिचौलियों को पैसे देना पड़ रहा है किसानों को उर्वरक खाद महंगे दामों में ब्लैक से लेना पड़ रहा है इधर बिजली की अघोषित कटौती के बावजूद भारी भरकम बिजली के बिल करंट मार रहे हैं जहां चारों तरफ अंधेर नगरी चौपट राजा वाली कहावत सच साबित होती दिखाई दे रही है।

No comments:

Post a Comment