ग्राम पंचायत कान्हीवाड़ा के रहवासियों के समक्ष पेयजल संकट.... - revanchal times new

revanchal times new

निष्पक्ष एवं सत्य का प्रवर्तक

Breaking

रेवांचल टाइम्स अखबार पाठकों से अनुरोध करता है कि आप अपने सुझाव हम तक जरूर भेजें.. ताकि आने वाले समय मे हम आपकी मदद से और भी बेहतर कार्य कर सकें... साथ ही यदि आपको लेख अच्छा लगे तो इसे ओरों तक भी पहुंचाए.. प्रकाशन हेतु ख़बरें, विज्ञप्ति मोबाइल- 9406771592 पर व्हाट्सएप्प करें

 आवश्कता है  आवश्कता है ....

रेवांचल टाईम्स समाचार पत्र एव वेव पोर्टल में मध्यप्रदेश के सभी संभाग, जिला, तहसील, विकास खंडों, में संवाददाताओं की एंव विज्ञापनों व खबरों से सबंधित व्यक्ति संपर्क करें इन नम्बरों में 👉 9406771592/ 9425117297/ 8770297430/9165745947

Monday, January 3, 2022

ग्राम पंचायत कान्हीवाड़ा के रहवासियों के समक्ष पेयजल संकट....


रेवांचल टाईम्स -  पूरा ममाला जनपद पंचायत सिवनी के अन्तर्गत आने वाली ग्राम पंचायत कान्हीवाडा का है। जो इस समय भ्रष्टाचार एवं विभिन्न अनियमितताओं को लेकर जिला प्रशासन के संज्ञान में है । एवं विषेश रूप से अखबारों की सुर्खियों में बनी हुई है। जिसके चलते नल चालकों, सफाईकर्मियों व अन्य कर्मचारियों द्वारा 9 माह से वेतन न मिलने के कारण काम बंद जनप्रतिनिधियों और नेताओं के प्रति जनता में भारी आक्रोश कान्हीवाड़ा सिवनी जनपद की सबसे बड़ी पंचायत होने का गौरव प्राप्त ग्राम पंचायत कान्हीवाडा यहां पदस्थ शासकीय कर्मचारियों और जनप्रतिनिधियों के गैर जिम्मेदाराना रवैया के कारण हमेशा सुर्खियों में बने रहती है। इनकी गैर जिम्मेदाराना कार्यप्रणाली का दंश क्षेत्र की जनता भोग रही है।

श्यामा प्रसाद मुखर्जी रूर्बन मिशन से जुड़ी उक्त पंचायत में सरकार शहर जैसी सुविधाएं उपलब्ध कराने के लिए करोड़ों खर्च कर रही है लेकिन यहां के जनप्रतिनिधियों और शासकीय कर्मचारियों की कार्यप्रणाली के चलते यहां के रहवासी मूलभूत सुविधाओं से वंचित नजर आ रहे हैं।

पिछले दिनों ग्राम पंचायत द्वारा रखे गए कर्मचारियों द्वारा उच्च अधिकारियों के समक्ष 9 माह का वेतन ना मिलने की शिकायत करते हुए निराकरण ना होने की स्थिति में  काम बंद करने की चेतावनी दी गई थी जिस पर कोई कार्यवाही ना होने के कारण पंचायत के नल चालक,सफाई कर्मी व अन्य कर्मचारियों द्वारा पूर्णत: काम बंद कर दिया गया है जिससे ग्रामवासियों को भारी समस्याओं का सामना करना पड़ रहा है।

वर्तमान में नल जल योजना पूरी तरह से बंद होने के कारण ग्रामवासी पीने के पानी तक को मोहताज हो गए हैं। गंदगी का आलम यह है कि नालियां ओवरफ्लो होने से सड़कों पर गंदा पानी बह रहा है, जगह जगह कचरे के ढेर हैं। साप्ताहिक बाजार वसूली तो बकायदा होती है ।किंतु बाजार के कचरे को समय पर साफ नहीं करने से कई दिनों तक सब्जियां बाजार प्रांगण में सडते रहती है जिससे उत्पन्न भारी दुर्गंध से रहवासी परेशान है।

कुछ दिन पूर्व तक जो जनप्रतिनिधि, नेता जनता के समक्ष वोट की भीख मांगते नजर आ रहे थे और अपने चुनावी परचों में अपने आप को जन हितेषी,जुझारू और कर्मशील बताते फिर रहे थे संकट के समय में वह नदारद है। 

अब देखना यह है कि जिले के आला अधिकारी इस संबंध में क्या व्यवस्था और कार्यवाही करते हैं। फिलहाल क्षेत्र की जनता आने वाले समय में अपने साथ छल करने वाले जनप्रतिनिधियों और नेताओं को सबक सिखाने के मूड में दिख रही है।


संतोष बन्देवार के साथ रेवांचल टाईम्स की एक रिपोर्ट

No comments:

Post a Comment