ज़िला प्रशासन की अनदेखी के चलते शहर के चौक बने कुत्ता बाजार.... - revanchal times new

revanchal times new

निष्पक्ष एवं सत्य का प्रवर्तक

Breaking

रेवांचल टाइम्स अखबार पाठकों से अनुरोध करता है कि आप अपने सुझाव हम तक जरूर भेजें.. ताकि आने वाले समय मे हम आपकी मदद से और भी बेहतर कार्य कर सकें... साथ ही यदि आपको लेख अच्छा लगे तो इसे ओरों तक भी पहुंचाए.. प्रकाशन हेतु ख़बरें, विज्ञप्ति मोबाइल- 9406771592 पर व्हाट्सएप्प करें

 आवश्कता है  आवश्कता है ....

रेवांचल टाईम्स समाचार पत्र एव वेव पोर्टल में मध्यप्रदेश के सभी संभाग, जिला, तहसील, विकास खंडों, में संवाददाताओं की एंव विज्ञापनों व खबरों से सबंधित व्यक्ति संपर्क करें इन नम्बरों में 👉 9406771592/ 9425117297/ 8770297430/9165745947

Thursday, December 2, 2021

ज़िला प्रशासन की अनदेखी के चलते शहर के चौक बने कुत्ता बाजार....




रेवांचल टाईम्स–सिवनी की गलियों को देख कर  नेताओं और अफसरों का पशु प्रेम साफ नजर आता हैं।


शहर के चौक चौराहे आवारा पशुओं और कुत्तों से सुसज्जित है मगर सिवनी के नेताओं और अफसरों को इसकी कोई परवाह नहीं है जबकि स्कूल शुरू हो गए हैं बहुत सारे बच्चे साईकिल से और पैदल स्कूल की ओर जाते हैं इन आवारा कुत्तों के झुंड के कारण कई बार बच्चे साइकिल से गिर जाते हैं काटने का डर भी होता है लेकिन नागरिकों का और बच्चों का भला सोचने का ढिंढोरा पीटने वाले छोटे बड़े नेताओं का इस पर ध्यान नहीं जाता।


आज सुबह ही दलसागर के पास वाचनालय के सामने कुत्तों का झुंड जिसमें 35 से 40 आवारा कुत्ते एक साथ रोड में घूम रहे थे और वहां से स्कूली बच्चे आ जा रहे थी कुछ लोगों ने बताया कि एक स्कूली बच्ची कुत्ते के कारण साइकिल से गिर भी गई जिसे हल्की फुल्की चोट आई और बच्ची स्कूल चली गई मगर यह कुत्ते शायद उसे काट भी सकते थे, लगता है शहर का प्रशासन इस प्रकार की कोई अप्रिय घटना घटित होने का इंतजार कर रहा है।


कई बार इन आवारा कुत्तों के कारण मोटरसाइकिल सवार गाड़ियों से गिर जाते हैं ।  इन आवारा कुत्तों की धमाचौकड़ी रात भर चलती रहती है इनके रोने और भौंकने की आवाज से कई बार लोग सो भी नहीं पाते हैं वैसे भी लोग कुत्ते के रोने को सही नहीं मानते हैं और उसी चिंता में रात भर सो नहीं पाते हैं।


इन आवारा कुत्तों के कारण बच्चों का बचपन छीन रहा क्योंकि गलियों में आवारा कुत्तों की धमाचौकड़ी के कारण हम अपने बच्चों को गली, मैदान,पार्क में भी खेलने नहीं पहुंचाते क्योंकि वहां डर बना रहता है इन आवारा कुत्ते के हमला करने का, कई बार गाड़ियों के पीछे इन्हे दौड़ते देखा जा सकता है।


मगर यह केवल रोड में चलने वालों को दिखता है जो नेता बड़ी बड़ी गाड़ियों में घूमते हैं और बंद ऑफिस में बैठते हैं उन्हें यह सब दिख पाना मुश्किल लगता है ।


विनोद दुबे के साथ रेवांचल टाईम्स की रिपोर्ट

No comments:

Post a Comment