ओमिक्रॉन का जोखिम 'बहुत ज्यादा', स्वास्थ्य प्रणालियों को तबाह कर सकता है : डब्ल्यूएचओ - revanchal times new

revanchal times new

निष्पक्ष एवं सत्य का प्रवर्तक

Breaking

रेवांचल टाइम्स अखबार पाठकों से अनुरोध करता है कि आप अपने सुझाव हम तक जरूर भेजें.. ताकि आने वाले समय मे हम आपकी मदद से और भी बेहतर कार्य कर सकें... साथ ही यदि आपको लेख अच्छा लगे तो इसे ओरों तक भी पहुंचाए.. प्रकाशन हेतु ख़बरें, विज्ञप्ति मोबाइल- 9406771592 पर व्हाट्सएप्प करें

 आवश्कता है  आवश्कता है ....

रेवांचल टाईम्स समाचार पत्र एव वेव पोर्टल में मध्यप्रदेश के सभी संभाग, जिला, तहसील, विकास खंडों, में संवाददाताओं की एंव विज्ञापनों व खबरों से सबंधित व्यक्ति संपर्क करें इन नम्बरों में 👉 9406771592/ 9425117297/ 8770297430/9165745947

Wednesday, December 29, 2021

ओमिक्रॉन का जोखिम 'बहुत ज्यादा', स्वास्थ्य प्रणालियों को तबाह कर सकता है : डब्ल्यूएचओ



जेनेवा। विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) ने चेतावनी दी है कि ओमिक्रॉन वेरिएंट से जुड़ा जोखिम 'बहुत अधिक' बना हुआ है, जो स्वास्थ्य प्रणालियों और अन्य महत्वपूर्ण सेवाओं में व्यापक व्यवधान पैदा कर सकता है। अपने साप्ताहिक महामारी विज्ञान अपडेट में, डब्ल्यूएचओ ने मंगलवार को कहा कि चिंता के नए वेरिएंट से संबंधित जोखिम बहुत अधिक है।
अपडेट के अनुसार, "लगातार साक्ष्य से पता चलता है कि ओमिक्रॉन वेरिएंट, डेल्टा वेरिएंट से ज्यादा संक्रामक है।"

डब्ल्यूएचओ ने यह चेतावनी ऐसे समय जारी की है, जब अमेरिका में नए ओमिक्रॉन के मामलों में वृद्धि हुई है और यहां दैनिक मामलों की संख्या बढ़कर 5,10,000 के उच्च स्तर पर पहुंच गई है।

जॉन्स हॉपकिन्स विश्वविद्यालय के नवीनतम आंकड़ों के अनुसार, देश में महामारी की शुरुआत के बाद से यह एक दिन में सबसे अधिक वृद्धि है।

नेशनल इंस्टीट्यूट फॉर पब्लिक हेल्थ एंड एनवायरनमेंट (आरआईवीएम) ने घोषणा की है कि ओमिक्रॉन वेरिएंट पिछले सप्ताह में नीदरलैंड में 50 प्रतिशत से अधिक संक्रमण का कारण बना है।

जर्मनी ने ओमिक्रॉन कोरोनावायरस वेरिएंट के प्रसार को धीमा करने के लिए टीकाकरण और स्वस्थ लोगों के लिए देश भर में कड़े प्रतिबंध लगाए हैं।

केंद्रीय स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय ने बुधवार को कहा कि पिछले 24 घंटों में, भारत में कोरोना के 9,195 नए मामले सामने आए हैं। वहीं इस दौरान कुल 302 लोगों की मौत हुई है।

No comments:

Post a Comment