चमनघाटी ने उजाड़ा गरीबो का अमन रजिस्ट्री हुई शून्य... - revanchal times new

revanchal times new

निष्पक्ष एवं सत्य का प्रवर्तक

Breaking

रेवांचल टाइम्स अखबार पाठकों से अनुरोध करता है कि आप अपने सुझाव हम तक जरूर भेजें.. ताकि आने वाले समय मे हम आपकी मदद से और भी बेहतर कार्य कर सकें... साथ ही यदि आपको लेख अच्छा लगे तो इसे ओरों तक भी पहुंचाए.. प्रकाशन हेतु ख़बरें, विज्ञप्ति मोबाइल- 9406771592 पर व्हाट्सएप्प करें

 आवश्कता है  आवश्कता है ....

रेवांचल टाईम्स समाचार पत्र एव वेव पोर्टल में मध्यप्रदेश के सभी संभाग, जिला, तहसील, विकास खंडों, में संवाददाताओं की एंव विज्ञापनों व खबरों से सबंधित व्यक्ति संपर्क करें इन नम्बरों में 👉 9406771592/ 9425117297/ 8770297430/9165745947

Friday, December 24, 2021

चमनघाटी ने उजाड़ा गरीबो का अमन रजिस्ट्री हुई शून्य...






रेवांचल टाईम्स - ईशमयरा सिटी के बाद चमनघाटी कि रजिस्ट्री भी हुई शून्य घोषित 


   २८ एकड ज़मीन हैं विवादों मे जिसका खसरा क्रमांक ६६/९क२ ६५/१०,६६/२२,६५/२३,६६/०२,६५/०१,६६/१,२,३,६६/२१,६५/०९ ३६२,३६४,३६५,283/1कुल् रकाबा चौरई के तहसील कार्यलय से लगी जमीन ओर चमन घाटी की जमीन अन्य हिसो मे इस्तित है, अचानक नगर  के आम आदमी के  ऊपर  कोर्ट की दोहरी मार  आ गिरी है चौरई न्यायालय के एक आदेश से आम आदमी  से लेकर निवेशकों में अफरा तफरी का माहौल है जहाँ न्यायालय ने चौरई की चर्चित और पूर्व में विवादित कालोनी चमनघाटी की भी रजिस्ट्री शून्य घोषित कर दी है जिससे एक बार  फिर आमआदमी का भरोसा टूट स गया है वही अपनी मेहनत की कमाई को यू डूबता देख आमआदमी भारी  पशोपेश में है कि हमने अपनी मेहनत की कमाई कहा लगा दी  जो यू डूब रही है वही निवेशकों को कोई संतोषजनक जवाब नही मिल  पा रहा है  जिससे जनाक्रोश बठता जा रहा है  वही आम आदमी की कमाई यू  डूबना और पूरे प्रशासन का मौन धारण करना अपने आप मे बहुत से सवाल खड़े कर रहा है की आखिर बिना जांच  पड़ताल के तहसीलदार ने कैसे आदेश निकाल दिया एवम रजिस्ट्री की अनुमति मिल गई जिससे  इन तथाकथित भूमाफियों ने खेतो में सड़क बनाकर कुछ रुपये की जमीन 5 से 6 हजार रुपये स्केवर फिट में बेच दी वही कुछ लाखो की जमीन से आम आदमी से करोड़ो रुपये बना लिए वही अब अपनी आँखों के सामने अपनी मेहनत की कमाई यू डूबते देख  आम निवेशक बीमार भी  होने लगा  है लेकिन उन्हें कोई जवाब नही मिल पा रहा है 




बॉक्स में 


गरीब परिवार की मेहनत की कमाई का यू डूबने पर कब होगी जिम्मेदारो पर कार्यवाही तय ?





अतिक्रमण हटने के बाद अभी तक क्यो नही हुई तार की फेसिंग ?


 सही बटवारा नही होने के बाद भी तहसीलदार ने  बटवारा आदेश कैसे पारित कर दिया 


तहसीलदार के आदेश को आधार बनाकर कैसे फर्जी कालोनी डेवलप हो गई और किसी रहनुमा की नजर नही पड़ी 


चमनघाटी के अमन को लूटने के बाद अब बटवारा निरस्त होने के बाद भी प्रशासनिक  अमला क्यो नही जागा 


आम आदमी की यू डूब रही कमाई पर आखिर कब जागेगा प्रशासनिक अमला ? 


कब लगेगी खेतो में सड़क बनाकर जेब  काट  रही कालोनियों पर रोक ?

No comments:

Post a Comment