वर्ष 2015 में बम्हनी बंजर में हुए दोहरे हत्याकांड के आरोपियों को आजीवन कारावास - revanchal times new

revanchal times new

निष्पक्ष एवं सत्य का प्रवर्तक

Breaking

रेवांचल टाइम्स अखबार पाठकों से अनुरोध करता है कि आप अपने सुझाव हम तक जरूर भेजें.. ताकि आने वाले समय मे हम आपकी मदद से और भी बेहतर कार्य कर सकें... साथ ही यदि आपको लेख अच्छा लगे तो इसे ओरों तक भी पहुंचाए.. प्रकाशन हेतु ख़बरें, विज्ञप्ति मोबाइल- 9406771592 पर व्हाट्सएप्प करें

 आवश्कता है  आवश्कता है ....

रेवांचल टाईम्स समाचार पत्र एव वेव पोर्टल में मध्यप्रदेश के सभी संभाग, जिला, तहसील, विकास खंडों, में संवाददाताओं की एंव विज्ञापनों व खबरों से सबंधित व्यक्ति संपर्क करें इन नम्बरों में 👉 9406771592/ 9425117297/ 8770297430/9165745947

Friday, December 31, 2021

वर्ष 2015 में बम्हनी बंजर में हुए दोहरे हत्याकांड के आरोपियों को आजीवन कारावास





वर्ष 2021 में सभी जघन्य मामलों में अपराधियों को शत् प्रतिशत सजा दिलाने में मण्डला अभियोजन ने म.प्र.में सर्वोच्च स्थान प्राप्त किया


मंडला। वर्ष 2015 में अभियुक्त राज कुमार पटेल के द्वारा सम्पत्ति को लेकर बम्हनी बंजर निवासी अपनी ही नानी और मौसी को उतारा था मौत के घाट। उक्त मामले में अभियुक्त के पिता संतोष पटेल व हम्मी लाल मरावी भी थे शामिल। उक्त तीनों महाराजपुर थाना के अंतर्गत ग्राम पंचायत इमालियामाल के पोषक ग्राम छिवला टोला के हैं निवासी।जानकारी के अनुसार हत्या की रात्रि अभियुक्त राज कुमार पटेल ने अपने ही गांव के निवासी  हम्मी लाल मरावी को अपने साथ में यह कहकर लेकर आया था कि मवेशी खरीदने बम्हनी बंजर जा रहा हूं, और रात्रि में नानी के घर बम्हनी बंजर में रुकेंगे और सुबह वापस आ जाएंगे, राज कुमार पटेल ने हम्मी लाल मरावी को  लेकर रात्रि को नानी के यहां आ गया। नानी और मौसी ने उनको भोजन बनाकर खिलवाया और रात्रि में विश्राम के लिए अलग- अलग बिस्तर लगाए गए। नानी और मौसी को क्या मालूम था जिन्होंने अपने नाती को बचपन में प्यार और स्नेह दिया दुलार किया उनके ही द्वारा उनको जान से हाथ धोना पड़ेगा। राज कुमार पटेल ने बड़ी बर्बरता के साथ रात्रि में सोते हुए मौसी और नानी को कुल्हाड़ी से हमला कर निर्दयता

 के साथ मौत के घाट उतार दिया गया।  


न्याय संगत हुआ फैसला


न्यायालय अपर सत्र न्यायाधीश निरंजन कुमार पांचाल द्वारा सत्र प्रकरण क्रमांक 17/ 16 शासन विरुद्ध राज कुमार पटेल, संतोष पटेल व हम्मी लाल मरावी के मामले में आरोपीगणों को दोहरे हत्या के आरोप में दोष सिद्ध पाते हुये उक्त तीनों को आजीवन कारावास एव जुर्माने के कठोर दण्ड से दण्डित किया गया हैं। 


यह था मामला


जिला अभियोजन अधिकारी अरूण कुमार मिश्रा द्वारा बताया गया कि पुलिस थाना बम्हनी बंजर में अपराध क्रं.466/15 दिनांक 28 अक्टूबर 2015 को थाना प्रभारी जी.एस.मर्सकोले को सुबह कस्बा बम्हनी बंजर के रेंज ऑफिस के पास स्थित घर में 02 महिलाओं के मृत हालत में पड़े होने की सूचना प्राप्त हुई थी। सूचना प्राप्त होने पर थाना प्रभारी जी.एस मर्सकोले अपने हमराह स्टाफ के साथ घटना स्थल बम्हनी बंजर कस्बा के वार्ड क्रं. 05 स्थित मृतिका चंदो बाई के मकान पर गये, जहा पर घर के अंदर एक कमरे में एक पलंग पर मृतिका चंदो बाई तथा दूसरे पलंग पर उसकी पुत्री मृतिका दुर्गा बाई का शव खून से लथपथ अवस्था में देखा गया। थाना प्रभारी जी.एस. मर्सकोले द्वारा सुबह 09.30 बजे घटना स्थल पर उपस्थित साक्षी अजय चन्द्रोल के बताए अनुसार घटना की रिपोर्ट भादवि की धारा 302 के अंतर्गत अज्ञात आरोपियों के विरुद्ध मामला पंजीबद्ध कर प्रकरण को विवेचना में लिया गया था। महिला उप निरीक्षक आरती धुर्वे के द्वारा दोनों मृत महिलाओं के शव के पंचनामा कार्यवाही की गई थी। थाना प्रभारी जी.एस. मसकोले द्वारा घटना स्थल से खून लगे हुए फर्स के टुकड़े, तकिया, गद्दा, पलंग के निवाड़ को जब्त कर घटना स्थल पर खूटी पर टंगा हुआ एक गमछा और शर्ट भी जप्त किया गया। घटना स्थल के निरीक्षण करने पर यह भी पाया गया कि घर के अंदर सामने की परछी में एक पलंग और बिस्तर लगा था एवं आंगन में बने कमरे में एक चटाई बिछी थी, जिस पर एक तकिया रखी हुई थी। घटना स्थल के निरीक्षण करने पर यह भी पाया गया कि घटना स्थल से किसी सम्पत्ति की चोरी या लूट नहीं हुई थी। घटना स्थल के निरीक्षण करने पर थाना प्रभारी जी. एस. मर्सकोले इस निष्कर्ष पर पहुंचे कि कोई निकट का रिस्तेदार मृत्तिकाओं के घर में रात को रुके थे और उन्हीं के द्वारा घटना को अंजाम दिया गया हैं।

 बता दें की थाना प्रभारी जी.एस. मर्सकोले के द्वारा 05 नवम्बर 2015 को संदेह के आधार पर अभियुक्त राज कुमार पटेल को अभिरक्षा में लेकर उससे पूछताछ की गई, तब इस दोहरे हत्याकांड का खुलासा हुआ।अभियुक्त राज कुमार द्वारा पुलिस के सामने यह स्वीकार किया गया कि उसने अपने पिता संतोष पटेल और अभियुक्त हम्मी लाल मरावी के साथ मिलकर दिनांक 25 अक्टूबर 2015 की रात्रि में कुल्हाड़ी से दुर्गा बाई और चंदो बाई की हत्या कर कुल्हाड़ी घटना स्थल के पास रेंज ऑफिस की झाड़ियों में छिपा दी गई थी। पुलिस द्वारा अभियुक्त राज कुमार से हत्या की घटना में प्रयुक्त की गई कुल्हाड़ी जप्त की गई, जिसमें खून लगा हुआ था। विवेचना कार्यवाही के दौरान अभियुक्त राज कुमार एवं हम्मी लाल मरावी के कपड़े में खून लगे हुए जप्त किये गये। अभियुक्त संतोष पटेल, राज कुमार पटेल एवं हम्मी मरावी को गिरफ्तार कर प्रकरण में अनुसंधान कार्यवाही पूर्ण कर अभियुक्तगण के विरुद्ध भादवि की धारा 302 के अंतर्गत अभियोग पत्र न्यायालय में प्रस्तुत किया गया था। जिला प्रशासन द्वारा मामले को चिन्हित जघन्य सनसनीखेज मामला मानते हुए, इसकी उत्कृष्ट अनुसंधान कार्यवाही एवं प्रभावी अभियोजन संचालन हेतु आवश्यक निर्देश दिए गये तथा मामले की निरंतर समीक्षा की गई। न्यायालय में शासन की ओर से अभियोजन संचालन जिला अभियोजन अधिकारी अरुण कुमार मिश्रा के द्वारा किया गया। विचारण कार्यवाही के दौरान कुल 43 अभियोजन साक्षी न्यायालय में प्रस्तुत किये गये। मीडिया सेल प्रभारी सहायक जिला लोक अभियोजन अधिकारी, जीतेन्द्र सिंह द्वारा बताया गया कि चिन्हित जघन्य सनसनीखेज मामलों में शत् प्रतिशत सजा के साथ मण्डला जिला वर्तमान में सर्वोच्च स्थान में हैं तथा इस वर्ष कुल 15 आपराधिक मामले निराकृत हुए जिनमें सभी मामलों में अपराधियों को सजा हुई हैं। माननीय न्यायालय द्वारा अभियोजन की ओर से प्रस्तुत साक्ष्यों और तर्क से सहमत होते हुये उक्त तीनों अभियुक्तों को धारा 302 भादवि में आजीवन कारावास की सजा सुनाते हुए तीनों के विरुद्ध 04-04 हजार रुपए के अर्थदण्ड, दंडित भी किया गया।

No comments:

Post a Comment