जिले में सरकारी शिक्षकों की बल्ले-बल्ले... स्कूलों में प्राइवेट टीचर रख , खुद घर पर कर रहे आराम! - revanchal times new

revanchal times new

निष्पक्ष एवं सत्य का प्रवर्तक

Breaking

रेवांचल टाइम्स अखबार पाठकों से अनुरोध करता है कि आप अपने सुझाव हम तक जरूर भेजें.. ताकि आने वाले समय मे हम आपकी मदद से और भी बेहतर कार्य कर सकें... साथ ही यदि आपको लेख अच्छा लगे तो इसे ओरों तक भी पहुंचाए.. प्रकाशन हेतु ख़बरें, विज्ञप्ति मोबाइल- 9406771592 पर व्हाट्सएप्प करें

 आवश्कता है  आवश्कता है ....

रेवांचल टाईम्स समाचार पत्र एव वेव पोर्टल में मध्यप्रदेश के सभी संभाग, जिला, तहसील, विकास खंडों, में संवाददाताओं की एंव विज्ञापनों व खबरों से सबंधित व्यक्ति संपर्क करें इन नम्बरों में 👉 9406771592/ 9425117297/ 8770297430/9165745947

Thursday, December 2, 2021

जिले में सरकारी शिक्षकों की बल्ले-बल्ले... स्कूलों में प्राइवेट टीचर रख , खुद घर पर कर रहे आराम!



रेवांचल टाईम्स : राजगढ़ में ग्रामीण क्षेत्रों में शिक्षकों मनमानी चल रही है और प्रशासन को इसकी भनक तक नहीं है. सरकारी शिक्षक ही अपनी जगह चंद पैसे में प्राइवेट टीचर को रखकर ड्यूटी करवा रहे हैं और सरकारी शिक्षक घर पर आराम फरमा रहे हैं. मामला राजगढ़ के बगा संकुल केंद्र विजयगड प्राथमिक विद्यालय का है. जहां दो सरकारी शिक्षक जगदीश वर्मा ओर दौलत सिंह पदस्थ है. लेकिन हकीकत यह है कि दोनों सरकारी शिक्षक अपने घर में मौज-मस्ती कर रहे हैं और प्राइवेट शिक्षकों उनकी जगह स्कूल भेज रहे हैं.

जिले के अधिकांक्ष तंवर वाड़ क्षेत्र के स्कूलों में पदस्थ शिक्षकों की मनमानी आए दिन सामने आती रहती है. जहां शिक्षक अपनी ही मनमर्जी से स्कूल खोलते है और बंद करते है. क्योंकि जिम्मेदारों के ही संरक्षण में यह सब हो रहा है. क्योंकि यदि ऐसा नहीं होता तो फिर जिन्हें समय-समय पर स्कूलों के निरीक्षण की जिम्मेदारी सौंपी गई है फिर ये कैसा निरीक्षण कर रहे है. स्कूलों में पदस्थ शिक्षकों की मनमानी के चलते बच्चों का भविष्य अंधकार में डूबता जा रहा.

1 महीने तक कोई शिक्षक नहीं
आपको बता दें कि जो अतिथि शिक्षक रखे गए, उनका पोर्टल पर कोई नाम तक नहीं है. जब उपस्थिति रजिस्टर में देखा तो प्रभारी जगदीश वर्मा जो कि 1 नवंबर 2021 से लगातार 26 तारीख तक स्कूल से नदारत थे. उनके रजिस्टर में कोई साइन तक नहीं थे और वहीं दौलत सिंह भी 25, 26 को अनुपस्थित थे. शिक्षको को स्कूल न जाना पड़े और तनख्वाह भी मिलती रहे. जिसके चलते बिना विभागीय जानकारी के दो प्रायवेट शिक्षकों की नियुक्तियां कर दी जिसपर विभागीय जिम्मदारों द्वारा आज तक कोई ठोस कार्यवाही देखने को नहीं मिली. इस मामले से जिला शिक्षा अधिकारी बी.एस. बिसोरिया का कहना है कि मामला संज्ञान में आया था जांच की जा रही है.

No comments:

Post a Comment