Covid-19 के नए वैरिएंट Omicron पर वैज्ञानिकों ने दी अहम जानकारी, किन्हें पहुंचा रहा नुकसान | जानिए सबकुछ - revanchal times new

revanchal times new

निष्पक्ष एवं सत्य का प्रवर्तक

Breaking

रेवांचल टाइम्स अखबार पाठकों से अनुरोध करता है कि आप अपने सुझाव हम तक जरूर भेजें.. ताकि आने वाले समय मे हम आपकी मदद से और भी बेहतर कार्य कर सकें... साथ ही यदि आपको लेख अच्छा लगे तो इसे ओरों तक भी पहुंचाए.. प्रकाशन हेतु ख़बरें, विज्ञप्ति मोबाइल- 9406771592 पर व्हाट्सएप्प करें

 आवश्कता है  आवश्कता है ....

रेवांचल टाईम्स समाचार पत्र एव वेव पोर्टल में मध्यप्रदेश के सभी संभाग, जिला, तहसील, विकास खंडों, में संवाददाताओं की एंव विज्ञापनों व खबरों से सबंधित व्यक्ति संपर्क करें इन नम्बरों में 👉 9406771592/ 9425117297/ 8770297430/9165745947

Thursday, December 2, 2021

Covid-19 के नए वैरिएंट Omicron पर वैज्ञानिकों ने दी अहम जानकारी, किन्हें पहुंचा रहा नुकसान | जानिए सबकुछ




रेवांचल टाइम्स : कोविड-19 संक्रमण के ओमिक्रॉन वैरिएंट (Omicron Variant) ने दुनियाभर की चिंताएं बढ़ा दी हैं. ये वायरस कितना खतरनाक है और क्या वैक्सीन के खिलाफ शत प्रतिशत कारगर है, इसपर लगातार वैज्ञानिक शोध कर रहे हैं. इस बीच दक्षिण अफ्रीका (South Africa) के प्रमुख वैज्ञानिकों ने इस संबंध में अहम जानकारी दी है. उन्होंने कहा कि ये कहना है अभी जल्दबाजी होगी कि कोविड-19 का ओमिक्रॉन वैरिएंट सिर्फ हल्की बीमारी का कारण बनेगा. वैज्ञानिकों ने कहा कि कोरोना वायरस स्ट्रेन के सही प्रभाव तय करना अभी मुश्किल है क्योंकि इसने अब तक ज्यादातर युवाओं को प्रभावित किया है, जो बीमारी से लड़ने में अधिक सक्षम है. इनमें कुछ लोग वायरस की जद में आने के बाद बीमार पड़ जाते हैं. वैज्ञानिकों ने सांसदों को दिए प्रेजेंटेशन में ये जानकारी दी.

मालूम हो कि इससे पहले नेशनल इंस्टीट्यूट फॉर कम्युनिकेबल डिजीज (National Institute for Communicable Diseases) ने बताया कि पिछले 24 घंटों में दक्षिण अफ्रीका में नए पॉजिटिव मामलों की संख्या दोगुनी हो गई. इसके अलावा देश में ओमिक्रॉन वैरिएंट देश में अब तक का प्रमुख स्ट्रेन है. मामले में पब्लिक हेल्थ सर्विलांस एंड रिस्पॉन्स (Public Health Surveillance and Response) के प्रमुख माइकल ग्रूम ने सांसदों को बताया- संक्रमण का नया स्वरूप अधिकतर कम उम्र वालों लोगों में फैला है. मगर हम इस मामले में अधिक उम्र वाले लोगों में भी निगरानी कर रहे हैं. बता दें कि 25 नंवबर, 2021 को दक्षिणी अफ्रीकी सरकार और वैज्ञानिकों ने देश को जानकारी दी कोरोना वायरस का नया वैरिएंट (जिसे बाद में विश्व स्वास्थ्य संगठन ने ओमिक्रॉन का नाम दिया) मिला है. नए वैरिएंट के मामले सामने आने के बाद कई दक्षिण अफ्रीकी देशों पर यात्रा प्रतिबंध लगाए गए है.

उल्लेखनीय है कि दुनियाभर में ओमिक्रॉन वैरिएंट के मामले सामने आने के बाद भारत सरकार तत्काल एक्शन में आ गई है. लगातार लोगों की स्क्रीनिंग की जा रही है और जरुरत पर उन्हें क्वारंटाइन भी किया जा रहा है. इस बीच अंतर्राष्ट्रीय यात्रियों के लिए नए दिशा-निर्देश भी लागू किए गए हैं. जिसके बाद जोखिम वाले देशों से यात्रा करने वाले कुल छह लोग कोविड-19 से संक्रमित पाए गए. केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने बुधवार को कहा कि नए कोविड वेरिएंट ओमिक्रॉन के मद्देनजर संशोधित दिशा-निर्देशों के लागू होने के बाद से जोखिम वाले देशों से आने वाले देशभर के विभिन्न हवाईअड्डों पर कुल 11 अंतर्राष्ट्रीय उड़ानें उतरी हैं. 3,476 यात्रियों को लेकर ये उड़ानें ‘जोखिम वाले’ देशों से आधी रात से शाम चार बजे तक उतरीं.

No comments:

Post a Comment