वर्षों पुरानी परंपरा से जिले में निवास रत बंजारा समाज द्वारा मनाई जाती है दीपावली... - revanchal times new

revanchal times new

निष्पक्ष एवं सत्य का प्रवर्तक

Breaking

रेवांचल टाइम्स अखबार पाठकों से अनुरोध करता है कि आप अपने सुझाव हम तक जरूर भेजें.. ताकि आने वाले समय मे हम आपकी मदद से और भी बेहतर कार्य कर सकें... साथ ही यदि आपको लेख अच्छा लगे तो इसे ओरों तक भी पहुंचाए.. प्रकाशन हेतु ख़बरें, विज्ञप्ति मोबाइल- 9406771592 पर व्हाट्सएप्प करें

 आवश्कता है  आवश्कता है ....

रेवांचल टाईम्स समाचार पत्र एव वेव पोर्टल में मध्यप्रदेश के सभी संभाग, जिला, तहसील, विकास खंडों, में संवाददाताओं की एंव विज्ञापनों व खबरों से सबंधित व्यक्ति संपर्क करें इन नम्बरों में 👉 9406771592/ 9425117297/ 8770297430/9165745947

Friday, November 5, 2021

वर्षों पुरानी परंपरा से जिले में निवास रत बंजारा समाज द्वारा मनाई जाती है दीपावली...




रेवांचल टाईम्स - मंडला जिला भाई बहन नाला मे बंजारा समाज के एक परंपरा और पुरानी से पुरानी पीढ़ी दर पीढ़ी परंपरा को बरकरार रखते हुए मोनी उपवास का पूजा जिस दिन गोवर्धन पूजा होती है उस दिन इस व्रत को रखा जाता है 12 घंटे का उपवास रहता है और बड़े निष्ठा के साथ बंजारा समुदाय के लोग इस पूजा को और मोनी अमावस पूजा की जो विधि सनातन से चले आई है इसको मानते हुए और मनाते हुए चले आ रहे हैं यह हर दीपावली अमावस्य के दूसरे दिन गोवर्धन पूजा के दिन यह पूजा की जाती है  मवई विकासखंड के भाई बहन नाला ग्राम ग्राम के बंजारा समुदाय के लोग बड़ी श्रद्धा के साथ गोवर्धन पूजा को मोनी उपवास के साथ मनाते हैं मोनी उपवास में लगातार अपनी निष्ठा और शक्ति के साथ उपवास रहने वाले युवक बृजेश कुमार बंजारा, विष्णु बंजारा, रामू बंजारा, रामचंद्र बंजारा, और इस कार्यक्रम मैं लगातार अपनी कर्तव्यनिष्ठा निभाते हुए हमारे लालपुर ग्राम पंचायत के युवा सामाजिक कार्यकर्ता और सचिव राधेश्याम बंजारा साथ में राजकुमार पवार ,संदीप बंजारा, बीरेंद्र बंजारा और बंजारा समुदाय की माताएं बहने और बच्चे समस्त बंजारा समुदाय के लोग की उपस्थिति में आज इनके द्वारा गाय बैल बछड़ा जंगल में चराने के लिए मौन व्रत रखते हुए निकल गए हैं भाई  बहन  नाला में  यह व्रत लगातार कई पीढ़ियों से चलते आ रहा है और इसको अपनी निष्ठा के साथ महत्वपूर्ण नियम संयम के साथ निभा रहे हैं समझ बंजारा समुदाय के लोगों का सराहनीय सहयोग और योगदान रहता है इस पूजा विधि में।

No comments:

Post a Comment