आस्था के नाम पर ये कैसी परंपरा? मां-बाप ने बच्चों को गोबर में डाला....फिर - revanchal times new

revanchal times new

निष्पक्ष एवं सत्य का प्रवर्तक

Breaking

रेवांचल टाइम्स अखबार पाठकों से अनुरोध करता है कि आप अपने सुझाव हम तक जरूर भेजें.. ताकि आने वाले समय मे हम आपकी मदद से और भी बेहतर कार्य कर सकें... साथ ही यदि आपको लेख अच्छा लगे तो इसे ओरों तक भी पहुंचाए.. प्रकाशन हेतु ख़बरें, विज्ञप्ति मोबाइल- 9406771592 पर व्हाट्सएप्प करें

 आवश्कता है  आवश्कता है ....

रेवांचल टाईम्स समाचार पत्र एव वेव पोर्टल में मध्यप्रदेश के सभी संभाग, जिला, तहसील, विकास खंडों, में संवाददाताओं की एंव विज्ञापनों व खबरों से सबंधित व्यक्ति संपर्क करें इन नम्बरों में 👉 9406771592/ 9425117297/ 8770297430/9165745947

Saturday, November 6, 2021

आस्था के नाम पर ये कैसी परंपरा? मां-बाप ने बच्चों को गोबर में डाला....फिर



बैतूलः दीपावली के मौके भारत के अलग-अलग हिस्सों में अनोखी मान्यताएं और प्रथाएं भी देखी जा सकती है. मध्य प्रदेश के बैतूल जिले में भी अंधविश्वास के चलते एक ऐसी परंपरा हर साल मनाई जा रही है, जो हैरान करने वाली होती है. क्योंकि यहां गोवर्धन पूजा के दिन बच्चों को गोबर में डाला जाता है, इसके पीछे ग्रामीण अंचल के लोगों को तर्क रहता है कि ऐसा करने से बच्चे स्वस्थ रहते हैं. हर साल की तरह इस बार भी बैतूल जिले में यह परंपरा मनाई गई.

क्या बच्चों को गोबर में फेंकने से वे स्वस्थ्य हो सकते है, इसका जबाब भले ही ना हो. लेकिन मध्य प्रदेश के बैतूल में वर्षो से यही सब कुछ हो रहा है. यहां गोवर्धन पूजा के दौरान बच्चों को गोबर में फेंकने की परंपरा है. लोगों कि मान्यता है कि गोबर में डालने से बच्चे साल भर तंदुरुस्त रहते हैं. जबकि डॉक्टर इस परंपरा को खतरनाक बताते हैं, क्योंकि ऐसा करने से बच्चों के स्वास्थ्य पर असर पड़ सकता है. लेकिन गोबर के बीच रोते बिलखते मासूम बच्चो को देख किसी का भी दिल भर आये पर उनके मां बाप को ही उन पर दया नहीं आती.

परंपरा के पीछे ग्रामीणों ने दिया यह तर्क
दरअसल, बैतूल के कृष्णपुरा वार्ड में हर साल गोवर्धन पूजा पर बच्चों को गोबर में डाला जाता है. इस बार भी ऐसा ही हुआ. इस परंपरा के पीछे ग्रामीणों का तर्क है जिस तरह भगवान श्रीकृष्ण ने गोवर्धन पर्वत उठाकर ब्रजवासियों की रक्षा की थी. उसी तरह वह इन बच्चों की भी रक्षा करते हैं. समाज कि मान्यता हो गई कि गोवर्धन उनकी रक्षा करते है और इसी को लेकर बच्चो को गोबर में डाला जाता है. ये सब गांव में ही नहीं बल्कि शहर में भी हो रहा है. ऐसा भी नहीं की इसे अनपढ़ लोग करते हैं बल्कि शिक्षित लोग भी इस अंधविश्वास पर भरोसा करते है.

द्वापर से चली आ रही यह परंपराः स्थानीय
ऐसे में इस बार भी कई छोटे-छोट बच्चों को उनके ही मां-बाप ने गोबर के ढेर में अंदर तक दबा दिया. बच्चे रोते रहे लेकिन लोग मान्यता और परंपरा के नाम पर ऐसा करते हैं. इस परंपरा को लेकर एक स्थानीय ने कहा कि यह पुरानी परंपरा है. बच्चों को गोबर में डालने से वे साल भर निरोगी सुखी रहते हैं, मांगलिक कार्यों में भी गोबर लीप कर जगह को शुद्ध करते हैं आप तक इससे कोई इफेक्ट नहीं पड़ा है. यह द्वापर से चला रहा है, आज का विज्ञान कहता है कि इससे साइड इफेक्ट होते हैं पर हम पर भगवान का आशीर्वाद है इससे कभी कुछ नहीं होता.

वहीं इस मामले में डॉ नितिन देशमुख कहते हैं कि वैसे तो गोबर में बहुत सारे कीटाणु होते है, जो बच्चों के स्वास्थ्य पर विपरीत असर डालते है. लेकिन गोबर में वैक्टेरिया होता जिससे स्वांस संबंधी बीमारी के साथ चर्म रोग होता है जो बहुत ही घातक हो सकता है. इसलिए बच्चों को गोबर में नहीं डालना चाहिए. लेकिन डॉक्टर की सलाह को नजरअंदाज करके हर साल लोग यह परंपरा निभा रहे हैं.

No comments:

Post a Comment