इन बातों से ही जीवन में हर कदम पर मिलती है सफलता, जानिए क्या कहती है चाणक्य नीति - revanchal times new

revanchal times new

निष्पक्ष एवं सत्य का प्रवर्तक

Breaking

रेवांचल टाइम्स अखबार पाठकों से अनुरोध करता है कि आप अपने सुझाव हम तक जरूर भेजें.. ताकि आने वाले समय मे हम आपकी मदद से और भी बेहतर कार्य कर सकें... साथ ही यदि आपको लेख अच्छा लगे तो इसे ओरों तक भी पहुंचाए.. प्रकाशन हेतु ख़बरें, विज्ञप्ति मोबाइल- 9406771592 पर व्हाट्सएप्प करें

 आवश्कता है  आवश्कता है ....

रेवांचल टाईम्स समाचार पत्र एव वेव पोर्टल में मध्यप्रदेश के सभी संभाग, जिला, तहसील, विकास खंडों, में संवाददाताओं की एंव विज्ञापनों व खबरों से सबंधित व्यक्ति संपर्क करें इन नम्बरों में 👉 9406771592/ 9425117297/ 8770297430/9165745947

Monday, October 4, 2021

इन बातों से ही जीवन में हर कदम पर मिलती है सफलता, जानिए क्या कहती है चाणक्य नीति



वर्तमान में हर व्यक्ति सफलता पाना चाहता है। लेकिन कई बार गलत रणनीति के कारण अपने लक्ष्य को हासिल नहीं कर पाता है। आचार्य चाणक्य को महान बुद्धजीवी और रणनीतिकार माना जाता है। चाणक्य की नीतियां आज भी प्रासंगिक हैं, जिन्हें अपनाकर लोग जीवन में सफलता हासल करते हैं। मान्यता है कि चाणक्य की नीतियों को अपनाने वाले को अपने लक्ष्य को प्राप्त करने से कोई रोक नहीं सकता है।

चाणक्य ने नीति शास्त्र में ऐसी तीन बातों का जिक्र किया है, अगर व्यक्ति इन्हें जीवन में अपना ले तो वह कभी असफल नहीं होता। चाणक्य कहते हैं कि हारे हुए की सलाह, जीते हुए का अनुभव और खुद का दिमाग व्यक्ति को कभी हारने नहीं देते हैं। चाणक्य का अर्थ है कि व्यक्ति को सफल होने के लिए इन बातों का ध्यान रखना चाहिए।

हारे हुए की सलाह- जिस व्यक्ति से हार प्राप्त की हो, उसकी सलाह भी लाभकारी साबित हो सकती है। क्योंकि हारा हुआ व्यक्ति अपने अनुभवों को साझा करेगा, उन चीजों के बारे में बताएगा जो सफलता के बीच में बाधा बन सकती है।

जीते हुए का अनुभव- चाणक्य कहते हैं कि जीतने वाले व्यक्ति का अनुभव काफी मायने रखता है। लक्ष्य पाने के लिए जीते हुए व्यक्ति का अनुभव सफलता प्राप्ति के रास्ते को आसान बना देता है। जीतने वाले व्यक्ति ने किन मुश्किलों का सामना किया, वह भी साझा करेगा।

खुद का दिमाग- चाणक्य कहते हैं कि व्यक्ति को हर फैसला सोच-समझकर लेना चाहिए। दूसरों की बातों में आकर

फैसला लेने से बचना चाहिए। चाणक्य कहते हैं कि दूसरों की बातों को सुनना चाहिए, लेकिन फैसला खुद के दिमाग से लेना चाहिए।

No comments:

Post a Comment