बहुउद्देश्यीय खेती अपनाकर लाखों कमा रहे सूरज परंपरागत फसल के अलावा मिर्च, टमाटर एवं ककड़ी से बढ़ी आमदनी - revanchal times new

revanchal times new

निष्पक्ष एवं सत्य का प्रवर्तक

Breaking

रेवांचल टाइम्स अखबार पाठकों से अनुरोध करता है कि आप अपने सुझाव हम तक जरूर भेजें.. ताकि आने वाले समय मे हम आपकी मदद से और भी बेहतर कार्य कर सकें... साथ ही यदि आपको लेख अच्छा लगे तो इसे ओरों तक भी पहुंचाए.. प्रकाशन हेतु ख़बरें, विज्ञप्ति मोबाइल- 9406771592 पर व्हाट्सएप्प करें

 आवश्कता है  आवश्कता है ....

रेवांचल टाईम्स समाचार पत्र एव वेव पोर्टल में मध्यप्रदेश के सभी संभाग, जिला, तहसील, विकास खंडों, में संवाददाताओं की एंव विज्ञापनों व खबरों से सबंधित व्यक्ति संपर्क करें इन नम्बरों में 👉 9406771592/ 9425117297/ 8770297430/9165745947

Tuesday, October 19, 2021

बहुउद्देश्यीय खेती अपनाकर लाखों कमा रहे सूरज परंपरागत फसल के अलावा मिर्च, टमाटर एवं ककड़ी से बढ़ी आमदनी

मण्डला 19 अक्टूबर 2021





                विकासखण्ड मोहगांव के अंतर्गत ग्राम अमझर के सूरज धुर्वे अपने क्षेत्र में अब प्रगतिशील किसानों की श्रेणी में शामिल हैं। 32 वर्षीय सूरज कई वर्षों पूर्व तक परंपरागत खेती कर रहे थे लेकिन उद्यानिकी विभाग के सहयोग एवं खेती में नवाचार करने की ललक ने सूरज को अब सालाना लाखों रूपयों की आमदनी हो रही है। सूरज बताते हैं कि मैं पूर्व के वर्षों में परंपरागत तरीके से धान, गेहूं, अरहर एवं कोदो-कुटकी की खेती कर रहा था जिसमें मुझे औसतन 20 से 25 हजार रूपए सालाना आमदनी हो रही थी। मैंने अपने क्षेत्र के प्रगतिशील किसानों से चर्चा करते हुए उद्यानिकी विभाग से संपर्क किया एवं वैज्ञानिक खेती की प्रक्रिया को समझा।

                सूरज कहते हैं कि वैज्ञानिक खेती के तहत् मैंने अपने पुराने 0.80 हे. के रकबे में ही धान, गेहूं, अरहर के अलावा भी मिर्च, टमाटर एवं ककड़ी की खेती शुरू किया। ड्रिप एवं मल्चिंग तकनीक के द्वारा मेरा मुनाफा पहले की तुलना में काफी ज्यादा हुआ। अब मैं सालाना 2 से सवा 2 लाख रूपए तक का मुनाफा कमा रहा हूँ। उद्यानिकी विभाग ने बताया कि सूरज अपने कुल रकबे में से 0.20 हे. में लगभग् 2 टन टमाटर का उत्पादन कर रहे हैं तथा लगभग् 30 हजार रूपए की कमाई कर रहे हैं। इसी प्रकार 0.40 हे. में लगभग् 6.25 टन मिर्च का उत्पादन कर लगभग् 1 लाख 56 हजार रूपए एवं 0.20 हे. में लगभग् 3 टन ककड़ी का उत्पादन कर लगभग् 33 हजार रूपए की आमदनी प्राप्त कर रहे हैं। प्रगतिशील किसान बने सूरज अब अपने आसपास के किसानांे को भी वैज्ञानिक खेती की सलाह दे रहे हैं तथा उद्यानिकी विभाग की मदद से खेती के नवीन तरीकों को सीखते हुए अच्छी-खासी कमाई कर रहे हैं।

No comments:

Post a Comment