सिमैया में आश्चर्यचकित घटना माता रानी की करिश्मा का चमत्कार... - revanchal times new

revanchal times new

निष्पक्ष एवं सत्य का प्रवर्तक

Breaking

रेवांचल टाइम्स अखबार पाठकों से अनुरोध करता है कि आप अपने सुझाव हम तक जरूर भेजें.. ताकि आने वाले समय मे हम आपकी मदद से और भी बेहतर कार्य कर सकें... साथ ही यदि आपको लेख अच्छा लगे तो इसे ओरों तक भी पहुंचाए.. प्रकाशन हेतु ख़बरें, विज्ञप्ति मोबाइल- 9406771592 पर व्हाट्सएप्प करें

 आवश्कता है  आवश्कता है ....

रेवांचल टाईम्स समाचार पत्र एव वेव पोर्टल में मध्यप्रदेश के सभी संभाग, जिला, तहसील, विकास खंडों, में संवाददाताओं की एंव विज्ञापनों व खबरों से सबंधित व्यक्ति संपर्क करें इन नम्बरों में 👉 9406771592/ 9425117297/ 8770297430/9165745947

Thursday, October 14, 2021

सिमैया में आश्चर्यचकित घटना माता रानी की करिश्मा का चमत्कार...

 



रेवांचल टाईम्स -  जनपद पंचायत मोहगाँव अंतर्गत ग्राम पंचायत सिंगारपुर के पोषक  वन ग्राम सिमैया में एक आश्चर्यचकित घटना घटित हुई। यह घटना सार्वजनिक दुर्गा उत्सव समिति सिमैया पंचवटी में स्थापित माँ दुर्गा स्थल पर एक कौवा साँप को अपने चोंच में पकड कर माता रानी के दरबार में लाया और साँप को वहीं माता रानी के दरबार पर छोड़ कर चला गया। वह साँप माता रानी के ऊपर चढ़ गया और सबसे पहले माता रानी की हार बना, उसके बाद चूड़ी बनी,फिर बिंदिया बनी और तलवार बनी इस प्रकार से देवी जी की पूरा सिंगार बना कर दिखाई। यह घटना आज 13 अक्टूबर 2021 दिन बुधवार को सुबह 9:00 बजे की है 9:00 बजे कौआ ने उस साँप को लाकर छोड़ दिया फिर साँप ने माता रानी के दरबार से माता रानी के ऊपर चढ गया और वह लगभग 9:00 से 11:00 बजे तक माता रानी के साथ  रहा फिर 11:00 बजे पश्चात वह देखते देखते ही नीचे उतरा। इसके बाद वह माता के दरबार से लुप्त हो गया। लोगों के द्वारा इधर-उधर खोज बीन की गई लेकिन साँप का कहीं अता पता तक नहीं चला। माता रानी के दरबार में सिर्फ माता जी और साँप अपने चमत्कार दिखा रहे थे। उपस्थित सभी लोगों नें  इस प्रकार के आश्चर्यचकित घटना को देख कर अचंभित हो गए, एक दुसरे में कई प्रकार के चर्चाएं होने लगी कि इस प्रकार के घटना कैसे हुए क्या कारण है जो माता जी के ऊपर घटित हुई। इस प्रकार से ग्राम के सभी लोगों में चर्चा होती रही। सभी का यही कहना है कि यह सब माता रानी की ही महिमा है।

     जय माता दी

No comments:

Post a Comment