अब जिले मे ही तीन जगह होगा बच्चेदानी के मुख के प्री- कैंसर का इलाज... - revanchal times new

revanchal times new

निष्पक्ष एवं सत्य का प्रवर्तक

Breaking

रेवांचल टाइम्स अखबार पाठकों से अनुरोध करता है कि आप अपने सुझाव हम तक जरूर भेजें.. ताकि आने वाले समय मे हम आपकी मदद से और भी बेहतर कार्य कर सकें... साथ ही यदि आपको लेख अच्छा लगे तो इसे ओरों तक भी पहुंचाए.. प्रकाशन हेतु ख़बरें, विज्ञप्ति मोबाइल- 9406771592 पर व्हाट्सएप्प करें

 आवश्कता है  आवश्कता है ....

रेवांचल टाईम्स समाचार पत्र एव वेव पोर्टल में मध्यप्रदेश के सभी संभाग, जिला, तहसील, विकास खंडों, में संवाददाताओं की एंव विज्ञापनों व खबरों से सबंधित व्यक्ति संपर्क करें इन नम्बरों में 👉 9406771592/ 9425117297/ 8770297430/9165745947

Monday, October 4, 2021

अब जिले मे ही तीन जगह होगा बच्चेदानी के मुख के प्री- कैंसर का इलाज...



रेवांचल टाईम्स - सिविल अस्पताल चांदामेटा मे डॉ. रेनू सिंह वरिष्ठ स्त्री रोग विशेषज्ञ द्वारा आज दिनांक ०४/१०/२०२१ को स्त्रीरोग विभाग मे महिलाओं के बच्चेदानी के मुख के प्री-कैंसर की जांच एवं इलाज की शुरुवात की गई है| इस प्रकार छिन्दवाड़ा जिला मे अब बच्चेदानी के मुख के प्री- कैंसर का इलाज की सुविधा जिला अस्पताल सम्बद्ध मेडिकल कॉलेज, जिला अस्पताल एवं सिविल अस्पताल चांदामेटा मे उपलब्ध हो पायेगी|  

महिलाओं के बच्चेदानी के मुख के प्री कैंसर की जाँच वी. आई. ए. की विधि,व्ही.ली की विधी और काॕलपोस्कोपी द्वारा अब से छिंदवाडा जिले मे जिला अस्पताल मे उपलब्ध हो गई है!जिले के सभी सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्रों मे अब व्ही.आई.ए की विधी उपलब्ध हो गई है|  महिलाओं के बच्चेदानी के मुख के प्री कैंसर के जाँच के बाद निश्चित पुष्टिकरण की सुविधा मेडिकल कॉलेज मे एवं जिला अस्पताल मे शुरू हो गई है| किसी महिला मे यदि बच्चेदानी के मुख के प्री-कैंसर के लक्षण पाये जाते है तो इलाज भी अब जिला अस्पताल मे ही  उपलब्ध हो सकेगा| इसके पहले महिलाओं के बच्चेदानी के मुख के प्री- कैंसर की जाँच एवं इलाज की  सुविधा के लिये अन्य मेडिकल कॉलेज में भेजना पडता था !

जिन ३० से ६५ वर्ष की महिलाओं मे माहवारी के बीच रक्तस्त्राव, माहवारी की अवधि सामान्य से अधिक एवं भारी रक्तस्त्राव, रजोनिवृत्ती  के पश्चात भी रक्तस्त्राव, सम्भोग के दौरान दर्द या रक्तस्त्राव, असामान्य रूप से खून के साथ स्त्राव, पीठ में दर्द, थकान, पैरों में दर्द एवं पेशाब करने के दौरान दर्द पाया जाता है उन महिलाओंको तुरंत नजदीकी स्वास्थ्य केंद्र मे जाकर अपनी व्ही. आई. ए. की विधि से जाँच करवानी चाहिए| ३० से ६५ वर्ष की सभी महिलाओं ने  स्त्री स्वास्थ्य सम्बन्धी लक्षण हो या ना होने पर भी प्रत्येक 5 वर्ष में व्ही. आई. ए. की विधि से जाँच कराना चाहिए|

No comments:

Post a Comment