नही थमता नजर आ रहा है रेत का काला कारोबार, नगर सहित ग्रामीण क्षेत्रों में तेजी फल फूल रहा है अबैध कारोबार.. - revanchal times new

revanchal times new

निष्पक्ष एवं सत्य का प्रवर्तक

Breaking

रेवांचल टाइम्स अखबार पाठकों से अनुरोध करता है कि आप अपने सुझाव हम तक जरूर भेजें.. ताकि आने वाले समय मे हम आपकी मदद से और भी बेहतर कार्य कर सकें... साथ ही यदि आपको लेख अच्छा लगे तो इसे ओरों तक भी पहुंचाए.. प्रकाशन हेतु ख़बरें, विज्ञप्ति मोबाइल- 9406771592 पर व्हाट्सएप्प करें

 आवश्कता है  आवश्कता है ....

रेवांचल टाईम्स समाचार पत्र एव वेव पोर्टल में मध्यप्रदेश के सभी संभाग, जिला, तहसील, विकास खंडों, में संवाददाताओं की एंव विज्ञापनों व खबरों से सबंधित व्यक्ति संपर्क करें इन नम्बरों में 👉 9406771592/ 9425117297/ 8770297430/9165745947

Wednesday, October 27, 2021

नही थमता नजर आ रहा है रेत का काला कारोबार, नगर सहित ग्रामीण क्षेत्रों में तेजी फल फूल रहा है अबैध कारोबार..







रेवांचल टाईम्स - जिला मुख्यालय से लेकर आस पास के ब्लाकों में अवैध रेत का कारोबार इन दिनों जम कर फल फूल रहा है, जिससे सरकार भी सरकारी राजस्व की हानि तो पहुचाई जा रही है, और सबंधित विभाग की अनदेखी या कहे की देख कर भी अनजान बनाना। 

           मंडला जिला मुख्यालय से लेकर आस पास के अनेक ग्रामीण अंचलों में जगह रेत के बिगर अनुमति के अवैध भंडारण करके रेत को टेक्ट्रर ट्राली में बेची जा रही है, जबकि इन रेत माफियो के पास खनिज विभाग से रेत भंडारण करने के लिए कोई अनुमति नही है, और जिन के द्वारा अनुमति नाम की कोई चीज ली गई है जहाँ पर रेत आता जा रहा है और टेक्टर ट्राली में बिकता जा रहा है, और भंडारण जिस की तस है या कहे कि कुबेर का खजाना है जो कभी कम ही नही पड़ता भंडारण किये रेत कभी कम नही पड़ती है और रोजना ही गाँव गाँव नगर नगर में ट्रक्टरो से पहुँचाई जा रही है और रॉयल्टी के नाम पर केवल ठेकेदारों के द्वारा स्वयं के द्वारा जारी पर्ची दी जा रही है एक ही पर्ची में पाँच से लेकर दस बार रेत लेजाया जा रहा पर किसको क्या पड़ी की उन ट्रेक्टरों को चैक कर कार्यवाही कर दे अगर कोई जाँच की कार्यवाही की गई तो उन रेत चोर और ट्रेक्टर संचालक को गोद लिए जिले के जिम्मेदार जनप्रतिनिधियों के फोन के ऊपर फोन किये जाते है और आखिरकार  अपनी नोकरी को दाव में लगते देख कार्यवाही की खाना पूर्ति करते हुए छोड़ दिया जाता है। क्योंकि गोंद लिए जनप्रतिनिधियों ने कसम खा रखी कि जिले का और जिले में निवासरत जनता का विकास हो या न पर उनकी सात पीढ़ियों के विकास करना तय है   


सूत्रों की माने तो जिले में रेत की स्वीकृत खदानों से रेत कम निकाली जा रही वही बिना स्वीकृत रेत खदानों से रेत धड़ल्ले से लेबरों और मशीनों से निकाली जा है और विभाग को सब पता है पर करें भी तो क्या क्योंकि रेत माफियाओं के आकाओ ने तय कर रखा कि ठेकेदार जो करे उन्हें करने दे नही खैर नही वही कुछ रेत माफ़िया तो वर्तमान सरकार के बड़े बड़े पद लेकर बैठे है और जिले के बड़े बड़े नेताओ के साथ अपनी फोटो फेलेक्स लगा दिए है और नगर के हर तिराहों में लगा दिए है। जब जनप्रतिनिधियों के करीबी जबाबदार ही माफ़ियाओ से साठ गाठ कर अबैध कार्यो में लिप्त होंगे तो तो कौन कार्यवाही कर सकता है।

       वही विकास खंड घुघरी ग्राम मांगा के पास में और जगह जगह रेत का अबैध भंडारण किया गया है मोहगांव के टेडियानाला के पास भी रेत का अबैध भंडारण किया गया साथ ही विकास खण्ड के ग्राम बागली, नारादिवरा मांद सुर्पन नदी से दिन में तो दिन में पर शाम होते ही ट्रक्टरो का जमघट लग जाता है वही नैनपुर विकास खण्ड के इन्द्री में इन दिनों रेत का अबैध कारोबार अपने पूरे शबाब में है और इन ठेकेदारों के द्वारा विभाग से जारी रायल्टी नही देते हुए स्वंम के द्वारा जारी पर्ची दी जा रही है जिससे सरकार की राजस्व को हानि पहुचाई जा रही है, जिला मुख्यालय से लेकर आस पास टेक्टर ट्राली में बिकने वाली रेत को कोई जांच करने वाला ही नही है, साथ ही इन अवैध भंडारण करने वालो को कोई देखने वाला भी नही है, आखिर इस अवैध रेत का अवैध कारोबार को कौन दे रहा है संरक्षण? आखिर क्यों नही की जा रही है कार्यवाही आखिर जिम्मेदार क्यो है मौन जबाबदार आखिर जबाब देने से क्यो बचते है? सवाल अनेक है लेकिन शायद जिले में इसका जबाब कोई नही दे सकता, जिसके कारण प्रधानमंत्री आवास योजनाओं में बन रहे मकानों में गरीबो को 6 हजार रु से 8 हज़ार रुपये तक कि रेत ट्राली लेनी पड़ रही है वह रेत भी चोरी की खरीदना पड़ रहा है, यानी खुलेआम गरीबो से लूट, वाह रे सिस्टम, सच है लेकिन कडुआ है।

No comments:

Post a Comment