अटल प्रगति पथ एक्सप्रेस-वे ग्वालियर-चंबल संभाग के विकास की जीवन रेखा साबित होगी- कमिश्नर श्री सक्सेना... - revanchal times new

revanchal times new

निष्पक्ष एवं सत्य का प्रवर्तक

Breaking

रेवांचल टाइम्स अखबार पाठकों से अनुरोध करता है कि आप अपने सुझाव हम तक जरूर भेजें.. ताकि आने वाले समय मे हम आपकी मदद से और भी बेहतर कार्य कर सकें... साथ ही यदि आपको लेख अच्छा लगे तो इसे ओरों तक भी पहुंचाए.. प्रकाशन हेतु ख़बरें, विज्ञप्ति मोबाइल- 9406771592 पर व्हाट्सएप्प करें

 आवश्कता है  आवश्कता है ....

रेवांचल टाईम्स समाचार पत्र एव वेव पोर्टल में मध्यप्रदेश के सभी संभाग, जिला, तहसील, विकास खंडों, में संवाददाताओं की एंव विज्ञापनों व खबरों से सबंधित व्यक्ति संपर्क करें इन नम्बरों में 👉 9406771592/ 9425117297/ 8770297430/9165745947

Tuesday, October 5, 2021

अटल प्रगति पथ एक्सप्रेस-वे ग्वालियर-चंबल संभाग के विकास की जीवन रेखा साबित होगी- कमिश्नर श्री सक्सेना...

 

रेवांचल टाईम्स - ग्वालियर-चंबल संभाग के कमिश्नर आशीष सक्सेना ने कहा है कि अटल प्रगति पथ एक्सप्रेस-वे ग्वालियर-चंबल संभाग के विकास की जीवन रेखा साबित होगी। इस 313 किलोमीटर लम्बाई के एक्सप्रेस-वे के आसपास इंडस्ट्रियल कोरिडोर का निर्माण कराया जायेगा, जो क्षेत्र के आर्थिक विकास की महत्वपूर्ण कड़ी बनेगा। कमिश्नर श्री सक्सेना सोमवार को मुरैना के चंबल भवन में अधिकारियों की बैठक को संबोधित कर रहे थे।   

उल्लेखनीय है कि इस मार्ग के निर्माण से झांसी, उत्तरप्रदेश से राजस्थान का एक प्रमुख नया मार्ग जुड़ेगा, जो मध्यप्रदेश के 3 जिलों को लाभान्वित करेगा। इन दोंनो बिन्दुओं की दूरी भी लगभग 50 किलोमीटर की बचत होगी। इस एक्सप्रेस-वे के बनने में आवागमन से लगने वाला 11 घंटे का समय घटकर 6 घंटे तक हो जायेगा। 

कमिश्नर श्री सक्सेना ने बताया कि लगभग 8 करोड़ रूपये से अधिक इस परियोजना पर व्यय होना संभावित है। 3 हजार 281 हेक्टेयर कुल भूमि का अधिग्रहण मुरैना, भिण्ड और श्योपुर से किया जाना है। इसमें एक हजार 523 हेक्टेयर भूमि शासकीय, 1 हजार 487 हेक्टेयर भूमि निजी रहेगी। 270 हेक्टेयर भूमि वन विभाग की रहेगी, जिसका अधिग्रहण किया जाना है। इस परियोजना के तहत मुरैना, भिण्ड और श्योपुर जिले में 7 मुख्य सेतु, 2 आरओबी, 5 एचटी लाइन का विस्थापन किया जायेगा। मध्यप्रदेश सड़क विकास निगम की प्री फिजिविलिटी रिपोर्ट का राज्य शासन द्वारा पूर्व में ही अनुमोदन किया जा चुका है। इस एक्सप्रेस-वे को भारत माला परियोजना में शामिल करने से समूचे ग्वालियर-चंबल संभाग का चहुमुखी विकास होगा और यह प्रोजेक्ट इस अंचल की अर्थव्यवस्था के लिये मील


का पत्थर साबित होगी।

No comments:

Post a Comment