MP में 15 सितम्बर से विश्वविद्यालय- महाविद्यालयों में विद्यार्थियों की 50 प्रतिशत उपस्थिति में लगेंगी क्लास, लेकिन करना होगा इन शर्तों का पालन - revanchal times new

revanchal times new

निष्पक्ष एवं सत्य का प्रवर्तक

Breaking

रेवांचल टाइम्स अखबार पाठकों से अनुरोध करता है कि आप अपने सुझाव हम तक जरूर भेजें.. ताकि आने वाले समय मे हम आपकी मदद से और भी बेहतर कार्य कर सकें... साथ ही यदि आपको लेख अच्छा लगे तो इसे ओरों तक भी पहुंचाए.. प्रकाशन हेतु ख़बरें, विज्ञप्ति मोबाइल- 9406771592 पर व्हाट्सएप्प करें

 आवश्कता है  आवश्कता है ....

रेवांचल टाईम्स समाचार पत्र एव वेव पोर्टल में मध्यप्रदेश के सभी संभाग, जिला, तहसील, विकास खंडों, में संवाददाताओं की एंव विज्ञापनों व खबरों से सबंधित व्यक्ति संपर्क करें इन नम्बरों में 👉 9406771592/ 9425117297/ 8770297430/9165745947

Friday, September 10, 2021

MP में 15 सितम्बर से विश्वविद्यालय- महाविद्यालयों में विद्यार्थियों की 50 प्रतिशत उपस्थिति में लगेंगी क्लास, लेकिन करना होगा इन शर्तों का पालन



भोपाल: मध्य प्रदेश में कोरोना के चलते लम्बे समय से बंद कॉलेजों, यूनिवर्सिटी को ऑफलाइन मोड में कक्षाओं को फिर से खोलने की मंजूरी मिल गई है. ये सभी 15 सितंबर 2021 से फिर से खुलेंगे. जबकि सत्र 2021-2022 के एकेडमिक कैलेंडर के अनुसार शैक्षणिक गतिविधि 1 सितंबर से शुरू हो चुकी हैं. जारी दिशा-निर्देशों के अनुसार, छात्रों को केवल 50% क्षमता पर कक्षाओं में भाग लेने की अनुमति होगी, जबकि टीचिंग और नॉन टीचिंग स्टाफ की 100 प्रतिशत उपस्थिति होगी

कॉलेज में संपर्क कर पूछताछ करें
कॉलेज और छात्रावास खोलने के लिए उच्च शिक्षा विभाग स्तर पर तो निर्णय ले लिया गया है लेकिन अंतिम निर्णय स्थानीय स्तर पर संबंधित जिले के प्रशासन की मंजूरी के बाद ही लिया जा सकेगा. इसलिए विद्यार्थियों को कॉलेज पहुंचने से पहले कॉलेज में संपर्क कर पूछताछ कर लेनी चाहिए कि उनके जिले में कॉलेज छात्रावास खुले है या नहीं.

वैक्सीन का प्रमाण पत्र अनिवार्य
बता दें कि शैक्षणिक और गैर शैक्षणिक स्टाफ की शत-प्रतिशत उपस्थिति होगी. विद्यार्थियों को कोविड-19 वैक्सीन के पहले डोज का प्रमाण पत्र जमा करना अनिवार्य होगा. इसके बाद ही कक्षाओं में बैठने की मंजूरी मिलेगी. साथ ही विद्यार्थियों के अध्ययन के लिए लाइब्रेरी भी खोली जाएगी. यहां अध्ययन कक्ष की कुल क्षमता 50 फीसदी होगी. विश्वविद्यालयों और महाविद्यालयों में छात्रावास चरणबद्ध तरीके से खोले जाएंगे. 
उच्च शिक्षा विभाग ने जारी किये निर्देश
- छात्रावास में बाहरी लोगों के प्रवेश पर रोक
- छात्रावास परिसर में सोशल डिस्टेंसिंग सैनिटाइजेशन एवं सभी विद्यार्थियों की थर्मल स्क्रीनिंग सुनिश्चित करने के आदेश.
- डाइनिंग हॉल रसोई स्नानागार शौचालय की स्वच्छता की सतत निगरानी होगी.
- छात्रावास में विद्यार्थियों और स्थानीय स्टाफ को छोड़कर भाई लोगों का को प्रवेश नहीं दिया जाएगा.
- विद्यार्थियों की घोषणा पत्र एवं माता-पिता या अभिभावकों की लिखित सहमति के आधार पर ही विद्यार्थियों को छात्रावास में प्रवेश दिया जाएगा.
- भोजन कक्ष में विद्यार्थियों को छोटी-छोटी बैच में भोजन उपलब्ध कराया जाएगा.
- भोजन बनाने और खाना परोसने वाले स्टाफ को फेस कवर मास्क का उपयोग हाथों को सैनिटाइज करना अनिवार्य होगा.

No comments:

Post a Comment