विकास खण्ड मोहगांव अंतर्गत ग्राम पंचायत सुड़गांव में आज ऋषि पंचमी का पर्व मनाया गया - revanchal times new

revanchal times new

निष्पक्ष एवं सत्य का प्रवर्तक

Breaking

रेवांचल टाइम्स अखबार पाठकों से अनुरोध करता है कि आप अपने सुझाव हम तक जरूर भेजें.. ताकि आने वाले समय मे हम आपकी मदद से और भी बेहतर कार्य कर सकें... साथ ही यदि आपको लेख अच्छा लगे तो इसे ओरों तक भी पहुंचाए.. प्रकाशन हेतु ख़बरें, विज्ञप्ति मोबाइल- 9406771592 पर व्हाट्सएप्प करें

 आवश्कता है  आवश्कता है ....

रेवांचल टाईम्स समाचार पत्र एव वेव पोर्टल में मध्यप्रदेश के सभी संभाग, जिला, तहसील, विकास खंडों, में संवाददाताओं की एंव विज्ञापनों व खबरों से सबंधित व्यक्ति संपर्क करें इन नम्बरों में 👉 9406771592/ 9425117297/ 8770297430/9165745947

Saturday, September 11, 2021

विकास खण्ड मोहगांव अंतर्गत ग्राम पंचायत सुड़गांव में आज ऋषि पंचमी का पर्व मनाया गया







 रेवांचल टाइम्स - ग्राम के सभी देवी, देवता, खिला मुठावा, पाठ पीढ़ा, मेढ़ो, खैरखुट पाठ बाबा, भुर्सा पाठ, कैरी के देवता भेयी भुईया ,बड़ा देव ,बजरंग बली 

 हिंदू पंचाग में भाद्रपद मास के शुक्ल पक्ष की पंचमी को ऋषि पंचमी मनाई जाती है. वैसे हर साल गणेश चतुर्थी  के अगले दिन ही ऋषि पंचमी का पर्व मनाया जाता है. सनातन धर्म में ऋषि पंचमी का विशेष महच्व है. इस दिन सप्त ऋषियों की पूजा-अर्चना की जाती है. ऋषि पंचमी त्योहार नहीं बल्कि व्रत के रूप में मनाई जाती है. जाने-अनजाने हुई गलतियों और भूल से मुक्ति पाने के लिए लोग ये व्रत जरूर करते हैं. मान्यता है कि इस दिन जो भी व्यक्ति ऋषियों की पूजा-अर्चना और स्मरण करता है उन्हें  पापों से मुक्ति मिल जाती है. कहते हैं हरतालिका तीज  के दो दिन और गणेश चतुर्थी के एक दिन बाद ये पर्व मनाया जाता है. इस बार ये 11 सितंबर को मनाया जाएगा. आइए जानते हैं इस साल ऋषि पंचमी का पर्व का शुभ मुहूर्त और महत्व क्या है.



ऋषि पंचमी शुभ मुहूर्त 

ऐसा माना जाता है कि ऋषि पंचमी का व्रत करने से अगर किसी महिला से रजस्वला (महामारी) के दौरान अगर


कोई भूल हो जाती है, तो इस व्रत को करने उस भूल के दोष को समाप्त किया जा सकता है. ऋषि पंचमी के व्रत और पूजा की खास बात ये है कि इसे करने के लिए किसी खास समय की जरूरत नहीं है. शुभ मुहूर्त 11 सितंबर को ऋषि पंचमी के लिए पूरा दिन ही शुभ है. आप किसी भी समय पूजा आदि कर सकते हैं.  



ऋषि पंचमी के करें इनकी पूजा 

पारंपरिक रूप से ऋषि पंचमी के दिन सप्त ऋषियों की पूजा की जाती है. सप्त ऋषि मतलब सात ऋषि. इन सात ऋषियों के नाम हैं- ऋषि कश्यप, ऋषि अत्रि, ऋषि भारद्वाज, ऋषि विश्वमित्र, ऋषि गौतम, ऋषि जमदग्नि और ऋषि वशिष्ठ. कहते हैं सामज के उत्थान और कल्याण के लिए इन ऋषियों ने अपना सहयोग दिया था. उनके इस महत्वपूर्ण योगदान के प्रति सम्मान जताने के लिए ऋषि पंचमी के दिन व्रत और पूजा-अर्चना की जाती है. 

 ऋषि पंचमी हिन्दुओं का एक प्रमुख त्योहार है। इस दिन नाग देवता या सर्प की पूजा की जाती है और उन्हें दूध से स्नान कराया जाता है। लेकिन कहीं-कहीं दूध पिलाने की परम्परा चल पड़ी है। जिसमें ग्रामवासी ने एक जुटता हो ऋषि पंचमी का तैहार मनाया गया और ग्राम के सदस्य पंडा पिरमा कोर्राम ,गोकाल परते, संतोष मरकाम , ढोलक मास्टर प्रेमसिंह सैयाम, टिमकी वादक मंगल धुर्वे , बारुवा सीता राम सैयाम, पोहाप सिंह भावेदी, चैनसिंह मलगाम , ग्राम के सदस्य कल्याण परते पारमा सिंह परते ,हनुमान, लाखन सिंह, चैतू सिंह कोर्राम, गोपाल सिंह , सुखदीन मलगाम गाया दास सोनवानी शोभेलाल  हन्नु सिंह जयपाल मार्को पहल सिंह मार्को सुखलाल सैयाम फग्गन सिंह मरावी न्यूज़ रिपोर्टर इन्द्रमेन मार्को  आदि सदस्य उपस्तिथ रहे

No comments:

Post a Comment